अमेरिकी अदालत के आदेश से भारतीयों को राहत, बिना दस्तावेज रह रहे प्रवासियों की रक्षा के लिए बहाल होगा DACA

Spread the love


वॉशिंगटन
अमेरिका में कार्यकाल पूरा करने जा रहे मौजूदा डोनाल्ड प्रशासन के फैसले को पलटते हुए संघीय अदालत ने भारत समेत कई देशों से आए प्रवासियों को राहत दी है। कोर्ट ने नाबालिग अवस्था में, बिना वैध दस्तावेजों के, देश में दाखिल हुए अप्रवासियों को निर्वासन से बचाने के लिए लागू योजना को पूरी तरह से बहाल करने का आदेश दिया है। राष्ट्रपति बराक ओबामा के दौर में लाई गई योजना पर अदालत के इस फैसले से बड़ी संख्या में भारतीय प्रवासियों को लाभ होगा।

सोमवार से नए आवेदन स्वीकार
ट्रंप प्रशासन ने साल 2017 में बाल्यकाल में आए लोगों के खिलाफ कार्रवाई स्थगित करने की योजना (DACA, Deferred Action for Childhood Arrivals) को खत्म करने की कोशिश की थी लेकिन अमेरिका के उच्चतम न्यायालय ने इस कोशिश को इस साल जून में बाधित कर दिया था।

अमेरिका के न्यूयॉर्क के पूर्वी जिला जज निकोलस गरौफिस ने शुक्रवार को आतंरिक सुरक्षा विभाग को डीएसीए लाभार्थियों पर कार्रवाई स्थगन की अवधि दो साल और बढ़ाने और सोमवार से नए आवेदन स्वीकार करने के निर्देश दिए। इससे सितंबर 2017 के बाद पहली बार वे लोग नए सिरे से आवेदन कर सकेंगे जो पहले इसके लिए पात्र नहीं थे।

क्या है योजना?
यह योजना उन अवैध अप्रवासियों को निर्वासन से सुरक्षा मुहैया कराती है जो अमेरिका में बच्चे के तौर पर दाखिल हुए थे। न्यायाधीश गरौफिस ने अपने आदेश में लिखा, ‘अदालत मानती है कि यह अतिरिक्त राहत तर्कसंगत है।’

उल्लेखनीय है कि डीएसीए कर्यक्रम के तहत करीब 6,40,000 लोग पंजीकृत हैं। साउथ एशियन अमेरिकन लीडिंग टूगेदर (SALT) की 2019 में जारी रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका में कम से कम 6,30,000 भारतीय बिना दस्तावेजों के अमेरिका में रह रहे हैं। यह संख्या वर्ष 2010 के मुकाबले 72 प्रतिशत अधिक है। रिपोर्ट के मुताबिक, इस समय 4,300 दक्षिण एशियाई डीएसीए के सक्रिय लाभार्थी हैं जबकि अगस्त 2018 में 2,550 भारतीय डीएसीए के सक्रिय लाभार्थी थे।

सिर्फ 13% ने किया आवेदन
SALT के मुताबिक अमेरिका में करीब 20 हजार भारतीय डीएसीए की अर्हता रखते हैं, लेकिन इनमें से 13 प्रतिशत ने ही आवेदन किया और डीएसीए के तहत लाभ लिया है। रिपोर्ट के मुताबिक इस योजना के तहत पंजीकृत 1,300 पाकिस्तानी, 470 बांग्लादेशी, 120 श्रीलंकाई और 60 नेपाली लोगों को लाभ मिल रहा है। ट्रंप प्रशासन इस फैसले के खिलाफ संघीय अदालत में अपील दाखिल कर सकता है या उच्चतम न्यायालय में याचिका दायर कर अस्थायी राहत का अनुरोध कर सकता है।

अमेरिकी मूल्यों का सम्मान
प्रतिनिधि सभा की स्पीकर नैंसी पेलोसी ने कहा कि अदालत ने ओबामा कार्यकाल की योजना को बरकरार रखा है जो अमेरिकी मूल्यों और अमेरिकी लोगों की इच्छा का सम्मान है। उन्होंने कहा, ‘सपना देखने वालों की जरूरत है और वे वास्तविक, स्थायी फैसले के हकदार हैं ताकि हमारे देश में अपना योगदान जारी रख सकें। 117वीं कांग्रेस में हमारी डेमोक्रैटिक बहुमत वाली प्रतिनिधि सभा फिर से एक द्विदलीय विधेयक को सपना देखने वालों की रक्षा के लिए पारित करेगी जिसपर बाइडेन-हैरिस प्रशासन दस्तखत करेगा।’



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *