ऑस्ट्रेलिया में मिली 8 आंखों वाली ‘डरावनी’ मकड़ी, घर के नजदीक देख दहशत में आई महिला

Spread the love


केनबरा
ऑस्ट्रेलिया में एक महिला ने नीले रंग के आठ आंखों वाली मकड़ी की नई प्रजाति की खोज की है। अनजाने में मिली इस मकड़ी को अपने घर के पिछवाड़े देखकर महिला भी दहशत में आ गई। न्यू साउथ वेल्स के थिरोउल में रहने वाली महिला ने इस मकड़ी को 18 महीने पहले भी देखा था। लेकिन, तब वह इसे देखने के दावे को साबित नहीं कर सकी थी। अबकी बार उसने इस मकड़ी को देखने के बाद विशेषज्ञों को बुलाया। जिन्होंने इस मकड़ी की पहचान की।

जोटस ब्रशेड जंपिंग स्पाइडर की नई प्रजाति
डेली मेल की रिपोर्ट के अनुसार, मकड़ी की खोज करने वाली इस महिला का नाम अमांडा डी जॉर्ज है। उन्होंने इस मकड़ी को दोबारा देखते ही इसकी कुछ तस्वीरें खींचकर फेसबुक ग्रुप ‘बैकयार्ड जूलॉजी’ पर अपलोड कर दिया। कीड़े मकोड़ों के बारे में जानकारी रखने वाले विशेषज्ञों ने इस मकड़ी को जोटस ब्रशेड जंपिंग स्पाइडर की एक नई प्रजाति करार दिया है।

फेसबुक पर अपलोड की तस्वीरें
अमांडा जार्ज ने कहा कि जब वह अपने घर के बैकयार्ड में कुछ काम कर रही थीं, तब उन्हें यह जंपिंग स्पाइडर देखने को मिला। पहले तो वह बेहद डर गईं। लेकिन, फिर उन्होंने इसकी तस्वीरें लेकर फेसबुक पर अपलोड कर दिया। उनके इस पोस्ट को मकड़ी विशेषज्ञ जोसेफ शुबर्ट ने देखा। जिसके बाद उन्होंने इस महिला को मकड़ी को सावधानी से पकड़ने के लिए कहा।

कंटेनर में कैद कर जीव विज्ञानी के पास भेजा
लंबी खोजबीन के बाद अमांडा ने इस मकड़ी को एक खाली कंटेनर में इस मकड़ी को कैद कर लिया। उन्होंने बताया कि इससे साथ एक और मकड़ी को भी उन्होंने पकड़ा था, लेकिन उन्हें डर था कि कहीं ये एक दूसरे को खा न लें। इसलिए, उन्होंने दोनों मकड़ियों को अलग-अलग कंटेनर में कैद कर दिया। उन्होंने दोनों मकड़ियों को जोसेफ शुबर्ट के पास भेज दिया।

Spider 03

म्यूजियम विक्टोरिया के खुलने पर होगा नामांकरण
अभी तक मकड़ी के इस प्रजाति का नामांकरण नहीं हो पाया है। शुबर्ट के अनुसार, जैसे ही म्यूजियम विक्टोरिया की लैब दोबारा खुलेगी, वैसे ही इस मकड़ी का औपचारिक रूप से नामांकरण और इसके बारे में डिटेल्स शेयर की जाएंगी। इस मकड़ी की खोज करने पर अमांडा ने कहा कि विज्ञान के लिए कुछ करने से उन्हें बेहद खुशी हो रही है।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *