रिया की मां को चिंता, कैसे उबर पाएगी उनकी बेटी, बताया- जेल से घर आकर क्या बोली

Spread the love


रिया चक्रवर्ती को 28 दिन बाद जेल से बाहर आने की इजाजत मिली, ये सुनकर उनकी मां संध्या चक्रवर्ती के मुंह से निकला, ‘ईश्वर हैं’ और वह रो पड़ीं। यह पूरा समय रिया के परिवार पर काफी भारी रहा है। उनकी मां ने बताया कि रिया के पिता बेहोश होकर गिरने ही वाले थे।

बेटा जेल में है, सोचकर पागल हो रही हूं
रिया की मां ने TOI से कहा, रिया पर क्या बीती है, वह इन सबसे कैसे हील होगी? लेकिन वह फाइटर है, वह मजबूत होगी। रिया के दोस्तों ने उनको जेल के गेट से रिसीव किया और उनके सांताक्रूज घर लेकर गए। उनकी मां संध्या चक्रवर्ती ने कहा कि अब उनकी बेटी कुछ देर बैठकर ‘झूठी बदनामी’ और पूरे देश ने जो ‘लिंचिंग’ की है, उस बुरे सपने से उबर पाएगी। उन्होंने कहा, मुझे उसको इस दुख से बाहर लाने के लिए थेरपी करवानी होगी। रिया की मां ने कहा कि राहत की बात है कि वह जेल से बाहर आ गई। लेकिन दुख की बात है कि ये सब अभी खत्म नहीं हुआ। मेरा बेटा अभी भी जेल में है और मैं ये सब सोच-सोचकर पागल हो रही हूं।

दरवाजे की घंटी बजते ही लगने लगता है डर
रिया के पड़ोसी ने रीसेंटली दावा किया था कि उन्होंने रिया सुशांत को 13 जून की शाम साथ में देखा था। इसको रिया की मां ने गलत बताया। उन्होंने कहा, हम उस पड़ोसी को जानते हैं। वह सुशांत की बहुत बड़ी फैन थी। हमारे घर भी एक बार मिलने आई थी। बिना प्रूफ के वह ऐसा क्यों कह रही है ये समझ से परे है। रिया और सुशांत की लोकेशन चेक करके पता चल जाएगा कि यह एक और झूठ है। रिया की मां ने कहा, जैसे ही दरवाजे की घंटी बजती है, हम डर जाते हैं। हमें नहीं पता होता कि कौन आ जाए। कई बार रिपोर्टर सीबीआई बनकर भी हमारी बिल्डिंग में घुस आते हैं। हमें दरवाजे के बाहर सीसीटीवी लगवाने पड़े हैं।

जेल से र‍िहा हुई रिया चक्रवर्ती, 8 शर्तों पर बॉम्‍बे हाई कोर्ट से मिली जमानत

सो नहीं पाती, आने लगे हैं आत्महत्या के खयाल
रिया की मां ने कहा, मेरे बच्चे जेल में हैं तो मैं बेड पर सो भी नहीं पाती। मैं खा नहीं पाती। किसी अनहोनी का खयाल आता है तो आधी रात को उठ जाती हूं। मेरा परिवार बर्बाद हो गया है। एक पॉइंट पर तो मुझे आत्महत्या के खयाल आने लगे थे। मुझे थेरपी लेनी पड़ी और जब ऐसे विचार आते हैं तो सोचती हूं कि बच्चों के लिए मुझे जीना है। उन्होंने कहा, मुझे अपनी बेटी पर गर्व है। उसने इतना कुछ सहा और आज घर आकर बोली, आप दुखी क्यों लग रही हैं, हमें स्ट्रॉन्ग होकर इससे लड़ना है।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *