पाकिस्तान की घुसपैठ की कोशिशों को नाकाम कर रहा भारत, LoC पर तैनात किए 3000 अतिरिक्त जवान

Spread the love


नई दिल्ली
पाकिस्तानी सेना लगातार भारत में आतंकियों की घुसपैठ कराने की कोशिश में लगी है। इसबीच भारत ने लाइन ऑफ कन्ट्रोल (एलओसी) के पास पाकिस्तानी सेना की कोशिशों को नाकाम करने और आतंकियों को वापस खदेड़ने के लिए 3,000 अतिरिक्त सैनिकों को तैनात किया है।

शीर्ष सूत्रों के मुताबिक, ‘एलओसी पर घुसपैठ को रोकने के लिए एक अतिरिक्त टुकड़ी तैनात की गई है और इस कदम के अच्छे परिणाम भी मिले हैं।’ उन्होंने कहा कि एलओसी पर तैनात अतिरिक्त जवान घुसपैठ की सभी कोशिशों को नाकाम करने में सफल रहे हैं और आतंकवादियों को सीमा में घुसने से रोका गया है।

भारतीय सेना ने नाकाम कीं नापाक कोशिशें
सूत्रों ने कहा कि पाकिस्तानी सेना इस साल आतंकवादियों की भारत में घुसपैठ कराने में विफल रही है और भारी बर्फबारी के कारण अक्टूबर-नवंबर तक ऐसी कोशिशों को लगातार रोका जाएगा। बता दें कि भारतीय सेना एलओसी पर पूरी तरह से सक्रिय है और हाल ही में उसने उत्तरी कश्मीर के गुरेज़ सेक्टर से घुसपैठ की कोशिश को नाकाम किया है।

‘पाकिस्तान से निपटने को तैयार सेना’
सूत्रों ने कहा कि वर्तमान में, पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में एलओसी पर पाकिस्तानी सेना की एक-दो अतिरिक्त बटालियन मौजूद हैं, लेकिन यह नहीं कहा जा सकता है कि वे चीनी सेना के समर्थन में भारत पर दबाव बनाने के लिए ऐसा कर रहे हैं। अगर पाकिस्तानी ऐसा करने की कोशिश करते हैं, तो भारतीय सेना भी ऐसी स्थिति से निपटने के लिए तैयार है।

सेना प्रमुख ने लिया था तैयारियों का जायजा
पाकिस्तान सीजफायर का उल्लंघन बढ़ाने की भी कोशिशों में लगा है। दूसरी ओर सेना प्रमुख ने जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा स्थिति की समीक्षा के लिए हाल ही में श्रीनगर का दौरा किया था। इस दौरान सेना प्रमुख ने पहली बार एलओसी की फॉरवर्ड लोकेशन्स का दौरा किया था और सैनिकों की ऑपरेशनल तैयारियों की पहली बार समीक्षा की थी।

पाक लगातार कर रहा सीजफायर उल्लंघन
सूत्रों ने बताया कि श्रीनगर में सेना प्रमुख को चिनार कोर के वरिष्ठ अधिकारियों ने सुरक्षा स्थिति को लेकर जानकारी दी थी। आपको बता दें कि जहां पूर्वी लद्दाख में भारत और चाइना के बीच सीमा विवाद हो रहा है, वहीं पाकिस्तानी सेना ने एलओसी पर सीजफायर उल्लंघन बढ़ा दिया है।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *