गूगल ने 240 से ज्यादा ऐंड्रॉयड ऐप किए ब्लॉक, आप भी जल्द डिलीट कर लें फोन से

Spread the love


नई दिल्ली.
गूगल ने एक बार फिर बड़ा कदम उठाते हुए प्ले स्टोर से 240 से ज्यादा मोबाइल ऐप्स ब्लॉक कर दिए हैं। ये सभी ऐप ऐंड्रॉयड स्मार्टफोन्स पर चलते हैं। ऐसे में अगर ये ऐप आपके फोन में हैं तो जल्द से जल्द आप भी इन्हें डिलीट कर दें, ताकि आपके स्मार्टफोन के साथ ही आप भी हर तरह से सुरक्षित रह सकें। गूगल ने यह कार्रवाई इसलिए की है, क्योंकि ये 240 ऐप यूजर्स को तरह-तरह के गैरजरूरी एडवर्टाइजमेंट दिखाते थे और गूगल के नियमों का उल्लंघन कर रहे थे।

गूगल की सिक्यॉरिटी टीम ने इन ऐप्लिकेशन के खिलाफ कार्रवाई का रास्ता साफ किया और फिर इन ऐप्स को ब्लॉक किया गया है। इनमें से ज्यादा ऐप्स RAINBOWMIX ग्रुप के हैं, जिनमें पुराने गेम्स समेत अन्य हैं। इस ग्रुप के ऐप्स की हर दिन 1.4 करोड़ लोगों तक पहुंच थी और ये पैकर सॉफ्टवेयर के जरिये हर दिन 1.5 करोड़ लोगों तक तरह-तरह के विज्ञापन पहुंचाते थे।

ये भी पढ़ें- Google Meet में इन आसान तरीकों से जोड़ें ‌Blur Background, होगा फायदा

यूजर्स को हो रही थी परेशानी
गूगल ने यूजर को अगाह कर दिया है कि वे अपने ऐंड्रॉयड स्मार्टफोन से RAINBOWMIX ग्रुप के ऐप्स जल्द से जल्द डिलीट कर दें. यह ग्रुप लंबे समय से गूगल के नियमों के साथ खिलवाड़ कर रहा था और जब शोधकर्ताओं ने White Ops संस्था की मदद से इस स्कैम से पर्दा उठाया तब गूगल की यह बड़ी कार्रवाई सामने आई है। दरअसल, अनचाहे ऐप से जहां यूजर को परेशानी हो रही थी, वहीं उनके फोन की स्पीड भी प्रभावित हो रही थी। ऐसी स्थिति में गूगल ने इन ऐप्स को ब्लॉक करना ही मुनासिब समझा।

ये भी पढ़ें- भारत में जल्द लॉन्च होंगे कीपैड वाले Nokia के दो सस्ते 4G फोन, देखें खास बातें

गूगल प्ले स्टोर ने नियमों के उल्लंघन पर यह कार्रवाई की है

यहां देखें गूगल प्ले स्टोर पर ब्लॉक किए गए ऐप की पूरी लिस्ट

मोबाइल ऐड फ्रॉड बड़ी चुनौती
गूगल प्ले स्टोर पर इससे पहले भी समय-समय पर ढेरों ऐप्स ब्लॉक या बैन हो चुके हैं। यूजर की सुविधा के लिए इस तरह के कदम उठाए जाते हैं। एक्सपर्ट्स का कहना है कि मोबाइल ऐड फ्रॉड इंडस्ट्री के सामने बड़ी चुनौती के रूप में है, जो कि कई तरह से सामने आती है। इससे यूजर को सबसे ज्यादा नुकसान होता है और इन खतरनाक ऐप्स की वजह से ही अच्छे और जरूरी मोबाइल ऐप्लिकेशन पर भी इसका प्रभाव पड़ता है। ऐसी स्थिति में एजवर्टाइजर्स और पब्लिशर को भी खासा नुकसान होता है। गूगल ने इस तरह की चुनौतियों के निपटने के लिए कड़ी पॉलिसी बनाई है और जो भी ऐप किसी तरह के नियमों के उल्लंघन के दोषी पाए जाते हैं, उन्हें या तो बैन या ब्लॉक कर दिया जाता है।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *