बीजेपी खुद सोचे, क्यों दरक रही है उसकी नींव और सहयोगी क्यों छोड़ रहे साथ: उद्धव

Spread the love


मुंबई
महाराष्ट्र में बीजेपी के पुराने नेता एकनाथ खडसे के एनसीपी जॉइन करने के बाद मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधा है। महाराष्ट्र के ओस्मानाबाद में मीडिया से बात करते हुए उद्धव ने कहा कि बीजेपी के सभी पुराने साथी अब उसका साथ छोड़ रहे हैं। ऐसे में भारतीय जनता पार्टी को इसपर विचार करना चाहिए कि जब वह सफलता के शीर्ष पर होने का दावा कर रही है, ऐसे वक्त में उसकी नींव क्यों दरकने लगी है। ठाकरे ने कहा कि एकनाथ खडसे उन नेताओं में शामिल हैं, जिन्होंने बीजेपी को महाराष्ट्र में खड़ा किया था।

एकनाथ खडसे के बीजेपी छोड़ने की बात कहने के बाद उद्धव ठाकरे ने मीडिया से बात की। ठाकरे ने कहा कि एकनाथ खडसे उन नेताओं में शुमार रहे हैं, जिन्होंने प्रमोद महाजन और गोपीनाथ मुंडे जैसे नेताओं के साथ महाराष्ट्र में बीजेपी का विस्तार किया था। वो प्रदेश में पार्टी की नींव बनाने वाले नेताओं में से एक रहे हैं, ऐसे में बीजेपी को यह सोचना चाहिए कि जब वह सफलता के शीर्ष पर है, तब उसकी नींव क्यों दरक रही है। ठाकरे ने कहा कि कोई कितना भी शीर्ष पर पहुंच जाए, लेकिन अगर उसके आधार को बनाने वाले लोग उसके साथ नहीं हैं तो इस सफलता का कोई अर्थ नहीं।

महाराष्ट्र बीजेपी को तगड़ा झटका, एकनाथ खडसे ने दिया इस्तीफा, शुक्रवार को एनसीपी में होंगे शामिल

‘पहले शिवसेना और अब अकाली दल ने भी छोड़ा साथ’
उद्धव ने कहा कि पूर्व में बीजेपी के सबसे पुराने सहयोगी शिवसेना ने उसका साथ छोड़ा। इसके बाद अकाली दल भी उसके नेतृत्व वाले एनडीए गठबंधन से अलग हो गया। इन सब के बीच अब एकनाथ खडसे जैसे नेता बीजेपी छोड़कर जा रहे हैं, इसे देखते हुए पार्टी को अब हालात पर विचार करना चाहिए। उद्धव ने कहा कि एकनाथ खडसे एक योद्धा किस्म के नेता हैं और उन्होंने महाराष्ट्र के लोगों के लिए बहुत काम किया है। मैं बीजेपी का एक पुराना मित्र रहा हूं, ऐसे में एक दोस्त के नजरिए से मेरी सलाह है कि पार्टी को इन बातों पर विचार करना चाहिए।

देवेंद्र फडणवीस से ही नाराज थे एकनाथ खडसे
एक जमाने में बीजेपी के कद्दावर राजनेताओं में से एक रहे एकनाथ खडसे ने अपना इस्तीफा पार्टी को सौंपा था। खडसे ने कहा कि उन्होंने देवेंद्र फडणवीस के कारण पार्टी से इस्तीफा दिया है। खडसे को पूर्व में में देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व वाली सरकार से ही मंत्री पद छोड़ना पड़ा था। 2016 में इसे लेकर ऐलान करने के बाद से ही खडसे बीजेपी ने नाराज चल रहे थे।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *