कंगना के ऑफिस में तोड़फोड़ पर कांग्रेस नेता संजय निरुपम बोले-‘BMC का ऐक्शन प्रतिशोध से ओत-प्रोत’

Spread the love


हाइलाइट्स:

  • कंगना को मिला संजय निरुपम का साथ
  • संजय निरुपम ने बीएमसी के एक्शन को प्रतिशोध से ओत-प्रोत बताया
  • एक ऑफिस के चक्कर में शिवसेना का डिमॉलिशन न शुरु हो जाए-निरुपम
  • एनसीपी चीफ शरद पवार ने भी की थी मुखालफत

मुंबई
कंगना रनौत (kangana Ranaut) के ऑफिस पर बुलडोजर चलाने का विरोध हो रहा है। यहां तक की शिवसेना सरकार में सहयोगी पार्टियां भी इसका विरोध कर रही है। एनसीपी चीफ शरद पवार (Sharad Pawar) के बाद अब कांग्रेस नेता संजय निरुपम (sanjay nirupam) ने भी बीएमसी के इस ऐक्शन को प्रतिशोध से ओत-प्रोत बताया है।

संजय निरुपम ने ट्वीट करके कहा, ‘कंगना का ऑफिस अवैध था या उसे डिमॉलिश करने का तरीका ? क्योंकि हाई कोर्ट ने कार्रवाई को गलत माना और तत्काल रोक लगा दी। उन्होंने इस कार्रवाई को प्रतिशोध से ओत-प्रोत बताया।राजनीति की उम्र बहुत छोटी होती है। कहीं एक ऑफिस के चक्कर में शिवसेना का डिमॉलिशन न शुरू हो जाए।’

पवार ने भी की थी मुखालफत
इससे पहले, शरद पवार ने कंगना के मुंबई स्थित कार्यालय पर बुलडोजर चलने के बाद तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए इसे बेहद गैर-जरूरी ऐक्शन करार दिया है। एनसीपी चीफ पवार ने कहा था कि हर कोई जानता है कि मुंबई पुलिस सुरक्षा के लिए काम करती है। आपको इन लोगों को प्रचार नहीं देना चाहिए। वहीं सोशल मीडिया पर भी उद्धव ठाकरे सरकार को इसे लेकर आलोचनाओं का शिकार होना पड़ा।

आपका वोट दर्ज हो गया है।धन्यवाद

यह भी पढ़ेंः कंगना के समर्थन में RSS, कहा- असत्य के हथौड़े से सत्य की नींव नहीं हिलती

कंगना रनौत के दफ्तर में तोड़फोड़ पर शरद पवार ने उठाए सवाल, बोले- बीएमसी का ऐक्शन गैरजरूरी

बीएमसी पर है शिवसेना का कब्जा
बता दें कि बीएमसी पर शिवसेना का कब्जा है। इसके अलावा राज्य में भी पार्टी सत्ता में है। बीते दिनों शिवसेना नेता संजय राउत और कंगना रनौत के बीच जुबानी जंग ने सियासी रूप ले लिया। कंगना ने मुंबई को पीओके बताते हुए असुरक्षित होने की बात कही तो हिमाचल प्रदेश सरकार की सिफारिश पर केंद्र सरकार ने उन्हें वाई श्रेणी की सुरक्षा दे दी।

यह भी पढ़ेंः मुंबई में अपने घर पहुंची कंगना रनौत, क‍िया जा सकता है होम क्वारंटीन, LIVE

Uncut Video: कंगना के आलीशान दफ्तर को BMC ने टुकड़ों में बिखेर दिया



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *