चीन से टेंशन के बीच राफेल ही नहीं 197 और फाइटर जेट खरीदने की तैयारी में वायु सेना

Spread the love


नई दिल्ली
वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आर के एस भदौरिया ने सोमवार को कहा कि सरकार 83 हल्के लड़ाकू विमान (एलसीए) तेजस (मार्क 1ए), 114 बहुभूमिका वाले लड़ाकू विमान (एमआरएफए) की खरीद पर ध्यान दे रही है। इस दौरान उन्होंने राफेल लड़ाकू विमान खरीदने की संभावनाओं को खारिज नहीं किया। उन्होंने कहा कि फ्रांस निर्मित बहुउद्देशीय विमानों के शामिल होने से भारतीय वायुसेना की अभियान संबंधी क्षमता में इजाफा हुआ है। इसके साथ ही वह महत्वाकांक्षी आधुनिक मध्यम लड़ाकू विमानों के स्वदेश में ही विकास पर ध्यान देने के साथ एलसीए के उन्नत संस्करण रखने पर भी ध्यान केंद्रित कर रही है।

जब एयर चीफ मार्शल भदौरिया से पूछा गया कि क्या वायु सेना राफेल जेट विमानों के कम से कम दो और स्क्वाड्रन रखने पर विचार कर रही है तो उन्होंने कहा कि यह जटिल विषय है और वायु सेना की भविष्य की जरूरतों के आधार पर अनेक विकल्पों पर विचार किया जा रहा है। उन्होंने कहा पूरे विषय पर विचार और चर्चा चल रही है। राफेल विमानों के पहले बेड़े के वायु सेना में शामिल होने के संदर्भ में भदौरिया ने कहा, ‘राफेल विमानों के शामिल होने से आधुनिक हथियारों, सेंसर और प्रौद्योगिकियों से सुसज्जित प्लेटफॉर्म मिला है जो इस क्षेत्र में अभियान एवं प्रौद्योगिकी संबंधी क्षमता प्रदान करता है।’

सैन्य महकमे में कुछ अधिकारियों की राय रही है कि वायु सेना के अभियान संबंधी पहलुओं को देखते हुए उसके पास राफेल लड़ाकू विमानों के कम से कम चार बेड़े होने चाहिए। एक स्क्वाड्रन या बेड़े में 18 विमान होते हैं। वायु सेना प्रमुख ने इस संबंध में कोई निर्णय लेने में बजट संबंधी सीमाओं को भी एक कारक बताया।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *