अब कैसी है कोरोना संक्रमित डोनाल्ड ट्रंप की तबीयत? जानिए कब होंगे वाइट हाउस में शिफ्ट

Spread the love


वॉशिंगटन
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की तबीयत को लेकर जारी अफवाहों के बीच उनका इलाज कर रहे डॉक्टरों ने बयान जारी किया है। उन्होंने कहा है कि राष्ट्रपति ट्रंप की हालत में तेजी से सुधार हो रहा है। शुक्रवार सुबह से उन्हें बुखार नहीं आया है। खून में ऑक्सीजन की मात्रा भी अब तेजी से बढ़ रही है। डॉक्टरों ने यह भी कहा कि वे सोमवार को वाइट हाउस वापस आ सकते हैं। अभी उनका इलाज अमेरिकी सेना के वॉल्टर रीड मेडिकल सेंटर अस्पताल में चल रहा है।

डेक्सामेथासोन और रेमेडिसविर से किया जा रहा इलाज
डॉक्टरों ने बताया कि फेफड़े की बीमारी से जूझ रहे राष्ट्रपति ट्रंप को गुरुवार और शुक्रवार को दो बार सप्लीमेंटरी ऑक्सीजन दी गई थी। इसके अलावा ट्रंप को डेक्सामेथासोन की डोज भी दी गई। डेक्सामेथासोन को ऑक्सीजन की कमी से जूझ रहे मरीजों के उपचार में प्रभावी माना गया है। डॉ ब्रायन गैरीबाल्डी ने कहा कि ट्रंप को ऑक्सीजन की कमी के कारण डेक्सामेथासोन दिया गया है। उन्होंने इसकी पहली खुराक गुरुवार को ली थी और हमारी योजना इसे अभी जारी रखने की है।

ट्रंप के स्वास्थ्य में हो रहा सुधार
वाल्टर रीड नेशनल मिलिट्री मेडिकल सेंटर में डॉ सीन पी कॉनले ने कहा कि उनका स्वास्थ्य लगातार सुधर रहा है। उन्हें शुक्रवार से बुखार नहीं आया है। रेमेडिसविर दवा की पांच दिनों का कोर्स पूरा करने के बाद उनकी लीवर और किडनी सही तरीके से काम कर रहे हैं। इसके अलावा ट्रंप को जिंक, विटामिन डी, फैमोटिडाइन, मेलाटोनिन और एस्पिरिन भी दी जा रही है।

ट्रंप को दी गई कोरोना की एक्सपेरिमेंटल दवा
ट्रंप को कोरोना वायरस की एक्सपेरिमेंटल दवा REGN-COV2 (पॉलीक्लोनल एंटीबॉडी ) भी दी जा रही है। इसे अमेरिकी दवा निर्माता रेजेनरॉन ने बनाया है। इस दवा को कोरोना वायरस एंडीबॉडीज की कई दवाओं को मिलाकर तैयार किया गया है। वहीं, ब्रिटेन में भी इस दवा का उपयोग रिकवरी ट्रायल के लिए किया जा रहा है। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के एक प्रोफेसर ने इस दवा को बहुत सकारात्मक और बहुत शक्तिशाली बताया है।

जितना बताया गया, उससे ज्यादा खराब थी डोनाल्ड ट्रंप की हालत, वाइट हाउस ने स्वीकारा सच

तबीयत बिगड़ने पर ट्रंप को किया गया भर्ती
वाइट हाउस के चीफ ऑफ स्टाफ मार्क मीडोज ने कहा कि राष्ट्रपति ट्रंप की सेहत शुक्रवार को जितनी बताई गई थी उससे कहीं ज्यादा खराब थी। तेज बुखार और खून में कम होते आक्सीजन के कारण डॉक्टरों ने ट्रंप को अस्पताल में भर्ती होने की सलाह दी थी।

अगर डोनाल्ड ट्रंप अचानक राष्ट्रपति पद की उम्मीदवारी छोड़ दें तो क्या होगा?

मीडोज ने बताया ट्रंप की वास्तविक हाल
मीडोज ने शनिवार रात को फॉक्स न्यूज से बातचीत के दौरान कहा कि सबसे बड़ी बात यह है कि उन्हें अब बुखार नहीं है। उनके शरीर में अब ऑक्सीजन की मात्रा भी पहले से ज्यादा हुई है। कल सुबह हम वास्तव में इससे चिंतित थे। उन्हें बुखार था और उनका ऑक्सीजन स्तर तेजी से गिरा था। इसके बावजूद राष्ट्रपति ट्रंप खड़े थे और टहल रहे थे।

डोनाल्ड ट्रंप को दी जा रही कोरोना वायरस की नई दवा, दिखा रही जादुई असर

इस कारण ट्रंप पर भारी कोरोना
विशेषज्ञों का कहना है कि अधिक आयु, पुरुष होना और पहले से अन्य बीमारिया आदि जोखिम बढ़ा देते हैं और ट्रंप में ये बातें हैं। कनेक्टिकट विश्वविद्यालय के डॉ डेविड बानाच ने कहा कि ट्रंप की उम्र 74 वर्ष है जो जोखिम का प्राथमिक कारक है। इसके अलावा उनका वजन भी अधिक है।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *