इस बार ‘मन की बात’ में मोदी को भाए इंडियन ब्रीड के डॉग, बोले- अगली बार इन्‍हें घर लाएं

Spread the love


हाइलाइट्स:

  • मन की बात में पीएम मोदी ने इस बार भारतीय नस्‍ल के डॉग्‍स की चर्चा की, उनकी खूबियां गिनाईं
  • मोदी ने कहा, इनको पालने में खर्च भी काफी कम है। ये भारत के माहौल में ढले भी होते हैं
  • मोदी ने आत्‍मनिर्भर भारत के नारे से जोड़ते हुए कहा, कहा, भारतीय नस्‍ल के कुत्‍तों को अपनाया जाए

नई दिल्‍ली
इस रविवार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात में एक ऐसे विषय का जिक्र किया जिसको सुनकर पशु प्रेमी, खासकर डॉग लवर्स की खुशी की सीमा नहीं रही होगी। पीएम मोदी न केवल सुरक्षाबलों में शामिल डॉग स्‍क्‍वॉड की तारीफ की बल्कि भारतीय नस्‍ल के कुत्‍तों की खूबियां भी गिनाईं। चलते-चलते अपील भी कि अगली बार जब डॉग पालने की सोचें तो देसी डॉग ही पालें।

पीएम मोदी ने कहा, ‘इस स्‍वतंत्रता दिवस पर दो जांबाज किरदारों की खबर पर मेरा ध्‍यान गया। ये हैं सोफी और विदा जो कि इंडियन आर्मी के डॉग्‍स हैं। इन्हें हाल ही में चीफ ऑफ आर्मी स्‍टाफ कमंडेशन कार्ड से सम्‍मानित किया गया है। इन्‍होंने देश की रक्षा करते हुए कर्तव्‍य बखूबी निभाया है। ये डॉग देश के लिए जीते हैं देश के लिए बलिदान तक दे देते हैं। इन्‍होंने बम धमाकों और आतंकी साजिश को रोकने में अहम भूमिका निभाई है।’

सुनाए डॉग स्‍क्‍वॉड के किस्‍से
मोदी ने सर्विस डॉग्‍स के कुछ किस्‍से सुनाते हुए कहा, ‘एक डॉग बलराम ने साल 2006 में अमरनाथ यात्रा के दौरान बड़ी मात्रा में विस्‍फोटक खोज निकाला था। साल 2002 में भावना नाम की डॉग आईइडी खोजने में शहीद हो गई। दो-तीन साल पहले छत्‍तीसगढ़ के बीजापुर में सीआरपीएफ का स्निफर डॉग क्रैकर भी आईइडी ब्‍लास्‍ट में शहीद हो गया था।’

एक मार्मिक घटना का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा, ‘अभी कुछ समय पहले बीड़ पुलिस अपने साथी डॉग रॉकी को आखिरी विदाई दे रही थी। रॉकी ने 300 से ज्‍यादा केस सुलझाने में मदद की थी।’ मोदी ने बताया कि एनडीआरएफ ने दर्जनों डॉग्‍स को ट्रेनिंग दी है। ये डॉग लोगों को रेस्‍क्‍यू करने में बहुत एक्‍सपर्ट होते हैं।

भारतीय डॉग्‍स की तारीफ
इसके बाद भारतीय डॉग्‍स की खूबी बताते हुए प्रधानमंत्री बोले, ‘मुझे बताया गया कि इंडियन ब्रीड के डॉग भी बहुत अच्‍छे होते हैं। मुधोल हाउंड
हिमाचली हाउंड, राजापलायम, कन्‍नी, चिप्‍पीपलाई, कोम्‍बाई शानदार इंडियान ब्रीड हैं। इनको पालने में खर्च भी काफी कम है। ये भारत के माहौल में ढले भी होते हैं।’

इंडियन ब्रीड पर हो रहा रिसर्च
मोदी ने आगे कहा, ‘आर्मी, सीआईएसएफ, एनएसजी ने मुधोल हाउंड को डॉग स्‍क्‍वॉड में शामिल किया है। सीआरपीएफ ने कोम्‍बाई डॉग को शामिल किया है। इंडियान काउंसिल ऑफ इंडस्‍ट्रियल रिसर्च भी भारतीय ब्रीड के कुत्‍तों पर रिसर्च कर रही है। वह उन्‍हें बेहतर और उपयोगी बनाने पर काम कर रही है।’

‘आत्‍मनिर्भर भारत में इन्‍हें भी शामिल करें’
इसके बाद सुनने वालों से अपील करते हुए मोदी ने कहा, ‘आप इंटरनेट पर इनके बारे सर्च कीजिए इनके बारे में जानिए इनकी खूबसूरती क्‍वॉलिटी देखकर हैरान हो जाएंगे। अगली बार जब भी डॉग पालने की सोचें तो इनमें से ही किसी को घर लाएं।’

भारतीय नस्‍ल के कुत्‍तों को अपनाया जाए, इसे आत्‍मनिर्भर भारत के नारे से जोड़ते हुए मोदी ने कहा, ‘आत्‍मनिर्भर भारत जब जनमन का मंत्र है तो कोई भी क्षेत्र इससे पीछे क्‍यों छूटे।’



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *