पैंगोंग में चीन ने तैनात की अपनी एडवांस अटैक बोट्स, जानिए कितनी हैं शक्तिशाली

Spread the love


पेइचिंग
लद्दाख में जारी तनाव के बीच पैंगोंग झील में चीनी सेना अपनी टाइप -928 डी अटैक बोट्स से लगातार गश्त कर रही है। ये बोट्स न केवल चलने में ही तेज हैं, बल्कि इनकी फायर पावर भी जबरदस्त है। चीन ने एलएसी के उस पार लगभग 18 की संख्या में इन बोट्स को तैनात किया हुआ है। हाईस्पीड से चलने वाली इन पेट्रोल बोट्स में छोटे और मध्यम दूरी तक मार करने वाले हथियार भी तैनात हैं। उनके ये बोट्स अभी एलएसी के चीन वाले इलाके में ही गश्त कर रहे हैं।

सैटेलाइट में दिखे थे चीन के 18 बोट्स
जुलाई में जारी ओपन सोर्स इंटेलिजेंस एनालिस्ट Detresfa की सैटलाइट तस्वीर के अनुसार चीन ने पैंगोंग झील के पास बड़े पैमाने पर इंफ्रास्टक्टर का निर्माण भी किया है। चीन ने इन बोट्स के रुकने के लिए डॉकयार्ड, रिपेयरिंग डिपो और रडार स्टेशन भी बनाया हुआ है। इनके अलावा सैनिकों के रहने के लिए शेल्टर का भी निर्माण किया गया है। इनके आसपास बिजली की सप्लाई के लिए सोलर पैनल भी लगाए गए हैं।

टाइप -928 डी पेट्रोल बोट से गश्त कर रहा चीन
नेवल न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, चीन की टाइप -928 डी पेट्रोल बोट स्वीडिश सीबी -90 की तरह ही ताकतवर है। इससे पहाड़ी झीलों में चीनी सेना की ताकत में भी इजाफा हुआ है। चीन ने इसे सबसे पहले जुलाई 2019 में पैंगोंग झील में तैनात किया था। भारत के साथ जब सीमा पर तनाव बढ़ने लगा तब चीन इन बोट्स की मदद से भारतीय इलाकों में घुसपैठ की कोशिश भी की थी। लेकिन, भारतीय सेना ने चीन को पीछे हटने पर मजबूर कर दिया था।

कई प्रकार के हथियारों से लैस हैं ये बोट्स
चीनी टाइप 928डी पेट्रोल बोट्स का निर्माण चेंगझाऊ की चेंगझाऊ एफआरपी शिपयार्ड ने किया है। चीन पहले से ही ग्लास रीइन्फोर्स्ड प्लास्टिक बोट्स को बनाने में माहिर है। यह बोट भी उसी मैटेरियल से बनी हुई है। यह शिपयार्ड पहले से ही चीनी सेना के लिए कई तरह के नौसैनिक जहाजों का निर्माण कर रहा है। इन बोट्स को कई प्रकार से हथियार प्रणाली और मिसाइलों से लैस भी किया गया है।


12.7 एमएम की हैवी मशीनगन है मुख्य हथियार
टाइप 928डी पेट्रोल बोट लगभग 45 फीट लंबी होती है जबकि इसका बीम 13 फीट का होता है। इस बोट में 295 हॉर्सपावर के तीन मोटर्स लगे होते हैं। जिससे यह बोट पानी में 38.9 समुद्री मील की अधिकतम गति से चल सकती है। इस तरह की हमलावर बोट में 11 सैनिक तैनात होते हैं। जिसमें प्रमुख हथियार के रूप में 12.7 एमएम की एक हैवी मशीनगन लगी होती है। इनके अलावा इस बोट में कई तरह की मिसाइलें भी लगी होती हैं।

लद्दाख: चीन के कब्जे में कितनी जमीन? राजनाथ ने राज्यसभा में बताया



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *