अमेरिका: सुप्रीम कोर्ट की जस्टिस गिंसबर्ग का निधन, ट्रंप-ओबामा सहित कई नेताओं ने जताया दुख

Spread the love


वॉशिंगटन
अमेरिका के सुप्रीम कोर्ट की न्यायाधीश जस्टिस रूथ बेडर गिंसबर्ग का कैंसर से शुक्रवार को निधन हो गया। वह 87 वर्ष की थीं और उन्हें महिला अधिकार और सामाजिक न्याय का पुरोधा माना जाता है। अमेरिका की शीर्ष अदालत में न्यायाधीश के पद पर पहुंचने वाली गिंसबर्ग दूसरी महिला थीं। उन्होंने पूरी जिदंगी लैंगिक समानता की वकालत की और उनकी ख्याति सतर्क और संयमित न्यायाधीश की रही।

अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस ने जताया दुख
सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस जॉन रॉबर्ट ने उनके निधन पर कहा कि हमारे देश ने ऐतिहासिक कद की न्यायमूर्ति को खो दिया। हमने सुप्रीम कोर्ट में एक प्यारी साथी को खो दिया। आज हम शोकाकुल हैं लेकिन इस भरोसे के साथ की आने वाली पीढ़ी जस्टिस रूथ बेडर गिंसबर्ग को वैसे ही याद करेगी जैसा हम- न्याय के लिए अथक प्रयास करने वाली और दृढ़ महिला के रूप – जानते हैं।

बिल क्लिंटन ने गिन्सबर्ग को बनाया था सुप्रीम कोर्ट का जज
गौरतलब है कि डेमोक्रेटिक पार्टी के राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने गिंसबर्ग को अमेरिका के सुप्रीम कोर्ट में न्यायाधीश पद पर नामित किया था। वह करीब 27 साल से इस पद पर थीं और कुछ साल से कैंसर से पीड़ित थीं। गिंसबर्ग की मौत तीन नवंबर को राष्ट्रपति चुनाव से 50 दिन से भी कम समय पहले हुई है। इससे राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उनके प्रतिद्वंद्वी डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार एवं पूर्व उप राष्ट्रपति जो बाइडेन के बीच नया मोर्चा खुलने की उम्मीद है।

ट्रंप बोले अद्भुत महिला थीं गिन्सबर्ग
राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि आप चाहे उनसे सहमत हो या नहीं, वह एक अद्भुत महिला थीं, जिन्होंने अद्भुत जीवन जिया। पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने गिंसबर्ग को अथक याचिकाकर्ता और निर्णायक न्यायविद करार दिया। इस बीच, हिल अखबार ने अज्ञात स्रोतों के हवाले से कहा है कि सीनेट में रिपब्लिकन पार्टी का नेतृत्व उम्मीद कर रहा है कि ट्रम्प सर्किट न्यायाधीश एमी कोने बैरेट और अमूल थापर का नाम इस पद के लिए आगे करेंगे।

भारतीय मूल के अमूल थापर बनाए जा सकते हैं जज
वर्ष 2016 के चुनाव से पहले भारतीय अमेरिकी थापर को ट्रंप ने उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश पद पर नामांकित करने के लिए चुना था। मौजूदा समय में वह छठे सर्किट की अपीली अदालत में कार्यरत हैं। वहीं सीनेट में बहुमत के नेता मिच मैक्कॉनेल ने कहा कि राष्ट्रपति ट्रंप द्वारा जिसे में भी नामित किया जाता है सीनेट उसपर यथाशीघ्र मतदान करने को इच्छुक है। बाइडेन ने इसपर असहमति जताई है। उन्होंने कहा कि मतदाताओं को राष्ट्रपति चुनना चाहिए और राष्ट्रपति को उस व्यक्ति का चुनाव करना चाहिए जिसे न्यायाधीश पद पर नियुक्त किया जाना है।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *