रिटायर होते ही गुप्तेश्वर पर पहला सियासी हमला, संजय राउत बोले- महाराष्ट्र पर राजकीय तांडव का बिहार सरकार ने दिया इनाम

Spread the love


मुंबई/पटना:

बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय (Gupteshawar Pandey) के वीआरएस यानि रिटायरमेंट लेते ही उनपर सियासी हमले शुरू हो गए हैं। पहला हमला वहीं से हुआ है जिसकी उम्मीद थी यानि महाराष्ट्र से। दरअसल सुशांत सिंह राजपूत केस में जब महाराष्ट्र सरकार ने जांच करने गए बिहार के IPS विनय तिवारी को जब जबरन क्वारंटीन कर दिया था तब गुप्तेश्वर पांडेय ने सोशल मीडिया का इस्तेमाल करते हुए महाराष्ट्र सरकार को घेर लिया था। जानिए अब गुप्तेश्वर पर हमला किसने किया है।

गुप्तेश्वर को ‘राजकीय तांडव’ का बिहार सरकार दे रही इनाम- संजय राउत
शिवसेना के राज्यसभा सांसद और फायरब्रांड नेता संजय राउत ने गुप्तेश्वर पांडेय पर सीधा और तीखा हमला किया है। संजय राउत ने कहा है कि ‘जो पार्टी उन्हें उम्मीदवार बनाएगी उसपर लोग भरोसा नहीं करेंगे। महाराष्ट्र पर उनके ‘राजकीय तांडव’ के पीछे का एजेंडा अब साफ हो गया है। वो मुंबई मामले में अपने बयानों के जरिए एक राजनीतिक एजेंडा चला रहे थे और अब इसके लिए पुरस्कार लेने जा रहे हैं।’

गुप्तेश्वर पांडेय का संजय राउत को जवाब- NBT EXCLUSIVE
इसी बीच गुप्तेश्वर पांडेय ने NBT से बातचीत करते हुए इसका जवाब दे दिया है। उन्होंने पटना में कहा कि उनपर सुशांत केस को लेकर सवाल उठाए जा रहे थे, उन्हें एक तरह से पॉलिटिकल एजेंडा बनाया जा रहा था। ऐसे में बिहार चुनाव में उनकी निष्पक्षता पर भी सवाल खड़े होते इसीलिए उन्होंने रिटायरमेंट ले लिया। राजनीति में जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि राजनीति में जाना कोई बुरी बात नहीं है। लेकिन अभी तक इसपर फैसला नहीं लिया है। गुप्तेश्वर पांडेय का पूरा बयान वीडियो में देखें।
देखें वीडियो..

Exclusive: DGP पद से वीआरएस लेने के बाद बोले गुप्तेश्वर पांडेय- ‘राजनीति में जाना पाप नहीं, मुझे पॉलिटिकल एजेंडा क्यों बना रहे लोग’

रिया चक्रवर्ती पर दिए अपने बयान से घिर गए थे गुप्तेश्वर, देनी पड़ी थी सफाई
सुशांत केस सीबीआई को सौंपे जाने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद रिया चक्रवर्ती को लेकर की गई आपत्तिजनक टिप्पणी पर बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे को सफाई देनी पड़ी थी। उन्होंने कहा था कि रिया केस की मुख्य अभियुक्त हैं इसलिए उन्हें मुख्यमंत्री के बारे में कोई टिप्पणी करने के बजाय कानूनी तरीके से अपनी बचाव करना चाहिए। गौरतलब है कि इससे पहले गुप्तेश्वर पांडे ने कहा था कि रिया की औकात नहीं है कि वो बिहार के सीएम नीतीश कुमार पर कोई टिप्पणी करें। उनके इस बयान की काफी आलोचना हुई थी।
देखें वो बयान….

‘रिया की औकात नहीं…’ सुशांत केस में SC के फैसले पर ये क्या बोल गए बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय

गुप्तेश्वर के चुनाव लड़ने की चर्चा
बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने वीआरएस ले लिया है। प्रदेश की नीतीश कुमार सरकार (Nitish Kumar Government) ने इसे मंजूर भी कर लिया है। गुप्तेश्वर पांडेय के कार्यकाल पूरा होने से पहले रिटायरमेंट (वीआरएस) लेने को लेकर अटकलें काफी समय से लगाई जा रही थीं। अब उन्होंने वीआरएस के लिए आवेदन दिया, जिसे राज्य सरकार ने मंजूर कर लिया है। सिविल डिफेंस एंड फायर सर्विसेज के डीजी संजीव कुमार सिंघल को अगले आदेश तक डीजीपी बिहार का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है।

ये भी पढ़ें… 11 साल पहले भी VRS ले चुके थे गुप्तेश्वर पांडे, लालमुनि चौबे ने मंसूबों पर फेरा पानी तो दोबारा पहन ली वर्दी

गुप्तेश्वर पांडेय के आगामी चुनाव लड़ने की चर्चा
1987 बैच के आईपीएस ऑफिसर गुप्तेश्वर पांडेय को जनवरी 2019 में बिहार का डीजीपी बनाया गया। बतौर डीजीपी उनका कार्यकाल 28 फरवरी 2021 तक था। हालांकि, उन्होंने मंगलवार को कार्यकाल पूरा होने से पहले रिटायरमेंट का फैसला लिया। जिसे प्रदेश सरकार ने मंजूर कर लिया। उनके VRS के बाद चर्चा इस बात की भी है कि गुप्तेश्वर पांडेय विधानसभा चुनाव लड़ सकते हैं। माना जा रहा कि वो एनडीए की ओर से उम्मीदवार हो सकते हैं।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *