जम्मू-कश्मीर के सांबा में बॉर्डर पर मिली सीक्रेट सुरंग, आतंकियों को भेजने में होती थी इस्तेमाल

Spread the love


हाइलाइट्स:

  • जम्मू-कश्मीर के सांबा में बीएसएफ ने खोज निकाली आतंकियों की सीक्रेट सुरंग
  • इस सुरंग को बनाने के लिए पाकिस्तानी बोरियों का इस्तेमाल किया गया है
  • बीएसएफ ने कहा है कि बिना पाकिस्तानी अधिकारियों की मदद के लिए इसे बनाना मुश्किल है

सांबा
पाकिस्तान की ओर से जम्मू-कश्मीर में आतंकियों की घुसपैठ कराने में इस्तेमाल होने वाली एक सुरंग को सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने खोज निकाला है। बीएसएफ के अधिकारियों का कहना है कि यह सुरंग पूरी प्लानिंग के साथ बनाई गई है और इसमें पाकिस्तान की भी मिलीभगत है। बीएसएफ ने कहा है कि पाकिस्तान के सामने भी यह बात रखी जाएगी। अधिकारियों ने बताया कि यह सुरंग जीरो लाइन से लगी हुई है और इसकी लंबाई लगभग 20 मीटर है।

कार इंडस्ट्री पर कोरोना का वार, क्या कंज्यूमर को मिलेगा तगड़ा डिस्काउंट. जानने के लिए इस चर्चा में हिस्सा लें

जम्मू में बीएसएफ के आईजी एनएस नरवाल ने कहा, ‘जो रेत की बोरियां सुरंग में इस्तेमाल हुई हैं, उसमें पाकिस्तान की मार्किंग है। यह दर्शाता है कि सुरंग पूरी प्लानिंग और इंजनियरिंग लगाकर ही बनाई गई है। बिना पाकिस्तानी रेंजर्स और अन्य एजेंसियों की सहमति और सहयोग के इतनी बड़ी सुरंग बनाना संभव ही नहीं है।’

पुलवामा हमले के ठीक पहले आतंकी उमर फारूक के खाते में पाकिस्तान से आए थे 10 लाख

बाकी सुरंगों की खोज के लिए जारी है अभियान
बीएसएफ ने पूरे इलाके में बड़ा अभियान चलाया है ताकि पता लगाया जा सके कि कहीं और भी ऐसी सुरंगें तो नहीं हैं। इसके साथ ही, इस मिली सुरंग को लेकर विश्लेषण किया जा रहा है, जिसका इस्तेमाल संभवत: आतंकवादियों की घुसपैठ और मादक पदार्थों तथा हथियारों की तस्करी के लिए किया गया हो। अधिकारियों ने बताया कि बीएसएफ महानिदेशक राकेश अस्थाना ने सीमा पर तैनात कमांडरों को निर्देश दिया है कि वे सुनिश्चित करें कि सीमा पर घुसपैठ रोधी प्रणाली प्रभावी रहे और इस सीमा पर कोई खामी नहीं रहे।

सुरंग के पास तैनात सुरक्षाबल

बताया गया कि हाल में हुई बारिश के बाद कुछ स्थानों पर जमीन धंसने से बीएसएफ को आशंका हुई। अधिकारी ने बताया कि सुरंग का पता लगाने के लिए तत्काल मशीन मंगाई गई, मौके पर निरीक्षण करने पर पता चला कि सुरंग निर्माणाधीन है, जिसकी लंबाई करीब 20 मीटर है। सूत्रों के मुताबिक, सुरंग करीब 25 फुट की गहराई में बनाई गई थी और यह बीएसएफ की ‘व्हेलबैक’ सीमा चौकी के नजदीक खुलती है। उन्होंने बताया कि बीएसएफ ने ऐसे अन्य किसी गुप्त ढांचे का पता लगाने के लिए अंतरराष्ट्रीय सीमा पर बड़ा अभियान चलाया है।

कश्मीर में आतंकवाद की टूटी कमर, कमांडरों का सफाया, गिनती के बचे दहशतगर्द

‘पाकिस्तान से की जाएगी शिकायत’

आईजी एन एस नरवाल ने आगे कहा, ‘सांबा इलाके में ऐसी सुरंग के बारे में हमें काफी समय से इनपुट्स मिल रहे थे। शुक्रवार को एक स्पेशल टीम ने इस सुरंग को खोज ही निकाला। यह सुरंग जीरो लाइन से लगकर लगभग 20 मीटर लंबी है। सुरंग के मुंहाने पर बाकायदा रेत की बोरियां लगाकर इसे ठोस बनाया गया है। इस बारी में पाकिस्तानी प्रशासन से बात की जाएगी और उनसे दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मागं की जाएगी।’

जम्मू-कश्मीर: पुलवामा मुठभेड़ में एक जवान शहीद, 3 आतंकी मारे गये

बताया गया है कि यह सुरंग पाकिस्तान में शुरू होती है और सांबा सेक्टर में काफी अंदर आकर खत्म होती है। जो बोरियां इसे बनाने में इस्तेमाल हुई हैं, वो पाकिस्तान के कराची में स्थित एक पॉलिमर कंपनी की हैं। भारत में यह सुरंग लगभग 20 मीटर लंबी है और 3-4 फीट चौड़ी है। सुरंग का मुहाना भारत की ओर इंटरनैशनल बॉर्डर से 170 मीटर अंदर मिला है।

कश्मीर में सेना की चौकियों पर बड़े हमले की तैयारी में है लश्कर-ए-तैयबा

सुरंग से सिर्फ 700 मीटर दूर है पाकिस्तानी चौकी
सुरंग से पाकिस्तानी सीमा चौकी ‘गुलजार’ की दूरी करीब 700 मीटर है। उल्लेखनीय है कि अंतरराष्ट्रीय सीमा से लगते पंजाब में पांच हथियारबंद घुसपैठियों के हाल में मारे जाने के बाद बीएसएफ ने अंतरराष्ट्रीय सीमा पर बड़ा सुरंग खोज अभियान चलाया है। पाकिस्तान से लगती करीब 3,300 किलोमीटर लंबी अंतरराष्ट्रीय सीमा की सुरक्षा की जिम्मेदारी बीएसएफ के हाथों में है और पहले भी सीमा से लगते जम्मू के इलाकों में सुरंगों का पता चला है।

बॉर्डर पर बीएसएफ ने खोजी आतंकियों की सुरंग

बॉर्डर पर बीएसएफ ने खोजी आतंकियों की सुरंग



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *