जहां भारत मजबूत, बॉर्डर पर उसके पास ज्यादा तैयारी कर रहा है चीन

Spread the love


हाइलाइट्स:

  • भारत-चीन बॉर्डर पर ज्ञानत्से में पड़ोसी देश तैयार कर रहा है बड़ा मिलिट्री इंफ्रास्ट्रक्चर
  • यहां से सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश के पास के इलाकों में आसानी से पहुंच सकेंगे चीनी सैनिक
  • गिपमोची में ट्राई जंक्शन है, जहां पर भारत-भूटान और चीन की सीमा मिलती है
  • इसी साल जनवरी में काम शुरू किया गया और ये अगले साल अप्रैल-मई तक पूरा हो जाएगा

नई दिल्ली
बॉर्डर के पास चीन उन इलाकों के सामने अपना इंफ्रास्ट्रक्चर लगातार मजबूत करने में लगा है जहां भारत मजबूत स्थित में है। अब चीन ज्ञानत्से में ब्रिगेड साइज फैसिलिटी तैयार कर रहा है। एक ब्रिगेड में अमूमन 4000-5000 सैनिक होते हैं। ज्ञानत्से वह इलाका है जहां से सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश लगभग बराबर दूरी पर है। अरुणाचल प्रदेश के तवांग पर चीन अपना दावा जताते रहा है और यह इलाका सामरिक रूप से काफी अहम है।

इसी तरह सिक्किम का इलाका चीन की चुंबी वैली से लगा हुआ है। यहां पर गिपमोची में ट्राई जंक्शन है, जहां पर भारत-भूटान और चीन की सीमा मिलती है। यह सामरिक रूप से बेहद अहम है। इसलिए चुंबी वैली को पास कहीं भी चीन अपनी मौजूदगी बढ़ाता है तो इसे नजरअंदाज बिल्कुल नहीं किया जा सकता। चीन पिछले कई सालों से चुंबी वैली में भी इंफ्रास्ट्रक्चर बढ़ा रहा है और बॉर्डर के एकदम करीब तक आने की कोशिश कर रहा है।

पढ़ें, सरकार आखिर क्यों नहीं टाल रही JEE-NEET की परीक्षाएं? विशेषज्ञ ने समझाई बड़ी वजह

इंटेलिजेंस एजेंसी सूत्रों के मुताबिक, चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) ज्ञानत्से में ग्राउंड फोर्स के लिए ब्रिगेड साइज फैसिलिटी बना रही है। इस नई छावनी में 6 बटालियन एरिया है, जिसका मतलब है कि ये एक बड़ी ब्रिगेड है यानी करीब 6 हजार सैनिकों की। इसमें हेडक्वार्टर और एडमिनिस्ट्रेटिव एरिया है और 600 से ज्यादा वीइकल और इक्विपमेंट के शेड्स बन रहे हैं।

इसे बनाने का काम इसी साल जनवरी में शुरू किया गया और ये अगले साल अप्रैल-मई तक पूरा हो जाएगा। चीन के कंबाइंड आर्म्ड ब्रिगेड की एक आर्टिलरी बटालियन भी इससे करीब 14 किलोमीटर दूर स्थित है। कंबाइंड आर्म्ड ब्रिगेड उसी तरह है जिस तरह भारतीय सेना इंटीग्रेटेड बैटल ग्रुप बना रही है। इसमें सेना के हर आर्म्स के लोग मौजूद होते हैं, जिसमें पैदल सेना से लेकर तोपखाने तक और इंजीनियरिंग से लेकर टैंक टीम तक शामिल है।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *