चीन की दादागिरी को खत्म करेगा Quad, बनेगा ड्रैगन से इंडो-पैसिफिक की रक्षा का प्लान

Spread the love


वॉशिंगटन
दक्षिण एशिया से लेकर प्रशांत महासागर तक अपनी आक्रामक गतिविधियों के चलते परेशानी का सबब बन चुके चीन से निपटने के तरीके ढूंढने में Quad (क्वॉड्रिरिलेटरल सिक्यॉरिटी डायलॉग) देश लगे हैं। चारों देशों- भारत, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और जापान के सीनियर अधिकारियों ने शुक्रवार को बैठक की और इंडो-पैसिफिक क्षेत्र को फ्री और ओपन बनाने के लिए कदम उठाने पर चर्चा की। इसके अलावा कोरोना वायरस की महामारी से निपटने के तरीकों पर भी चर्चा की गई। गौरतलब है कि अगले महीने चारों देशों के विदेश मंत्री टोक्यो में मिल सकते हैं।

कोरोना वायरस, क्षेत्रीय शांति पर चर्चा
वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए आयोजित बैठक में कनेक्टिविटी, इन्फ्रास्ट्रक्टर डिवेलपमेंट और सिक्यॉरिटी, काउंटर-टेररिज्म, साइबर-मैरीटाइम सिक्यॉरिटी और इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में शांति, सुरक्षा, स्थिरता और संपन्नता पर चर्चा की गई। अमेरिका ने बयान जारी कर बताया, ‘चारों लोकतांत्रिक देशों ने इस बात की चर्चा की कि कैसे कोरोना वायरस की महामारी से साथ मिलकर लड़ा जा सकता है, पारदर्शिता को प्रमोट कर गलत जानकारी को खत्म किया जा सकता है और क्षेत्र की नियम-व्यवस्था की रक्षा की जा सकती है।’

चीनी दादागिरी के दिन होंगे खत्म, जापानी पीएम ने मोदी को दिया ‘क्वॉड’ का सुझाव

‘विश्वासपात्र 5जी वेंडर जरूरी’
बिना चीन का नाम लिए अमेरिका ने डिजिटल कनेक्टिविटी और सिक्यॉर नेटवर्क की अहमियत बताई और इस पर भी चर्चा की कि ‘विश्वासपात्र वेंडर्स, खासकर 5वीं जनरेशन नेटवर्क को’ कैसे प्रमोट किया जा सकता है। गौरतलब है कि चीनी टेलिकॉम कंपनी हुवावे पर अमेरिका में चीनी सरकार के लिए जासूसी का आरोप लगाकर उसे अमेरिका में बैन कर दिया गया था।

सिर्फ चीन पर नहीं ध्यान
अधिकारियों ने दक्षिण चीन सागर के मेकॉन्ग सब-रीजन और इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय कानून, क्षेत्रीय स्थिरता और महामारी के बाद रिकवरी के लिए साथ काम करने के तरीकों पर भी चर्चा की। इससे पहले अमेरिका के एक अधिकारी ने साफ किया था कि Quad का उद्देश्य सिर्फ चीन से मिल रहीं चुनौतियों से निपटना नहीं है बल्कि हर क्षेत्र में एक-दूसरे का सहयोग करना है। इसलिए Quad में दूसरे देशों को शामिल करने की संभावना को खारिज नहीं किया जा सकता है।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *