पायल घोष ने लगाई राष्ट्रपति से गुहार, कहा- मीटू के न्याय के लिए हर दरवाजा खटखटा रही

पायल घोष ने लगाई राष्ट्रपति से गुहार, कहा- मीटू के न्याय के लिए हर दरवाजा खटखटा रही

Spread the love
अनुराग कश्यप के खिलाफ रेप का केस दर्ज करवा चुकीं ऐक्ट्रेस पायल घोष ने अब राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद को पत्र लिखकर मीटू केस में उनसे इस मामले में हस्तक्षेप करने का अनुरोध किया है। पायल घोष ने इस आवेदन पत्र को अपने ट्विटर पर भी शेयर किया है। 

पायल घोष ने राष्ट्रपति से इस मामले में हस्तक्षेप करने की मांग की और उम्मीद जताई है कि उन्हें न्याय मिलेगा। पायल घोष ने इस आवेदन की कॉपी ट्विटर पर शेयर की है और लिखा है, ‘आदरणीय महोदय, मैं पीड़िता हूं और मैंने वर्सोवा पुलिस स्टेशन में आरोपी के खिलाफ धारा 371 (1), 354, 340, 341 के तहत शिकायत दर्ज कराई है। आरोपी ने मुझे फिल्म उद्योग में काम देने के बहाने घर पर बुलाया और उसके बाद उसने मेरे साथ जघन्य अपराध किया। मैंने 22/09/2020 को शिकायत दर्ज कराई है, लेकिन अब तक जांच का मामला आगे नहीं बढ़ा है। आरोपी काफी प्रभावशाली है और इसलिए पुलिसकर्मी आरोपी को गिरफ्तार नहीं कर रहे हैं। यदि यह अपराध किसी गरीब ने किया होता, तो उसे तुरंत गिरफ्तार कर लिया जाता। मैं न्याय के लिए हाथ जोड़कर हर दरवाजा खटखटा रही हूं। आपसे अनुरोध है कि कृपया मेरे मामले में हस्तक्षेप करें और मुझे न्याय दिलाने में मेरी मदद करें।’


इससे पहले घोष ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को टैग करते हुए ट्वीट किया था और कश्यप के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी। घोष ने ट्वीट में कहा था, ‘अनुराग कश्यप ने मेरे साथ बुरी तरह जबर्दस्ती की। प्रधानमंत्री कार्यालय और नरेन्द्र मोदी जी कार्रवाई कीजिए तथा देश इस रचनात्मक व्यक्ति में छिपे शैतान को देखे। मुझे पता है कि यह मुझे नुकसान पहुंचा सकता है और मेरी सुरक्षा को खतरा है। कृपया मदद कीजिए।’


वहीं, कश्यप ने सिलसिलेवार ट्वीट कर इन आरोपों को खारिज किया और कहा कि यह उन्हें खामोश करने का प्रयास है। कश्यप ने ट्वीट कर कहा, क्या बात है, इतना समय ले लिया मुझे चुप करवाने की कोशिश में। चलो कोई नहीं, मुझे चुप कराते कराते इतना झूठ बोल गए कि औरत होते हुए दूसरी औरतों को भी संग घसीट लिया, थोड़ी तो मर्यादा रखिए मैडम। बस यही कहूंगा कि जो भी आरोप हैं आपके सब बेबुनियाद हैं।’

Source link


Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *