बहानेबाजी न कर सके चीन, इसलिए इस बार कोर कमांडर मीटिंग में विदेश मंत्रालय के प्रतिनिधि भी थे

Spread the love


हाइलाइट्स:

  • भारत चीन की इसबार की बार कोर कमांडर मीटिंग में विदेश मंत्रालय के प्रतिनिधि भी थे
  • चीन बहाना न बना पाए और मुकर ना जाए, इसलिए भारत ने अपनाई ये रणनीति
  • भारत ने चीन को दिखाया- हम हर लेवल पर एक हैं

नई दिल्ली
सोमवार को भारत-चीन के बीच हुई कोर कमांडर मीटिंग में इस बार भारत की तरफ से विदेश मंत्रालय के प्रतिनिधि भी थे। जबकि इससे पहले हुई 5 कोर कमांडर मीटिंग में सिर्फ मिलिटरी ऑफिसर ही शामिल हुए। ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर यह बदलाव क्यों किया गया? एक सीनियर अधिकारी के मुताबिक यह इसलिए किया गया ताकि चीन कोई बहानेबाजी न कर सके और फिर अपनी बातों से मुकर ना सके।

चीन को दिखाया- हम हर लेवल पर एक हैं
एक सीनियर अधिकारी ने नवभारत टाइम्स को बताया कि कोर कमांडर मीटिंग में विदेश मंत्रालय के प्रतिनिधि होने से चीन को यह साफ संदेश गया कि भारत में मिलिटरी और डिप्लोमेटिक स्तर पर कोई कंफ्यूजन नहीं है और हम सब एक साथ हैं। उन्होंने कहा कि इससे भारत का युनाइटेड फ्रंट सामने रखा गया। साफ संदेश दिया कि पूरी सरकार एक साथ है। क्योंकि चीन की तरफ से कई बार कहा गया कि भारत डिप्लोमेटिक स्तर पर ठीक बात कर रहा है पर मिलिटरी लेवल पर ठीक नहीं है। हमने दिखाया कि कोई अलग नहीं है।

पढ़ें- रूस की तर्ज पर भारत से युद्ध की तैयारी कर रहा चीन?

अपनी बात से अब नहीं पलट सकता चीन
उन्होंने कहा कि यह इसलिए भी किया गया ताकि कंटीन्युटि बनी रहे और भारत का स्टैंड मजबूत हो। कोर कमांडर मीटिंग में विदेश मंत्रालय के वही जॉइंट सेक्रेटरी शामिल हुए जो डब्लूएमसीसी मीटिंग में भी रहते हैं। इस बार विदेश मंत्रालय का प्रतिनिधि होने की वजह से ही जॉइंट स्टेटमेंट दे पाए। इससे चीन अब अपनी बात से मुकर नहीं सकता। पहले कोर कमांडर मीटिंग का कोई रेकॉर्ड नहीं रहता था और चीन अपनी कही बात से पलट जाता था। जॉइंट स्टेटमेंट देने का प्रस्ताव भी भारत की तरफ से ही रखा गया था।

यह भी पढ़ें- 13 घंटे बैठक, भारत का सख्त रुख, पर इस वजह से नहीं समझ पा रहा था चीन

सीनियर अधिकारी के मुताबिक पहले चीन डब्लूएमसीसी की मीटिंग में कहता था कि ग्राउंड लेवल पर मसला हल करो और ग्राउंड लेवल पर बातचीत में कहता था कि हमारे पास मेन्डेट नहीं है, इसे डब्लूएमसीसी की मीटिंग में हल करो। अब चीन ऐसा नहीं कर पाएगा। उन्होंने कहा कि सातवें राउंड की कोर कमांडर मीटिंग भी इसी तरह होगी।

लद्दाख बॉर्डर: पैंगोंग में भारतीय जवानों के इस एक्शन से खौफ में चीन



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *