कोरोना के बढ़ते केसेज में भी उम्‍मीद, पिछले डेढ़ महीने से लगातार घट रहा पॉजिटिविटी रेट

Spread the love


India Covid-19 update: कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच एक उम्‍मीद लगातार बनी हुई है। प्रति 100 टेस्‍ट्स पर कन्‍फर्म केसेज के आंकड़े यानी पॉजिटिविटी रेट पिछले करीब डेढ़ महीने से लगातार घट रहा है। हर 14 दिन पर मापी जाने वाली यह दर भारत में 15 जुलाई-28 जुलाई के बीच जहां 11.23% थी, वहीं 14 अगस्‍त-27 अगस्‍त के बीच यह 8.84% रह गई है। हालांकि महाराष्‍ट्र, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, छत्‍तीसगढ़ और पश्चिम बंगाल के हालात चिंताजनक बने हुए हैं। हमारे सहयोगी अखबार टाइम्‍स ऑफ इंडिया की ताजा स्‍टडी के अनुसार, इन राज्‍यों के अलावा तमिलनाडु और दिल्‍ली का पॉजिटिविटी रेट सबसे ज्‍यादा रहा है।

यहां थमने का नाम नहीं ले रहा कोरोना

अगर किसी इलाके में पिछले 14 दिन में 5% से कम पॉजिटिव‍िटी रेट रहा है तो वह राहत की सांस ले सकता है। प्रशासन वहां लॉकडाउन में ढील दे सकता है। लेकिन 5% से ज्‍यादा पॉजिटिविटी रेट वाले इलाके ‘रेड जोन’ में आते हैं। पॉजिटिविटी रेट जितना ज्‍यादा होगा, वहां संभावना यही है कि ज्‍यादातर बीमारों को टेस्‍ट किया जा रहा है और बड़ी संक्रमित आबादी का टेस्‍ट नहीं हो रहा।

महाराष्‍ट्र में बढ़ता ही जा रहा पॉजिटिविटी रेट

शुक्रवार तक देश के 34 लाख मामलों में से करीब 22% अकेले महाराष्‍ट्र से थे। वहां पिछले 14 दिन से पॉजिटिविटी रेट 20% से ज्‍यादा रहा है। 1-14 अगस्‍त के बीच यह कुछ घटकर 16.5% हुआ था, मगर फिर बढ़ गया। अगस्‍त के पहले 14 दिन छोड़ दें तो 5 जून के बाद से लगातार पॉजिटिविटी रेट 20% से ज्‍यादा रहा है।

फिर से ‘रेड जोन’ बनेगी दिल्‍ली?

दिल्‍ली फिर से रेड जोन की तरफ लौटती दिख रही है। यहां 14 अगस्‍त तक करीब एक महीने में पॉजिटिविटी रेट 6% के आसपास रहा था, अब यह बढ़ने लगा है।

छत्‍तीसगढ़ में अब तेजी से फैल रहा कोरोना

छत्‍तीसगढ़ देश में कोरोना का नया हॉटस्‍पॉट बनकर उभरा है। ताजा आंकड़ों के अनुसार, यहां का पॉजिटिविटी रेट 9% के पार पहुंच गया है। इससे पहले, राज्‍य का पॉजिटिविटी रेट 5% से 6% के बीच रह रहा था।

तमिलनाडु के आंकड़ों में द‍िख रहा सुधार

तमिलनाडु के पॉजिटिविटी रेट में लगातार कमी आई है। 15 जुलाई से 28 जुलाई के बीच यहां का पॉजिटिविटी रेट 10% था, 1-14 अगस्‍त के बीच यह 9% हो गया और 14 अगस्‍त से 27 अगस्‍त के बीच 8% हो गया है।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *