मथुरा: पटाखों से भरे मकान में धमाका, 200 मीटर दूर तक गिरा मलबा, 1 की मौत

Spread the love


हाइलाइट्स:

  • मथुरा में एक मकान में धमाका, 1 की मौत, कई लोग जख्मी
  • मकान में अवैध तरीके से बारूद का किया गया था भंडारण
  • बिना लाइसेंस के पटाखे बनाने के लिए रखा गया था बारूद
  • सुरीर कोतवाली से चंद कदम की दूरी पर घटना से उठे सवाल

मथुरा
यूपी के मथुरा में एक मकान में धमाके से हड़कंप मच गया। इस मकान में पटाखे रखे हुए थे। धमाका इतना भयंकर था कि मकान के मलबे 200 मीटर दूर तक फैल गए। सुरीर कोतवाली से चंद कदमों की दूरी पर धमाके से पुलिस भी सवालों के घेरे में है। वहीं धमाके के बाद अफरा-तफरी और चीख-पुकार मच गई।

सुरीर थाना क्षेत्र के एक मकान में अवैध बारूद रखा गया था। इसमें अचानक विस्फोट हो गया। तेज धमाके के साथ हुए विस्फोट में दो मंजिला मकान जमीदोंज हो गया। मकान में रहने वाले शख्स की मौत हो गई, जबकि कई घायल हैं। इस हादसे में मकान स्वामी जोगेंद्र सिंह की अस्पताल पहुंचते-पहुंचते मौत हो गई, वहीं आधा दर्जन लोग घायल बताए जा रहे हैं।

दो घायलों की हालत गंभीर बताई जा रही है। फिलहाल हादसे के बाद पुलिस और फायरकर्मी जांच में जुटे हैं। आतिशबाजी के लिए बारूद के अवैध भंडारण से हुए इस हादसे में आस-पास के मकानों को भी नुकसान पहुंचा है। बताया जा रहा है कि घनी आबादी के बीच बारूद का भंडारण किया जा रहा था। देर रात बारूद में आग लग गई।

इस धमाके की चपेट में आकर जोगेंद्र और उनकी पत्नी शिवानी सहित पड़ोसी बॉबी जोशी, बृजकिशोर, इंद्रवती, शशि, खोना और कारो घायल हो गए। धमाके की आवाज सुनकर गांव में सो रहे लोग घटनास्थल की ओर दौड़ पड़े। गांव के लोगों ने मलबे के नीचे दबे लोगों को बाहर निकाला। जोगेंद्र की इलाज के लिए ले जाते समय मौत हो गई। वहीं शिवानी और बॉबी जोशी गंभीर रूप से घायल हैं। दोनों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। कई लोगों को मामूली चोटें आई हैं, जिन्हें प्राथमिक उपचार देकर घर भेज दिया गया।

बताया जा रहा है कि जोगेंद्र सिंह बिना लाइसेंस के आतिशबाजी का काम करते थे। घनी आबादी में अपने घर पर जोगेंद्र ने आतिशबाजी का अवैध भंडारण कर रखा था। विस्फोट की चपेट में कई पशु भी आ गए।

हादसे से उठे पुलिस पर सवाल

देर रात हुए बारूद के धमाके ने पुलिस अफसरों की नींद उड़ा दी है। आनन-फानन में इलाका और नौहझील पुलिस मौके पर पहुंची और घायलों को उपचार के लिए अस्पताल भिजवाया। पुलिस ने मामले की जांच पड़ताल शुरू कर दी है। उधर पुलिस की नाक के नीचे हो रहे अवैध भंडारण की वजह से हुए हादसे पर पुलिस अफसर कुछ बोलने से बचते नजर आए।

इस हादसे के बाद सवाल यह उठता है कि कोतवाली से चंद कदम की दूरी पर चल रहे अवैध बारूद के भंडारण की पुलिस को भनक कैसे नहीं लगी। सूत्रों की मानें तो थाने के पीछे एक और व्यक्ति अवैध बारूद का भंडारण करता है। हादसे के बाद उसने बारूद को गाड़ियों में भरकर दूसरी जगह भेज दिया।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *