उत्तर प्रदेश को 1 ट्रिलियन डॉलर की इकॉनमी बनाने का लक्ष्य: CM योगी आदित्यनाथ

Spread the love


लखनऊ
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भारत को 5 ट्रिलियन डॉलर की इकॉनमी बनाने के लक्ष्य में सहयोग करते हुए उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने प्रदेश को एक ट्रिलियन डॉलर की इकॉनमी बनाने का लक्ष्य तय किया है। उन्होंने सड़क, संचार, परिवहन, ऊर्जा के साथ ही डिफेंस, डेटा सर्विस, ऐरोस्पेस सेक्टर को नया इनवेस्टमेंट सेंटर बताया। साथ ही प्रदेशभर में एक्सप्रेसवे और एयरपोर्ट्स का भी जिक्र किया।

मुख्यमंत्री योगी ने ट्विटर पर इस संदर्भ में जानकारी देते हुए लिखा, ‘आदरणीय PM नरेंद्र मोदी ने भारत को 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने का लक्ष्य रखा है। भारत की इस नई विकास गाथा में योगदान करने के उद्देश्य से उत्तर प्रदेश ने भी 1 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था होने का लक्ष्य तय किया है। उद्योग जगत के सहयोग से हमारा प्रयास अवश्य सफल होगा।’

यूपी के ईज़ ऑफ डूइंग बिजनस में देशभर में दूसरा स्थान प्राप्त करने की घोषणा करते हुए सीएम ने कहा कि पिछले 3 सालों में राज्य सरकार के निरंतर प्रयासों का नतीजा है। सीएम ने इनवेस्ट यूपी (पूर्व में उद्योग बंधु) की उच्च स्तरीय बैठक की, जिसमें कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह, इंफ्रास्ट्रक्चर एंड इंडस्ट्रियल डिवेलपमेंट आयुक्त आलोक टंडन सहित अन्य लोग शामिल हुए।

सीएम योगी ने उद्योगपतियों, निवेशकों और उद्यमियों से प्रदेश में आने की अपील करते हुए कहा, ‘अब उत्तर प्रदेश एक आइडिया है, जिसका समय आ चुका है। प्रदेश को इन्वेस्टर्स फ्रेंडली बनाने में हमारी सरकार ने लंबा रास्ता तय कर लिया है।’ उन्होंने यह भी बताया कि 2018 में हुए इन्वेस्टर्स समिट में 4.28 लाख करोड़ रुपये की MoU में से 2 लाख करोड़ रुपये जमीन पर आ चुके हैं।

योगी ने कहा, ‘सड़क, संचार, परिवहन, ऊर्जा के अलावा सख्त कानून व्यवस्था से उत्तर प्रदेश अब एक ट्रिलियन डॉलर की इकॉनमी का दर्जा प्राप्त करने के साथ ही पीएम के 5 ट्रिलियन डॉलर इकॉनमी के सपने की दिशा में आगे बढ़ रहा है।’ इसके साथ ही उन्होंने बताया कि डिफेंस, डेटा सर्विस, ऐरोस्पेस, इलेक्ट्रिकल गाड़ियां, फार्मा सेक्टर भी निवेशक केंद्र के तौर पर उभर रहा है।

सीएम ने बताया, ‘यूपी सरकार व्यापक लैंड बैंक पॉलिसी की योजना भी बना रही है, जिसमें लैंड लीजिंग, लैंड पूलिंग, एक्सप्रेसवे के किनारे तेजी से अधिग्रहण आदि विषय सम्मिलित होंगे। उत्तर प्रदेश में उद्यमियों का अभिनन्दन है। हम ग्रेटर नोएडा क्षेत्र को उत्तरी भारत के सबसे बड़े लॉजिस्टिक्स हब के रूप में स्थापित करेंगे। बहुत शीघ्र बदलाव दिखेगा।’

सीएम ने इसके साथ ही लखनऊ से गाजीपुर के 340 किलोमीटर लंबे पूर्वांचल एक्सप्रेसवे, 290 किलोमीटर लंबे बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे, 90 किलोमीटर के गोरखपुर लिंक एक्सप्रेसवे, 170 किलोमीटर लंबे प्रयागराज लिंक एक्सप्रेसवे का जिक्र किया। इसके साथ ही सरकार ने प्रयागराज से NCR तक 600 किलोमीटर लंबे गंगा एक्सप्रेसवे का भी फैसला किया है, जो देश का सबसे लंबा एक्सप्रेसवे होगा। यह हरदोई, कन्नौज, शाहजहांपुर, मेरठ से होते हुए गुजरेगा। उन्होंने साथ ही जेवर और कुशीनगर एयरपोर्ट का जिक्र भी किया।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *