रवि किशन और मनोज तिवारी ने कहा- नई फिल्म सिटी से नहीं होगा बॉलिवुड का बंटवारा

Spread the love


भोजपुरी अभिनेता से राजनेता बने रवि किशन और मनोज तिवारी का मानना है कि उत्तर प्रदेश के नोएडा में स्थापित होने वाला प्रस्तावित ‘इन्फोटेनमेंट’ शहर बॉलिवुड को विभाजित करने के बजाय भारतीय सिनेमा को काफी बढ़ावा देगा। इस साल सितंबर में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गौतम बुद्ध नगर जिले में 1,000 एकड़ क्षेत्र में फैले विश्वस्तरीय इन्फोटेनमेंट शहर की स्थापना करने की घोषणा की थी।

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर से भाजपा के लोकसभा सांसद रवि किशन ने कहा कि नई फिल्म सिटी योगी आदित्यनाथ द्वारा बनाई गई एक बड़ी परियोजना है और यह पूरे देश की आवश्यकताओं को पूरा करेगी। रवि किशन ने कहा, ‘यह (फिल्म सिटी) राज्य के 24 करोड़ लोगों के लिए रोजगार पैदा करेगी। फिल्म सिटी 1,000 एकड़ में फैले क्षेत्र में बनाई जानी प्रस्तावित है, जो मुंबई फिल्म सिटी की तुलना में बहुत बड़ी होगी, जो 500 एकड़ में फैली हुई है।’

रवि किशन ने आगे यह भी कहा कि नोएडा में प्रस्तावित इन्फोटेनमेंट शहर भारत के लोगों के लिए गर्व की बात होगी, क्योंकि राज्य में ‘विश्व स्तरीय’ सुविधा का निर्माण किया जा रहा है। उन्होंने कहा, ‘भारत दुनिया का सबसे बड़ा फिल्म निर्माता है, क्योंकि यह एक साल में कई भाषाओं की 1,000 से अधिक फिल्में बनाता है। इतनी बड़ी संख्या में फिल्मों की मांग पूरी करने के लिए हिंदी हार्टलैंड में एक नई विश्व स्तरीय फिल्म सिटी मदद करेगी।’

रवि किशन ने यह भी कहा कि योगी आदित्यनाथ द्वारा लिए गए निर्णय की सभी की ओर से सराहना की जा रही है। महाराष्ट्र में शिवसेना की ओर से फिल्म सिटी पर सवाल उठाए जाने पर किशन ने कहा, ‘नई फिल्म सिटी पर इतना शोर-शराबा मचाना अच्छा नहीं है, क्योंकि यह पाकिस्तान के कराची में नहीं बल्कि उत्तर प्रदेश में बनाई जा रही है, जो कि है भारत का हिस्सा है।’ उन्होंने कहा, ‘फिल्म सिटी पूरे देश के लिए बनाई जा रही है, यहां तक कि मराठी फिल्मों को भी सब्सिडी मिलेगी। प्रस्तावित सुविधा में हिंदी, तेलुगु, मलयालम, भोजपुरी, तमिल और यहां तक कि धारावाहिकों और वेबसीरीज की भी शूटिंग की जाएगी।’

यह भी पढ़ेंः Film City in UP: जानिए, योगी आदित्यनाथ के ‘मिशन बॉलीवुड’ को किन हस्तियों का मिला साथ?
भोजपुरी अभिनेता ने कहा कि जो भी अच्छी कहानियों पर आधारित भारतीय संस्कृति को लेकर फिल्में या धारावाहिक बनाने के लिए सामने आएगा, उन्हें सब्सिडी मिलेगी। भाजपा नेता ने यह भी कहा कि यह नई फिल्म सिटी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत के महत्वाकांक्षी मिशन को पूरा करेगी।

भोजपुरी अभिनेता और गायक मनोज तिवारी पूर्वोत्तर दिल्ली से भाजपा के लोकसभा सांसद हैं। उन्होंने कहा, ‘उत्तर प्रदेश में एक नई फिल्म सिटी के कारण बॉलीवुड विभाजित नहीं होगा।’ उन्होंने कहा कि बॉलिवुड पूरी तरह से मुंबई में एक फिल्म की शूटिंग पूरी नहीं करता है, क्योंकि फिल्मों की शूटिंग भारत और विदेशों में कई स्थानों पर की जाती हैं। उन्होंने कहा, ‘इस प्रकार लोग फिल्मों की शूटिंग के लिए उत्तर प्रदेश भी आएंगे। मनोज तिवारी ने कहा कि शिवसेना के नेताओं को नकारात्मक सोच से छुटकारा पाना चाहिए, क्योंकि नई फिल्म सिटी में क्षेत्रीय कलाकारों को अपनी प्रतिभा दिखाने में मदद मिलेगी।’

यह भी पढ़ेंः यूपी में फिल्म सिटी का ट्रांसफर? उद्धव के बयानों के बाद सीएम योगी बोले- कुछ भी कहीं नहीं ले जा रहे

नोएडा में पहले ही सेक्टर 16-ए में एक फिल्म सिटी होने के बारे में पूछे जाने पर जो कि 100 एकड़ के क्षेत्र में फैली हुआ है, मनोज तिवारी ने कहा, ‘नोएडा में वर्तमान फिल्म सिटी में केवल इनडोर शूटिंग की सुविधा है, जबकि नई फिल्म सिटी में आउटडोर शूटिंग के विकल्प भी होंगे।’

इस हफ्ते की शुरुआत में योगी आदित्यनाथ ने अपनी दो दिवसीय मुंबई यात्रा के दौरान राहुल मित्रा, सुभाष घई, बोनी कपूर, मनमोहन शेट्टी, सतीश कौशिक, अर्जुन रामपाल, जंयतीलाल गड़ा, तिग्मांशु धुलिया, अनिल शर्मा और रवि किशन जैसी फिल्मी हस्तियों से मुलाकात की थी। सीएम ने मुंबई यात्रा में मंगलवार की रात ऐक्टर अक्षय कुमार से भी मुलाकात की।

यह भी पढ़ेंः Film City in UP: फिल्म सिटी पर योगी आदित्यनाथ का वह प्लान, जो उद्धव ठाकरे की नींद उड़ा रहा है!

फिल्म निर्माण में अग्रणी मारवाह स्टूडियो के सीईओ अक्षय मारवाह ने कहा, ‘हम दशकों से प्रतिभाओं का पोषण कर रहे हैं और यह नया फिल्म शहर भारत और विदेशों में युवा फिल्म निर्माताओं के लिए और भी नए रास्ते खोलेगा।’ मारवाह ने भारत की पहली फिल्म यूनिवर्सिटी (एएएफटी) की स्थापना की है। उन्होंने आगे कहा कि नई फिल्म सिटी भारत में बॉलिवुड की विभाजित नहीं करेगी। इसके बजाय यह अधिक अवसर पैदा करेगी क्योंकि भारत दुनिया में सबसे ज्यादा फिल्मों का निर्माण करता है। उन्होंने यह भी कहा कि इससे क्षेत्रीय सिनेमा को ग्रोथ में मदद मिलेगी।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *