मोदी ने बाढ़ प्रभावित राज्यों के CM ठाकरे और येदियुरप्पा से की बात, दिया हरसंभव मदद का भरोसा

Spread the love


नई दिल्ली
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को भारी बारिश से प्रभावित महाराष्ट्र और कर्नाटक के मुख्यमंत्रियों से बात कर उन्हें राहत व बचाव कार्य में हरसंभव मदद का आश्वासन दिया। बता दें कि बारिश से जुड़ी घटनाओं में महाराष्ट्र में अब तक कई लोगों की मौत हो चुकी है जबकि कर्नाटक के अनेक हिस्सों में लगातार बारिश और प्रमुख बांधों से पानी छोड़े जाने के कारण बाढ़ से हालात गंभीर हो गए हैं।

मोदी ने ट्वीट कर कहा, ‘महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से बात कर बाढ़ और भारी बारिश से उत्पन्न स्थिति पर चर्चा की। प्रभावित भाई बहनों के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं। वहां जारी राहत व बचाव कार्य में केंद्र की हरसंभव मदद का भरोसा दिया।’

एक अन्य ट्वीट में मोदी ने बताया, ‘कर्नाटक के विभिन्न हिस्सों में बारिश और बाढ़ से उत्पन्न स्थिति पर मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा से चर्चा की। बाढ़ से प्रभावित कर्नाटक के भाई-बहनों के साथ हम खड़े हैं। राहत व बचाव कार्य में केंद्र की ओर से हरसंभव मदद का भरोसा दिया।’

पश्चिमी महाराष्ट्र के कई जिलों में भारी बारिश और उसके बाद आई बाढ़ में 2,300 से अधिक मकान क्षतिग्रस्त हो गए और बड़े पैमाने पर फसल बर्बाद हो गई। इन जिलों में 21,000 से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया। महाराष्ट्र में बारिश से जुड़ी घटनाओं में अब तक कई लोगों की मौत हो चुकी है। इनमें से 14 लोगों की मौत सोलापुर में, 9 सांगली में, 4 पुणे में और एक सतारा में हुई है। उत्तर कर्नाटक सबसे बुरी तरह प्रभावित रहा जहां पिछले तीन महीने में तीसरी बार बाढ़ आई है। इस क्षेत्र के बेलगावी, कलबुर्गी, रायचुर, यादगिर, कोप्पल, गोदाग, धारवाड़, बागलकोट, विजयपुरा और हावेरी सबसे बुरी तरह प्रभावित हुए।

मोदी ने बुधवार को तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई एस जगनमोहन रेड्डी से भी बात की थी और दोनों राज्यों में लगातार बारिश से उत्पन्न स्थिति पर चर्चा की। उन्होंने दोनों मुख्यमंत्रियों को हरसंभव केंद्रीय मदद का आश्वासन दिया। दोनों राज्य बाढ़ और अत्यधिक बारिश से सबसे अधिक प्रभावित हुए हैं।

महाराष्ट्र में बाढ़ से हुई 48 लोगों की मौत
महाराष्ट्र के पुणे, औरंगाबाद और कोंकण संभागों में पिछले तीनों में भारी बारिश और उसके बाद आई बाढ़ के कारण कम से कम 48 लोगों की मौत हो गई है। जबकि लाखों हेक्टयर क्षेत्र में बड़े पैमाने पर फसल बर्बाद हो गई। अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। अधिकारियों ने बताया कि पश्चिमी महाराष्ट्र के पुणे संभाग में 29, मध्य महाराष्ट्र के औरंगाबाद संभाग में 16 और तटीय कोंकण में तीन लोगों की वर्षा जनित घटनाओं में मौत हो गई।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *