हाई: वेब सीरीज

Spread the love



बॉलिवुड में सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद से ड्रग्स के इस्तेमाल पर चर्चा सुर्खियों में हैं। खैर, हम ये तो नहीं जानते कि बॉलिवुड में डग्स कितना इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन इस बीच एक इसी मुद्दे पर बेहतरीन वेब सीरीज ने अपने फ्री प्लैटफॉर्म पर लॉन्च की है जो काफी हद तक ड्रग्स के धंधे और उसके पीछे की एक कहानी को बताती है।

कहानी: इस धमाकेदार वेब सीरीज की कहानी 70 के दशक में एक जंगल से शुरू होती है जहां कुछ लोग एक ऐसी जड़ी-बूटी की तलाश में हैं जो जिसे जादुई बोला जाता है और वो कई मानसिक रोगों जैसे अल्जाइमर, के इलाज में रामबाण साबित हो सकती है। इस सीरीज की कहानी यही जड़ी-बूटी बनती है, जिसका सही नहीं बल्कि गलत इस्तेमाल किया जाता है। इस जड़ी-बूटी की खोज में आगे बहुत लोगों के लालच जुड़ जाते हैं जिसके कारण कई लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ता है। सीरीज में ड्रग्स का एक ऐसा जाल दिखाया गया है जिसे देखकर किसी के भी होश उड़ जाएं।

रिव्यू: एमएक्स की यह वेब सीरीज दिखाती है कि कैसे नशे के कारोबार से उसे यूज करने वाले नहीं बल्कि क्रिमिनल, सिस्टम, कॉर्पोरेट और बाकी के लोग जुड़े हुए हैं। सीरीज में मीडिया का एक ऐसा काला चेहरा दिखाया गया है जिसे शायद आज लोग देखना चाहते हैं। सीरीज में वीरेंद्र सक्सेना का छोटा सा रोल छाप छोड़ता है जो एक बुजुर्ग साइंटिस्ट हैं लेकिन मीडिया उन्हें एक नक्सलवादी के तौर पर दिखाता है क्योंकि वह हाशिये पर रहे लोगों के लिए काम करते हैं।

इस सीरीज में अक्षय ओबेरॉय, रणबीर शौरी और मृणमयी गोडबोले छा गए हैं। इन लोगों ने अपने रोल में इतनी जान डाली है कि आप इनके सीन का इंतजार करेंगे। सीरीज का पहला एपिसोड आपको बांधने में कामयाब होगा क्योंकि एक ड्रग अडिक्ट के तौर पर की परफॉर्मेंस ही आपको बांधने के लिए काफी है। डॉक्टर के रोल में प्रकाश बेलावडी और उनके असिस्टेंट के किरदार में श्वेता बसु प्रसाद और नकुल भल्ला जबरदस्त हैं। इससे ज्यादा बताना ठीक नहीं होगा वरना आपको मजा नहीं आएगा।

क्यों देखें: जब ड्रग्स के ऊपर इतनी ही चर्चा चल रही है तो ऐसी थ्रिलर वेब सीरीज को देखना बनता है।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *