पैंगोंग झील के पास घुसपैठ कर रहा था भारत, चीन की सेना ने पीछे धकेला: चीनी मीडिया

Spread the love


हाइलाइट्स:

  • पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच जारी सैन्‍य गतिरोध खत्‍म होने का नाम नहीं ले रहा है
  • चीनी मीडिया ने दावा किया है कि भारत ने पैंगोंग के पास एक चोटी पर कब्‍जे का प्रयास किया
  • चीन के सरकारी टीवी चैनल के न्‍यूज प्रड्यूसर ने एक वीडियो को शेयर करके यह दावा किया

पेइचिंग
पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच जारी सैन्‍य गतिरोध खत्‍म होने का नाम नहीं ले रहा है। इस बीच चीनी मीडिया ने दावा किया है कि भारत ने पैंगोंग झील के पास एक पहाड़ी चोटी पर कब्‍जे का प्रयास किया जिसे चीन के सैनिकों ने विफल कर दिया। चीन के सरकारी टीवी चैनल सीजीटीएन के न्‍यूज प्रड्यूसर शेन शिवेई ने भारतीय पक्ष की ओर से बनाए एक वीडियो को शेयर करके यह दावा किया।

शिवेई ने वीडियो ट्वीट करके कहा, ‘चीन की सेना पीएलए के सैनिक चीन का झंडा द‍िखा रहे हैं और पैंगोंग झील के पास एक पहाड़ी चोटी की सुरक्षा कर रहे हैं ताकि भारतीय सैनिक और ज्‍यादा आगे न बढ़ पाएं।’ चीन के सोशल मीडिया पर यह वीडियो काफी वायरल है। उधर, भारतीय सोशल मीडिया में दावा किया जा रहा है कि तिब्‍बत‍ी युवकों से बनाई गई स्‍पेशल फ्रंटियर फोर्स के जवान चीनी सैनिकों का मुकाबला कर रहे हैं।

लद्दाख की भीषण ठंड से चीन की हेकड़ी गुम, अब अलापने लगा शांति का राग

भारतीय सैनिक हिंदी और तिब्‍ब‍ती भाषा बोलते नजर आ रहे
यह वीडियो कब और कहां का है, इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है। वीडियो में भारतीय सैनिक हिंदी और तिब्‍ब‍ती भाषा बोलते नजर आ रहे हैं। बता दें कि लद्दाख के कई इलाकों में जारी तनाव के बीच चीनी फौज भीषण ठंड से निपटने की तैयारियों में जुटी है। इस बीच चीनी रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों ने कुछ दिनों पहले बॉर्डर पर बने सेना को एक अत्याधुनिक बैरक का उद्घाटन किया है। बताया जा रहा है कि यह बैरक पैंगोंग झील के किनारे पर बना हुआ है। जिसमें हजारों की संख्या में चीनी सेना के जवान, हथियार और गोला-बारूद रखे जा सकते हैं।
चीनी सरकारी मीडिया ने जारी किया वीडियो
चीन की सरकारी मीडिया सीजीटीएन के न्यूज प्रोड्यूसर शेन शिवई ने एक वीडियो ट्वीट कर इस बैरक की झलक दिखाई है। उन्होंने दावा किया कि यह अत्याधुनिक बैरक लद्दाख की भीषण ठंड से चीनी सैनिकों को बचाएगी। उन्होंने कहा कि इस बैरक में अत्याधुनिक हीटिंग सिस्टम, ऑक्सीजन सपोर्ट और रहने के संसाधन दिए गए हैं।

लद्दाख में गोली नहीं, चीन को भागने पर मजबूर करेंगे सेना के ये ‘हथियार’

बैरक का उद्घाटन करते दिखे चीनी अधिकारी
वीडियो में दिखाई दे रहा है कि लद्दाख जैसे दिखने वाले एक इलाके में इस बैरक का चीनी सेना के अधिकारी उद्घाटन कर रहे हैं। इस दौरान चीनी सैनिक पटाखे भी फोड़ रहे हैं। एक चीनी सैनिक मंडारिन भाषा में कुछ बोलता भी दिखाई दे रहा है। हालांकि चीन के ऐसे प्रोपगेंडा वीडियो पर इतनी आसानी से भरोसा भी नहीं किया जा सकता है। फिर भी भारतीय फौज ने भी ठंड से निपटने की मुकम्मल तैयारी कर ली है।

चीन ने गिराईं 16 हजार मस्जिदें, जानें ‘सांस्कृतिक नरसंहार’ का सच

भारत के पास सियाचीन का अनुभव
लद्दाख की भीषण ठंड को झेलने के लिए भारतीय सेना कई तरह के इक्यूपमेंट का इस्तेमाल करेगी। इनमें से अधिकतर सामानों का प्रयोग सियाचीन जैसे दुनिया के सबसे ऊंचे युद्धक्षेत्र में पहले से भारतीय फौज करती आई है। ऐसे में भारतीय फौज के सामने चीनी फौज कितने दिनों तक टिकेगी, यह देखने वाली बात होगी। चीनी विदेश मंत्रालय पहले ही ठंड के दिनों में अपनी सेना को वापस बुलाए जाने की बात कर चुका है। उसको डर है कि अगर इतनी ठंड में उसके नौसिखिए सैनिक रहे तो वो भारत की गोली से नहीं बल्कि वहां के मौसम की मार से पहले ही मर जाएंगे।

china india

चीनी मीडिया ने भारतीय घुसपैठ का दावा क‍िया



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *