सोनिया गांधी का सरकार पर हमला, कहा- दबे कुचले लोगों की आवाज को दबाया जा रहा, क्या यही नया राजधर्म है

Spread the love


हाइलाइट्स:

  • संविधान और लोकतांत्रिक परंपराओं पर सोचा-समझा हमला- सोनिया गांधी
  • भारतीय लोकतंत्र अपने सबसे मुश्किल दौर से गुजर रहा है- सोनिया गांधी
  • संविधान और लोकतांत्रिक परंपराओं पर सोचा-समझा हमला किया जा रहा है- सोनिया गांधी

नयी दिल्ली
कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने रविवार को केंद्र सरकार पर निशाना साधा हैं। सोनिया गांधी (Sonia Gandhi On Farm Bill) ने तीन कृषि कानूनों, कोविड-19 महामारी से निपटने, अर्थव्यवस्था की हालत और दलितों के खिलाफ कथित अत्याचार के मामलों पर सरकार पर निशाना साधते हुए दावा किया कि भारतीय लोकतंत्र अपने सबसे मुश्किल दौर से गुजर रहा है। सोनिया गांधी ने कहा कि दबे-कुचले लोगों की आवाज को दबाया जा रहा है, क्या यही नया राजधर्म है।

सोनिया गांधी ने लगाया सरकार पर आरोप
सोनिया ने हाल ही में सरकार द्वारा लागू तीन कृषि कानूनों को ‘कृषि विरोधी काले कानून’ कहते हुए आरोप लगाया कि ‘हरित क्रांति’ से अर्जित किये गये फायदों को समाप्त करने की साजिश रची गयी है। कांग्रेस महासचिवों और प्रदेश प्रभारियों की बैठक की अध्यक्षता करते हुए सोनिया गांधी ने आरोप लगाया कि देश में ऐसी सरकार है जो देश के नागरिकों के अधिकारों को मुट्ठीभर पूंजीपतियों के हाथें में सौंपना चाहती है।

संगठन में बदलाव के बाद पहली बैठक
पिछले महीने कांग्रेस में सांगठनिक स्तर पर बड़े फेरबदल के बाद सोनिया गांधी ने पहली बार महासचिवों और राज्य प्रभारियों की बैठक की अध्यक्षता की। हाल ही में पारित कृषि कानूनों को लेकर सरकार को घेरते हुए कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा नीत सरकार ने इन कानूनों से भारत की लचीली कृषि आधारित अर्थव्यवस्था की बुनियाद पर ही हमला किया है।

सरकार पर लगाया साजिश का आरोप
गांधी ने कहा, ‘हरित क्रांति से मिले फायदों को समाप्त करने की साजिश रची गयी है। करोड़ों खेतिहर मजदूरों, बंटाईदारों, पट्टेदारों, छोटे और सीमांत किसानों, छोटे दुकानदारों की रोजी-रोटी पर हमला हुआ है। इस षड्यंत्र को मिलकर विफल करना हमारा कर्तव्य है।’ राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने हाल ही में तीनों कानूनों- कृषक (सशक्तीकरण एवं संरक्षण) कीमत आश्वासन और कृषि सेवा करार अधिनियम 2020, कृषक उत्पाद व्यापार एवं वाणिज्य (संवर्धन एवं सरलीकरण) अधिनियम 2020 और आवश्यक वस्तु (संशोधन) अधिनियम 2020 को मंजूरी प्रदान की थी।

लोकतंत्र पर हमला- गांधी
गांधी ने दावा किया कि संविधान और लोकतांत्रिक परंपराओं पर सोचा-समझा हमला किया जा रहा है। उन्होंने बैठक में अपने आरंभिक उद्बोधन में कहा कि कोरोना वायरस महामारी में न सिर्फ मजदूरों को दर-बदर की ठोकरें खाने को मजबूर किया गया, बल्कि साथ-साथ पूरे देश को ‘महामारी की आग में झोंक दिया’गया। गांधी ने कहा, ‘हमने देखा कि योजना के अभाव में करोड़ों प्रवासी श्रमिकों का अब तक का सबसे बड़ा पलायन हुआ और सरकार उनकी दुर्दशा पर मूकदर्शक बनी रही।’



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *