हवा में कोरोना वायरस है कि नहीं, पता लगा लेगा रूस का यह डिवाइस!

Spread the love


मॉस्को
रूस ने दावा किया है कि उसने एक ऐसे डिवाइस को बनाया है जो हवा में कोरोना वायरस की मौजूदगी का पता लगा लेगा। यह डिवाइस न केवल कोरोना, बल्कि बैक्टीरिया, जहरीले पदार्थों और कई खतरनाक वायरस की उपस्थिति की सूचना भी दे सकता है। इस डिवाइस को रूस की केएमजे फैक्टरी ने डिफेंस मिनिस्ट्री और कोरोना वैक्सीन बनाने वाली गामालेया इंस्टीट्यूट के साथ मिलकर तैयार किया है।

आर्मी 2020 के दौरान प्रदर्शित की गई डिवाइस
इस डिवाइस को डिटेक्टर बॉयो नाम दिया गया है। शुक्रवार को मॉस्को के पास आयोजित सैन्य औद्योगिक सम्मेलन ‘आर्मी 2020’ के दौरान डिटेक्टर बॉयो मशीन को प्रदर्शित किया गया। रूस की केएमजे फैक्टरी दुनियाभर में प्रसिद्ध जेनिथ कैमरा (Zenit Cameras) का निर्माण भी करती है।

रेफ्रिजरेटर की तरह दिखती है डिवाइस
डिटेक्टर बॉयो कोई पॉकेट डिवाइस नहीं है, बल्कि यह रेफ्रिजरेटर की तरह दिखता है। बाहर से देखने में इसमें छोटी-छोटी कई प्रयोगशालाएं दिखाई देती हैं। जो हवा को खींचकर उसका टेस्ट करती हैं। मिनी प्रयोगशालाओं की श्रृंखला कोरोना वायरस की मौजूदगी का भी पता लगाने में सक्षम हैं। अपने परिणाम की पुख्ता जांच के लिए यह दो बार आसपास की हवा का टेस्ट करता है।


कैसे करता है वायरस की जांच
पहले चरण में यह केवल 10 से 15 सेकेंड में ही हवा में उपस्थित वायरस, बैक्टीरिया या किसी जहरीले पदार्थ की उपस्थिति को लेकर अलर्ट भेज सकता है। हालांकि इस दौरान वह कोरोना जैसे खतरनाक वायरस का पता नहीं लगा सकता है। इसके लिए यह डिवाइस हवा का विस्तृत परीक्षण करता है। जिसमें डेढ़ से 2 घंटे तक का समय लगता है। इसके डेवलपर्स का कहना है कि इस मशीन को एयरपोर्ट, मेट्रो या रेलवे स्टेशन जैसे सार्वजनिक स्थानों पर तैनात करने के लिए बनाया गया है।

आखिर कोरोना खत्म कब होगा? WHO ने पहली बार बताई समय सीमा



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *