सऊदी अरब में म‍िले 1.2 लाख साल पुराने इंसान के पैरों के चिह्न, उठेगा रहस्‍य से पर्दा

Spread the love


हाइलाइट्स:

  • सऊदी अरब में एक छिछली झील के पास इंसान के 1 लाख 20 हजार साल पुराने पैरों के न‍िशान मिले
  • माना जा रहा है कि उस समय होमोसेपियंस इंसान वहां पर पानी और भोजन की तलाश में रुके थे
  • इन इंसानों ने कुछ बड़े जीवों का शिकार किया और कुछ समय बाद वहां से आगे की यात्रा पर चले गए

रियाद
उत्‍तरी सऊदी अरब में एक छिछली झील के पास इंसान के एक लाख 20 हजार साल पुराने पैरों के चिह्न मिले हैं। माना जा रहा है कि उस समय होमो सेपियन्‍स वहां पर पानी और भोजन की तलाश में वहां रुके थे। इसी झील में पानी के लिए ऊंट, भैंस और हाथी भी आते थे। इन इंसानों ने कुछ बड़े जीवों का शिकार किया और कुछ समय बाद वहां से आगे की यात्रा पर चले गए।

शोधकर्ताओं का यह शोध साइंस अडवांस जर्नल में प्रकाशित हुआ है। यहां पर ऊंट, भैंस और हाथी के भी पैरों के निशान मिले हैं। सऊदी अरब के नेफूद रेगिस्‍तान में इंसान के पैरों के ये निशान मिले हैं। इससे पता चलता है कि इंसानों के पूर्वज किस रास्‍ते से अफ्रीका से निकलकर दुनिया के अन्‍य हिस्‍सों में फैल गए थे। इस रेगिस्‍तानी इलाके में उस समय इंसान और पशुओं को रहने के लिए जरूरी माहौल नहीं था।

सऊदी अरब की नेफूद रेगिस्‍तान में म‍िले न‍िशान

इंसानों के ये पदचिन्‍ह अपने आप में बेहद खास
पिछले 10 साल के अध्‍ययन में पता चला है कि ऐसा हमेशा नहीं रहा और जलवायु में बदलाव की वजह से यह स्‍थान और ज्‍यादा हराभरा और आर्द्र हो गया है। उन्‍होंने कहा कि यह इलाका अब घास के हरेभरे मैदान, ताजे पानी और नदियों में बदल गया। इंसान के पैरों के ये निशान अल्‍थार झील के पास वर्ष 2017 में मिले थे। इंसानों के ये पदचिन्‍ह अपने आप में बेहद खास हैं। इनसे यह पता चलेगा कि किस तरह से इंसान दुनियाभर में फैले।

शोधकर्ताओं ने बताया कि सैकड़ों पद चिह्न मिले हैं जिसमें सात होमो सेपियन्‍स के हैं। इससे यह भी पता चला है कि तीन से चार लोगों का झुंड यात्रा कर रहा था। जब ये इंसान वहां पहुंचे थे, उसी समय कई बड़े जानवर भी वहां थे। हालांकि वहां कोई पत्‍थर का औजार नहीं मिला है जिससे यह पता चलता है कि यहां पर इंसान केवल पानी पीने के लिए आया था। साथ ही वहां पर शिकार भी किया हो।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *