टाटा ग्रुप ने बनाई ‘Feluda’ कोरोना टेस्ट किट, DCGI ने इस्तेमाल को मंजूरी दी

Spread the love


नई दिल्ली
कोरोना वायरस के कहर के बीच कोरोना के खतरे को टालने के लिए वैज्ञानिक, शोधकर्ता, डॉक्‍टर्स और टेक्‍नोलॉजी कंपनियां एक के बाद एक खोज करने में जुटी हुई हैं। उसी के तहत टाटा समूह ने नया कोविड-19 टेस्‍ट किट बना लिया है। कंपनी ने क्‍लस्‍टर्ड रेग्‍युलरली इंटरस्‍पेस्‍ड शॉर्ट पैलिनड्रॉमिक रिपीट्स कोरोना वायरस टेस्‍ट (CRISPR Corona Test) को सीएसआईआर-इंस्‍टीट्यूट ऑफ जेनॉमिक्‍स एंड इंटिग्रेटिव बायोलॉजी (CSIR-IGIB) के साथ मिलकर तैयार किया है।उधर, ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने कोरोना वायरस की जांच में टाटा के नए कोविड-19 टेस्‍ट ‘Feluda’ के सार्वजनिक इस्‍तेमाल की मंजूरी दे दी है।

टाटा समूह के मुताबिक, सीआरआईएसपीआर कोरोना टेस्‍ट सबसे ज्‍यादा विश्‍वसनीय माने जाने वाले RT-PCR टेस्‍ट के बराबर सटीक नतीजे देगा। साथ ही इसमें समय और कीमत दोनों कम लगेंगे। ये टेस्‍ट SARS-CoV-2 वायरस के जेनॉमिक सीक्‍वेंस का पता लगाने के लिए स्वदेशी सीआरआईएसपीआर टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करता है। भविष्य में इस टेक्‍नोलॉजी का इस्‍तेमाल दूसरी महामारियों के टेस्‍ट में भी किया जा सकेगा। कंपनी ने कहा कि टाटा सीआरआईएसपीआर टेस्ट सीएएस-9 प्रोटीन का इस्तेमाल करने वाला दुनिया का पहला ऐसा परीक्षण है, जो सफलतापूर्वक कोविड-19 महामारी फैलाने वाले वायरस की पहचान कर लेता है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के दावे में कहा गया है कि टाटा समूह ने सीएसआईआर-आईजीआईबी और आईसीएमआर के साथ मिलकर ‘मेड इन इंडिया’ उत्पाद विकसित किया है, जो सुरक्षित, विश्वसनीय, सस्ती और सुलभ है। गिरीश कृष्णमूर्ति, सीईओ, टाटा मेडिकल एंड डायग्नोस्टिक्स लिमिटेड, ने कहा, ‘COVID-19 के लिए Tata CRISPR टेस्ट के लिए स्वीकृति वैश्विक महामारी से लड़ने में देश के प्रयासों को बढ़ावा देगी। टाटा सीआरआईएसपीआर परीक्षण का व्यावसायीकरण देश में जबरदस्त आरएंडडी प्रतिभा को दर्शाता है, जो वैश्विक स्वास्थ्य सेवा और वैज्ञानिक अनुसंधान जगत में भारत के योगदान को बदलने में सहयोग कर सकता है।’

डॉ. शेखर सी मांडे, महानिदेशक-सीएसआईआर ने सीएसआईआर-आईजीआईबी के वैज्ञानिकों और कॉलेज के छात्रों, टाटा समूह और डीसीजीआई को उनके काम और सहयोग के लिए बधाई दी।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *