लद्दाख में तनाव के बीच PoK में चीन की बढ़ी घुसपैठ, झेलम नदी पर बनाएगा हाइड्रोपावर प्रोजक्ट

Spread the love


इस्लामाबाद
भारत को घेरने के लिए पाकिस्तान अपने सदाबहार दोस्त चीन को पाक अधिकृत कश्मीर में ज्यादा से ज्यादा प्रोजक्ट दे रहा है। इसी कड़ी में पीओके की सरकार ने 1.35 अरब डॉलर की अनुमानित लागत से 700 मेगावाट क्षमता की पनबिजली परियोजना के निर्माण के लिए चीन की कंपनी और स्थानीय नवीनीकरण ऊर्जा कंपनी से करार किया है। यह परियोजना महत्वकांक्षी चीन- पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (सीपीईसी) का हिस्सा है।

चीनी बैंक परियोजना को करेंगे फाइनेंस
डॉन अखबार में बुधवार को प्रकाशित खबर के मुताबिक चीन की गेझोउबा समूह और स्थानीय साझेदार लारैब ग्रुप पाकिस्तान पीओके के साधनोटी जिले में झेलम नदी पर प्रस्तावित आजाद पट्टन हाड्रोपॉवर प्रोजेक्ट के साझेदार हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, परियोजना के लिए चीन विकास बैंक, चीन निर्माण बैंक, औद्योगिक और वाणिज्यिक बैंक चीन और बैंक ऑफ चाइना का समूह वित्त मुहैया कराएगा।

चीन और पाकिस्तानी अधिकारियों के बीच हुई डील
इस परियोजना को लागू करने और परियोजना में जल इस्तेमाल के समझौते पर पीओके ऊर्जा सचिव जफर महमूद खान, आजाद पट्टन पॉवर प्राइवेट लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ली शियोतो ने मंगलवार को दस्तखत किए। गौरतलब है कि सीपीईसी के तहत चीन पाकिस्तान के ग्वादर बंदरगाह को शिनजियांग प्रांत से जोड़ा जा रहा है। यह चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंगग की यह महत्वकांक्षी परियोजना है।

सीपीईसी को लेकर भारत जता चुका है कड़ी आपत्ति
भारत ने सीईपीईसी के पीओके से गुरने पर कड़ी आपत्ति दर्ज कराई है। विदेश मंत्रालय ने इस साल कहा था कि पाकिस्तान को बता दिया गया है कि गिलगित-बल्तिस्तान सहित पूरा जम्मू-कश्मीर और लद्दाख भारत का अभिन्न अंग है और उसे (पाकिस्तान को) गैर कानूनी तरीके से कब्जा किए गए क्षेत्र को तुरंत खाली कर देना चाहिए।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *