अमेरिका में आकाश से हुई मरे पक्षियों की ‘बारिश’, विनाश की आशंका से सहमे लोग

Spread the love


अमेरिका के फिलाडेल्फिया शहर में 72 साल बाद हुई एक घटना से स्‍थानीय लोग दहशत में आ गए। फिलाडेल्फिया शहर में 1500 से ज्‍यादा प्रवासी पक्षी दो अक्‍टूबर को अचानक से गिरने लगे। बाद में इनमें से ज्‍यादातर की मौत हो गई। ये पक्षी सर्दियों के मौसम से पहले दक्षिण की ओर जा रहे थे। बताया जा रहा है कि इस तरह की घटना इससे पहले वर्ष 1948 में हुई थी। पक्षियों के अचानक मरने से लोग दहशत में हैं।

‘आकाश से गिर रहे थे हजारों पक्षी, यह विनाशकारी घटना’

फिलाडेल्फिया में वन्‍यजीवों के लिए काम करने वाले कार्यकर्ता स्‍टीफन मैसिजेवस्‍की ने इस बारे में कहा, ‘कई पक्षी आकाश से गिर रहे थे, हम नहीं जानते हैं कि क्‍या हो रहा है। यह निश्चित रूप से विनाशकारी घटना है। इससे पहले इस तरह की घटना वर्ष 1948 में हुई थी।’ स्‍टीफन ने बताया कि दो अक्‍तूबर को सुबह 5 बजे से 8 बजे के बीच में उन्‍होंने 400 पक्षियों को इकट्ठा किया था।

​’सड़क पर इतने ज्‍यादा पक्षी पड़े थे कि उठा नहीं सका’

स्‍टीफन ने कहा, ‘वहां कई थे और मुझे एकबार में 5 पक्षियों को उठाना पड़ रहा था। मेरे सामने ही एक बिल्डिंग में सफाई का काम करने वाले व्‍यक्ति ने 75 से ज्‍यादा जिंदा या मरे हुए प्रवासी पक्षियों को मेरे सामने रख दिए। उसे लगा कि मैं इन्‍हें इकट्ठा करने आया हूं। वहां पर इतने ज्‍यादा पक्षी थे कि मैं उन्‍हें उठा नहीं सका।’ इस दौरान मैंने प्रत्‍येक पक्षी के उड़ान के रास्‍ते, समय और स्‍थान के प्रभाव को नोट किया।

ऊंची-ऊंची इमारतों में फंसने से हुई पक्षियों की मौत!

माना जा रहा है कि ये पक्षी कनाडा और अन्‍य जगहों की ओर जाते समय ऊंची-ऊंची इमारतों में फंस गए और गिर गए। विशेषज्ञों का कहना है कि इलाके में अचानक से तापमान में तेजी से गिरावट आया है जिससे पक्षी अब इतने विशाल तादाद में फिलाडेल्फिया से दूसरी जगहों की ओर जा रहे हैं। स्‍थानीय मीडिया के मुताबिक कई पक्षी इमारतों के शीशों से टकरा गए। इससे पहले अमेरिकी संसद में एक बिल पेश किया गया था जिसमें कहा गया था कि अधिक ऊंचाई पर इमारतों में शीशे का इस्‍तेमाल नहीं किया जाए। स्‍टीफन ने कहा कि शीशे लगी इमारतों से इन पक्षियों के अस्तित्‍व को खतरा हो गया है।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *