पाकिस्तान में ‘चुड़ैल्स’ वेब सीरीज पर बैन को लेकर बवाल, लोग बोले- यह शर्म की बात

Spread the love


इस्लामाबाद
पाकिस्तान में चुड़ैल्स वेब सीरीज पर प्रतिबंध के बाद से बवाल मचा हुआ है। वहां टीवी और फिल्मी कलाकारों के साथ आम लोग भी सरकार के इस फैसले का विरोध कर रहे हैं। कई लोगों ने इसे पाकिस्तान के लिए शर्म की बात करार दिया है। लोगों का कहना है कि हमारे देश में महिलाओं के खिलाफ हिंसा और रेप को टीवी पर दिखाया जा सकता है लेकिन इससे हमारे समाज के ठेकेदार डर गए हैं। ये लोग देश में केवल पाखंड को बढ़ाना चाहते हैं।

सीरीज के डॉयरेक्टर ने पाक सरकार पर निकाली भड़ास
चुड़ैल्स वेब सीरीज को प्रतिबंधित करने पर ब्रिटिश-पाकिस्तानी डॉयरेक्टर आसिम अब्बासी ने भी पाकिस्तान सरकार पर जमकर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि कितनी अजीब बात है कि एक ओर ‘चुड़ैल्स’ की दुनियाभर में प्रशंसा हो रही है ,वहीं दूसरी ओर इसपर अपने देश में ही पाबंदी लगा दी गई है।’ अब्बासी ने इसे ‘कलाकारों की आजादी को कुचलने के समान बताया है।

पाकिस्तान में क्यों लगा प्रतिबंध
भारत में जी-5 पर प्रसारित इस धारावाहिक में पुरुष प्रधान समाज की हकीकत बयां की गई है। भारत में इसे काफी पसंद किया जा रहा है। बाल दुर्व्यवहार, जबरन विवाह, अपमानजनक श्रम की स्थिति, नस्ल और वर्ग के वर्चस्व और आत्महत्या जैसी सामाजिक बुराईयों को दर्शाया गया है। इसी बात से पाकिस्तान के सामाजिक ठेकेदारों ने इस सीरीज को बैन करने के लिए सरकार के ऊपर दबाव बनाया था।

पाक कलाकार झालय सरहदी ने बताया शर्मनाक
पाकिस्तानी टीवी एक्ट्रेस झालय सरहदी ने इस सीरीज पर बैन को शर्मनाक बताया। उन्होंने कहा कि हमारे समाज के ठेकेदार केवल पाखंड को बढ़ावा देना चाहते हैं। हम महिलाओं को उत्पीड़ित और रेप को दिखा सकते हैं लेकिन लेकिन अगर वे बातचीत की शुरुआत करना चाहते हैं तो हम पूरी पावर अपने हाथ में लेकर प्रतिबंध लगा देते हैं। यह हमारे लिए शर्म की बात है।

सिंगर शमोन इस्मैल बोले- यह वल्गर कैसे
पाकिस्तानी सिंगर, गीतकार और संगीतकार शमोन इस्मैल ने कहा कि चुड़ैल्स हमारे समाज के वास्तविक पक्षों को दिखाती है। अगल लोग इसे दिखाने को वल्गर मानते हैं तो मैं कहूंगा कि वे लोग आंख बंद करने से पहले रेप और जबरदस्ती विवाह जैसे कुकृत्यों के लिए कुछ करें।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *