इंडस्ट्री में आउटसाइडर को सपॉर्ट करने वाले लोग भी हैंः गुरमीत चौधरी

Spread the love


छोटे-बड़े पर्दे के लोकप्रिय अभिनेता गुरमीत चौधरी इन दिनों वे खबरों में हैं अपनी जी स्टूडियो की अपनी नई फिल्म द वाइफ से। कोरोना काल में लॉकडाउन के बाद अब उन्होंने जयपुर में फिल्म की शूटिंग शुरू कर दी है। अपनी इस हॉरर-थ्रिलर फिल्म के अलावा वे नए माहौल में शूटिंग करने के अनुभव, आउटसाइडर-इनसाइडर, पत्नी देबीना और सुशांत सिंह राजपूत जैसे मुद्दों पर दिल खोल कर बातें करते हैं।

कोरोना काल में लॉकडाउन के बाद शूटिंग करने का अनुभव कैसा रहा?
– बहुत कुछ बदल गया है। सेट पर पहुंचने से पहले हमने सावधानी बरतनी शुरू कर दी। यहां आने से पहले हमने अपना कोरोना टेस्ट करवाया। हम सभी ने सर से लेकर एड़ी तक पीपीआई किट्स, ग्लव्स, मास्क, विसर्स लगाकर ट्रैवल किया। जब हम यहां जयपुर में लैंड हुए, तो हमारा दोबारा टेस्ट हुआ। हमने शूटिंग तभी दोबारा से शरू की, जब हमें अपने टेस्ट रिजल्ट निगेटिव मिले। हमारे होटल के पास हमारा सेट है। हम बड़े आराम से बिना किसी के संपर्क में आए सेट्स पर पहुंचे। शूटिंग फ्लोर भी सेक्शन में डिवाइड किया गया है, हम सबको रंगों के हिसाब से सोशल डिस्टैन्सिंग का पालन करने के लिए कार्ड्स दिए गए हैं, जिससे ज्यादा भीड़-भाड़ न हो सके। मेकअप और कॉस्ट्यूम डिपार्टमेंट के लोग पीपीआई किट्स पहनकर रखते हैं। बाकी का क्रू हमेशा मास्क, फेस शील्ड और ग्लव्ज में होता है, जो सबके लिए अनिवार्य है। सेट, वैन्स और सभी चीजों को सैनिटाइज किया जाता है। शूटिंग में किसी बाहरी व्यक्ति का आना अलाउड नहीं है। हम लोग भी अपने सेट से बाहर नहीं जाते।

द वाइफ में आपके लिए क्या खास है?
– बहुत कुछ। पहली बार मैं सोलो लीड की फिल्म कर रहा हूं। यहां मुझे पूरा स्कोप मिला है। फिल्म भी हॉरर थ्रिलर है। सबसे जरूरी बात यह है कि मुझे इसकी स्क्रिप्ट बहुत अच्छी लगी। हॉरर की अपनी एक अलग फैन-फॉलोइंग है। जैसे मैं और देबीना (उनकी अभिनेत्री पत्नी) हॉरर फिल्म के फैंस हैं। विकी कौशल ने हाल ही में भूत जैसी हॉरर फिल्म की। अजय देवगन जैसे बड़े-बड़े सुपरस्टार ने इस जॉनर की फिल्में की हैं। लोग हॉरर देखना चाहते हैं, बस चाहत होती है एक दमदार स्क्रिप्ट और अच्छे स्टूडियो की, जो इसे सही तरह से बना कर रिलीज करें। मैं खुश हूं कि इस फिल्म का भार मेरे कंधों पर है। अपने करैक्टर पर बात करना अभी हड़बड़ी होगी। मगर इतना जरूर कह सकता हूं कि आप मुझे एक अलग अंदाज में पाएंगे। मेरी वाइफ का किरदार शाइनी दत्ता निभा रही हैं। यह उनकी पहली फिल्म है।

लॉकडाउन के दौरान आप और आपकी वाइफ देबीना लगातार पॉजिटिव और खुशहाल कैसे रह पाए? सोशल मीडिया पर आप लोग योग, मेडिटेशन, फिटनेस और डांस के विडियोज शेयर करते रहे।
– हम हिंदुस्तानी पिछले 15 सालों से अपनी फिटनेस के प्रति जागरूक हुए हैं। लोग घर पर वर्कआउट करने लगे हैं। लॉकडाउन के दौरान जो दूसरी सबसे अच्छी चीज यह हुई है, वह यह कि हम अपने मानसिक स्वास्थ्य का भी ध्यान रखने लगे। इससे पहले हम इस पर ज्यादा गौर नहीं करते थे। ध्यान लगाना, मेडिटेशन सब भारत की देन है। अब लोग मेडिटेशन और योग की ओर आकर्षित हो रहे हैं। लॉकडाउन में मैंने और देबीना ने मेडिटेशन करना शुरू किया। हम एक्टर्स लोगों को प्रभावित करते हैं, इसलिए अब मैं अपने सोशल मीडिया पर इन चीजों के बारे में बात करता हूं ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग सकारात्मक हों।

हॉरर-थ्रिलर फिल्म है, तो इसमें किसिंग सीन भी होगा। इस पर देबीना का क्या रिएक्शन होगा?
– खुशकिस्मती से मेरी पत्नी भी कलाकार हैं। वह यह सब समझती हैं। उनके साथ भी मैंने ऐक्टिंग की है और मुझे वह अच्छी तरह से जानती हैं। दर्शक भी समझने लगे हैं हैं कि यह ऐक्टर एक करैक्टर प्ले कर रहा है। अब किसिंग सीन बहुत नॉर्मल और रियलिस्टिक लगता है। ऑडियंस काफी मच्योर हुई है। देबीना और मुझ में काम को लेकर बहुत अंडरस्टैंडिंग है। हम एक-दूसरे के काम मे दखल नहीं देते। एक-दूसरे को सपोर्ट करते हैं। देबीना को मुझ पर बहुत भरोसा है। वैसे भी मैं फैमिली मैन हूं, शूटिंग के बाद मुझे घर लौटने का इंतजार रहता है।

आप इनसाइडर और आउटसाइडर की बहस पर क्या कहेंगे?
– मैं यही कहूंगा कि जनता सब कुछ है, वह भगवान है। अब उन्हें नए टैलेंट, ऐक्टर सबको एक समान सपॉर्ट करना चाहिए। उनका सपॉर्ट बहुत जरूरी है। जब कोई नया ऐक्टर लॉन्च होता है, तो उसको जनता का ज्यादा प्यार नहीं मिलता है। जनता को नए टैलंट का काम देखना चाहिए। कभी-कभी होता है फिल्म नहीं चलती है, मगर ऐक्टर बहुत अच्छा होता है। जब जनता अच्छा रिव्यू देती है, तब इंडस्ट्री में उसे काम मिलता है। जनता अगर किसी नए टैलंट या आउटसाइडर को प्यार देगी, तो प्रड्यूसर-डायरेक्टर को उसे काम देना होगा। मैं टीवी का सुपरस्टार रहा हूं और मुझे वहां की ऑडियंस से काफी सम्मान मिला है। अब फिल्म की जनता जिन्होंने मेरी फिल्म नहीं देखी है, उनसे गुजारिश है कि आप प्लीज मेरी फिल्में देखें। आप देखेंगे, तो मुझे और काम मिलेगा।

सुशांत के सुसाइड मामले पर क्या कहेंगे? इस मुद्दे पर इंडस्ट्री दो भागों में बंटी नजर आती है?
– सुशांत भी बिहार से थे और मैं खुद बिहार से हूं। सुशांत के बारे में जानकर बहुत दुख हुआ। पहले दिन से मैं सपॉर्ट में था कि सीबीआई जांच हो। पहले कुछ दिन तो समझने में लगे कि आखिर हुआ क्या? अब सीबीआई आ गई है, तो हम सब जानना चाहते हैं कि उनके साथ क्या हुआ था? मैं आपको यह भी कहूंगा कि मैं भी एक आउटसाइडर हूं, लेकिन यह कहना गलत होगा कि हमारी इंडस्ट्री खराब है। इंडस्ट्री में बहुत अच्छे लोग भी हैं। मेरे साथ कई बार हो चुका है कि अगर मुझे लोगों ने रिजेक्ट किया है तो कुछ ने सपॉर्ट भी किया है। यह हर इंडस्ट्री में होता है। हमारी इंडस्ट्री ज्यादा हाई लाइट इसलिए हो जाती है, क्योंकि सब हमारे बारे में जानना चाहते हैं। टीवी में भी मुझे कई बार निकाल दिया या रिप्लेस कर दिया गया। मगर फिर टाइटल रोल भी मिले। फिल्मों में भी हुआ। यह सिर्फ छोटे ऐक्टर्स के साथ नहीं बल्कि बड़े-बड़े ऐक्टर्स के साथ भी होता है।चाहे वह स्टारकिड हो या न हो।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *