हाथरस कांडः विदेश से 100 करोड़ की फंडिंग, जांच के दौरान PFI और भीम आर्मी के बीच भी मिला लिंक!

Spread the love


हाइलाइट्स:

  • हाथरस कांड के बहाने यूपी में जाति और धार्मिक उन्माद फैलाने का दावा
  • पुलिस ने जांच में किया दावा विदेश से की गई 100 करोड़ रुपये की फंडिंग
  • पीड़िता के घर पर पूरा समय परिवार का सदस्य बनकर मौजूद रहे भीम आर्मी के कार्यकर्ता
  • परिवार को सुरक्षा देने के दौरन बनी लिस्ट तो तीन लोग मिले गायब, जो घटना के बाद से लगातार घर पर थे

हाथरस
उत्तर प्रदेश के हाथरस कांड को लेकर परत दर परत खुलासे हो रहे हैं। मामले में जांच कर रही पुलिस और एसआईटी को एक के बाद एक अहम सुराग मिल रहे हैं। जांच के दौरान दावा किया गया है कि यूपी में सांप्रदायिक और जातिगत हिंसा फैलाने के लिए 100 करोड़ रुपये की विदेश से फंडिंग की गई थी। पुलिस ने इस केस में पीएफआई के शामिल होने का भी दावा किया है। अब पुलिस को संकेत मिल रहे हैं कि भीम आर्मी भी इस मामले में शामिल है।

पुलिस सूत्रों की मानें तो जांच के दौरान यह संकेत मिले हैं कि हाथरस पीड़िता के केस में भीम आर्मी ने विवाद पैदा किया। आरोप है कि भीम आर्मी के कुछ कार्यकर्ता पीड़िता के परिवार के बीच उनके घर के सदस्य बनकर रह रहे थे और लगातार पुलिस, प्रशासन और मीडिया से बात कर रहे थे। पुलिस का दावा है कि उन्हें इस बारे में जानकारी तब हुई जब पीड़िता के परिवार को सुरक्षा देने के लिए लिस्ट बनाई जा रही थी।

हाथरस गैंगरेप पीड़िता को बदनाम करने की साजिश, परिवार बोला, ‘आरोपी से समझौता किया तो बाकी बेटियों का यही हाल होगा’

14 सितंबर को हुई थी घटना, ऐसे तूल पकड़ा मामला
14 सितंबर को हाथरस के एक गांव में पीड़िता के साथ गैंगरेप का आरोप लगा। इलाज के 15 दिन बाद पीड़िता की मौत हो गई। पुलिस ने आधी रात में ही पीड़िता का दाह संस्कार कर दिया। इसके बाद यह मामला तूल पकड़ता गया। इस घटना ने सियासी रंग ले लिया। पीड़िता के परिवार को सुरक्षा देने की मांग उठी।

हाथरस कांड पर ‘जहरीले बोल’, कांग्रेस नेता श्योराज जीवन को पुलिस ने किया गिरफ्तार

परिवार की बनी लिस्ट तो तीन लोग दिखे गायब
पुलिस ने पीड़िता के परिवारवालों की लिस्ट बनानी शुरू की। पुलिस का दावा है कि परिजनों की लिस्ट बनाने के दौरान पता चला कि इस मामले में एक युवती लगातार बयानबाजी कर रही थी वह उनके परिवार से नदारत थी। उसके अलावा दो और युवक वहां पर नहीं थे। पुलिस को शक है कि तीनों भीम आर्मी के कार्यकर्ता थे जो यहां से लोगों को भड़काने का काम कर रहे थे।

हाथरस कांड के आरोपियों ने जेल से लिखा पत्र, बोले- ‘हम निर्दोष, पीड़िता को उसके भाई और मां ने मारा’

पीएफआई का पहले ही आ चुका है नाम
इधर जांच के दौरान पीएफआई का नाम आया है। पुलिस ने इस मामले में केरल के एक पत्रकार को गिरफ्तार किया है। पुलिस को जांच के दौरान भीम आर्मी और पीएफआई के इस मामले में संलिप्त होने के संकेत मिले हैं। अब पुलिस ने दोनों की मिलीभगत को लेकर जांच शुरू कर दी है।

हाथरस पर भीम आर्मी के चंद्रशेखर की हुंकार- ‘जहां लाश नहीं दी, वहां कैसे न्याय होगा?’



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *