BHU कुलपति का ‘बयान’ वायरल- ‘आम के साथ कुछ रुपये के पेड़ भी लगाते महामना…’

Spread the love


हाइलाइट्स:

  • बीएचयू के कुलपति राकेश भटनागर का एक ऑडियो वायरल
  • कहा- महामना जी रुपये के पेड़ लगा जाते तो सब फ्री कर देते
  • सर सुंदर लाल अस्पताल में बीएचयू छात्रों से फीस लेने का विवाद
  • ओपीडी में अब दिखाने के लिए 20 रुपये की पर्ची कटानी जरूरी

अभिषेक जायसवाल, वाराणसी
सर्व शिक्षा की राजधानी कहे वाले काशी हिंदू विश्वविद्यालय के सर सुंदरलाल चिकित्सालय में छात्रों से शुल्क लेने का मामला बढ़ता जा रहा है। विश्वविद्यालय प्रशासन और छात्रों के शुल्क विवाद के बीच काशी हिंदू विश्वविद्यालय के संस्थापक भारत रत्न मदन मोहन मालवीय पर बीएचयू के कुलपति प्रफेसर राकेश भटनागर का विवादित बयान सामने आया है।

एक छात्र से फोन पर बातचीत के दौरान बीएचयू के कुलपति राकेश भटनागर ने कहा, ‘महामना जी आम के पेड़ तो लगा गए अगर मेरे लिए कुछ रुपये के पेड़ लगा जाते तो हम सब कुछ फ्री कर देते।’ बीएचयू कुलपति ने आगे कहा कि यूजीसी से साल के 60 करोड़ रुपये का बजट मिलता है और विश्वविद्यालय के साल का बिजली बिल 66 करोड़ रुपये का है। कुलपति राजेश भटनागर ने कथित रूप से कहा कि यदि आप सरकार से कहकर बजट 70 करोड़ करा दें तो हम अस्पताल में छात्रों पर लगने वाला शुल्क माफ कर देंगे।

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है ऑडियो
बीएचयू कुलपति के भारत रत्न मदन मोहन मालवीय पर दिए विवादित बयान का ऑडियो क्लिप सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। बीएचयू के छात्र अभिषेक सिंह ने बताया कि हेल्थ कार्ड मामले को लेकर छात्रों की ओर से कुलपति से बातचीत के दौरान मालवीय जी को लेकर ये टिप्पणी की गई है। एनबीटी ऑनलाइन सोशल मीडिया पर वायरल इस ऑडियो की पुष्टि नहीं करता है।

ये है मामला
बीएचयू के सर सुंदरलाल चिकित्सलाय में छात्रों को फ्री हेल्थ और जांच की सुविधा दी जाती थी। कोरोना काल मे लॉकडाउन के बाद विश्वविद्यालय प्रशासन ने छात्रों को दी जाने वाली इस सुविधा पर रोक लगा दी। अब विश्ववविद्यालय के छात्रों को अस्पताल में ओपीडी में चिकित्सीय परामर्श के लिए 20 रुपये की पर्ची कटानी पड़ रही है, जिसका लगातार छात्र विरोध कर रहे हैं। इसी मामले को लेकर छात्रों ने कुलपति से फोन पर वार्ता भी की।

बीएचयू के वीसी राकेश भटनागर



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *