कपड़ा नहीं मिला तो यात्री ने जिंदा अजगर को बनाया फेस मास्क, लोग हुए हैरान

Spread the love


लंदन
पूरी दुनिया इस समय कोरोना वायरस के संक्रमण से जूझ रही है। इससे बचने के लिए कई देशों में सार्वजनिक स्थानों पर मास्क पहनने को अनिवार्य कर दिया गया है। ब्रिटेन भी इनमें से एक है, जहां घर से बाहर निकलने पर फेस मास्क को पहनना जरूरी है। पूरे ब्रिटेन में लोग तरह-तरह के क्रिएटिव और फनी मास्क भी पहने हुए दिखाई दे रहे हैं। इस बीच मैनचेस्टर में एक शख्स जिंदा अजगर को मास्क की तरह पहने हुए दिखाई दिया।

जिंदा अजगर को मास्क की तरह पहने दिखा शख्स
सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार, यह आदमी स्विंटन और मैनचेस्टर सिटी सेंटर के बीच चलने वाली एक बस में यात्रा कर रहा था। कपड़े का मास्क न होने के कारण उस यात्री ने अपने साथ रखे जिंदा अजगर को गर्दन और नाक के चारों ओर लपेट लिया। उस समय बस में कुछ ही यात्री सवार थे, जिन्हें लगा कि इस यात्री ने कोई फंकी मास्क पहना हुआ है।

जब सांप के जिंदा होने का पता चला…
थोड़ी देर बाद जब अजगर हिलने लगा तब सहयात्रियों को यकीन हुआ कि उसने जिंदा सांप को अपने चारों ओर लपेटा है। इस दौरान सांप ने किसी अन्य यात्री को परेशान नहीं किया। ब्रिटेन में परिवहन अधिकारियों ने यात्रियों को चेतावनी दी है कि वे सफर के दौरान चेहरा ढंकने के लिए जिंदा सांप का उपयोग न करें। हालांकि, उस बस में सफर कर रहे अन्य यात्रियों ने इसे मजेदार बताया।

सार्वजनिक परिवहन में सबको मास्क पहनना अनिवार्य
कोरोना वायरस के कारण ब्रिटेन में सार्वजनिक परिवहन में यात्रा करने के दौरान मास्क पहनना अनिवार्य है। इससे उन लोगों को छूट दी गई है जो उम्र, स्वास्थ्य या विकलांगता की समस्याओं से जूझ रहे हैं। ग्रेटर मैनचेस्टर परिवहन के प्रवक्ता ने बताया कि यात्रियों को कोरोनोवायरस महामारी के दौरान सार्वजनिक परिवहन में मुंह को ढंकने के लिए सरकारी मार्गदर्शन का पालन करने की उम्मीद की जा रही है।

ब्रिटेन में बढ़ सकते हैं कोरोना के मामले
ब्रिटेन के शीर्ष चिकित्सा सलाहकार ने कहा है कि कोविड-19 के मामलों के लिहाज से देश बहुत खराब मुकाम पर पहुंच चुका है और ऐसे संकेत हैं कि समय रहते कदम नहीं उठाए गए तो बीमारी बेतहाशा बढ़ सकती है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी क्रिस विट्टी सरकार के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार पैट्रिक वैलेंस के साथ इस बारे में पक्ष रखने के लिए डाउनिंग स्ट्रीट ब्रीफिंग में उपस्थित हुए। इस दौरान उन्होंने आगाह किया कि अगर आगे प्रतिबंध नहीं लगाए जाते हैं तो देश में अक्टूबर के मध्य तक हर रोज कोरोना वायरस संक्रमण के 50 हजार मामले सामने आ सकते हैं।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *