गोरखपुर से ISI का एजेंट गिरफ्तार, हनीट्रैप के जरिए जासूसी करा रहा था पाकिस्तान

Spread the love


हाइलाइट्स:

  • गोरखपुर में भी पाकिस्तान के जासूसी के प्लान को बेनकाब किया गया है
  • सुरक्षा एजेंसियों ने समय रहते उनके एजेंट को पकड़ लिया
  • पाकिस्तानी जासूस हनी ट्रैप में फंसा कर ख़ुफ़िया सैन्य जानकारी हासिल करने के प्रयास में थे

गोरखपुर
पाकिस्तान लगातार भारत की खुफिया जानकारी हासिल करने के प्रयास में लगा रहता है। हाल ही में दिल्ली में पाक उच्चायोग के दो अधिकारियों को जासूसी करते पकड़ा गया था। वहीं अब गोरखपुर में भी पाकिस्तान के जासूसी के प्लान को बेनकाब किया गया है। पाकिस्तान ने भारतीय सेना की जानकारी हासिल करने के लिए हनी ट्रैप का सहारा लिया लेकिन सुरक्षा एजेंसियों ने समय रहते उनके एजेंट को पकड़ लिया।

दरअसल पाकिस्तान, गोरखपुर के हनीफ को हनीट्रैप के जरिए फंसाकर थल सेना, वायु सेना के खुफिया जानकारी को अपने तक मंगवा रहा था, लेकिन ATS की नज़र हनीफ पर थी और उसे उसके इरादों में कामयाब होने से पहले ही धर दबोचा।

क्या है पूरा मामला
गोरखपुर के हनीफ के कुछ रिश्तेदार पाकिस्तान में रहते हैं। 2014 से 2018 के बीच वह अपने रिश्तेदारों से मिलने कई बार पाकिस्तान गया। जहां ISI ने उसे एक वैश्यालय ले जाकर उसका फोटो और वीडियो बना लिया और उसे ब्लैकमेल करते हुए भारत के खुफिया जानकारी को मंगवाने के लिए फंसा लिया। हनीफ भारत का सिम लेकर व्हाट्सएप एक्टिव कर दिया।

मिलेट्री इंटेलीजेंस को मिला ISI की साजिश का इनपुट

उसके जरिए उत्तर प्रदेश समेत वायु सेना व थल सेना व गोरखपुर रेलवे स्टेशन,एयरफोर्स आदि की जानकारी को इकट्ठा कर फोटो और वीडियो के जरिए भेजता था। हालांकि पाकिस्तान के इस चाल की खुफिया एजेंसियों को भनक लग गई और उन्होंने हनीफ पर नज़र रखना शुरु कर दिया। इस दौरान उन्होंने इस ऑपरेशन का नाम ‘ऑपरेशन गोरखधंधा’ रखा। इसके बाद जब पुसिल इस ऑपरेशन को सफल बनाने के लिए सक्रिय हुई तो जब हनीफ को पहली बार में ही गिरफ्तार कर लिया गया। वहीं एटीएस के आईजी ने बताया कि आरोपी से काउंसलिंग में लेकर पूछताछ की जा रही है।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *