डोकलाम विवाद के बाद से ही LAC के पास निचले इलाकों में चीन मजबूत कर रहा है अपने कैंप: सूत्र

Spread the love


पेइचिंग/नई दिल्ली
वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के पास निचले इलाकों में चीन कई सैन्य कैंप बनाने के काम में जुटा हुआ है। 2017 में डोकलाम गतिरोध के बाद से उसने सैन्य टकराव की स्थिति में अपनी तैयारी पुख्ता रखने के इरादे से यह किया है। सरकारी सूत्रों ने ऐसा दावा किया है। गौरतलब है कि इस साल मई से भारत के साथ चीन की सेना तनावपूर्ण स्थिति में आमने-सामने है।

चीन ने की है तैयारी
सर्दियां शुरू होने के बाद भी दोनों देशों के सैनिक बर्फीले पहाड़ों पर तैनात हैं। सरकारी सूत्रों के मुताबिक करीब 20 चीनी कैंप निचले इलाकों में LAC के पास देखे गए हैं। इनके आसपास नागरिक गतिविधियां भी देखी गई हैं। सूत्रों के मुताबिक, ‘इन कैंप्स की मदद से चीनी सैनिक अपनी सीमा के अंदर बेहतर तरीके से पट्रोलिंग कर पाते हैं। यही नहीं, सीमा पर जैसे हालात बन रहे हैं, उनके मुताबिक प्रतिक्रिया भी तेजी से दे सकते हैं।’

2017 का डोकलाम विवाद
साल 2017 में करीब दो महीने तक चला डोकलाम विवाद तब पैदा हुआ था जब भूटान के इलाके में चीन के निर्माणकार्य करने पर चीन ने आपत्ति जताई थी। चीन ने ऐसी जगह पर निर्माण कराया था जो भारत को उत्तरपूर्वी राज्यों से जोड़ने वाले इलाके से नजदीक था। ऐसा शायद पहली बार हुआ था कि भारत ने चीन के साथ जमीनी विवाद पर सैन्य रुख मजबूत किया था और अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने भारत की सराहना भी की थी।

लद्दाख में भी टकराव
वहीं, लद्दाख में भारतीय खेमे ने चीनी आक्रमकता का मुंहतोड़ जवाब दिया। करीब 50 हजार भारतीय सैनिक पूर्वी लद्दाख में सब-जीरो स्थिति में भी तैनात हैं। चीन ने भी 60 हजार सैनिक भारी हथियारों, मिसाइलों के साथ तैनात कर रखे हैं। मई के बाद से यहां दो बार सेनाएं आमने-सामने आ चुकी हैं और फिलहाल वार्ताओं का दौर जारी है।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *