Bihar Election: बिहार विधानसभा चुनाव से पहले नीतीश सरकार का बड़ा फैसला- शिक्षकों के वेतन में की 15% की बढ़ोतरी

Spread the love


हाइलाइट्स:

  • बिहार विधानसभा चुनाव से पहले नीतीश सरकार ने दिया शिक्षकों को वेतन वृद्धि का ‘तोहफा’।
  • बिहार शिक्षा विभाग ने पंचायती राज-शहरी स्थानीय निकायों के शिक्षण संस्थानों में कार्यरत शिक्षकों, पुस्तकालयाध्यक्षों के वेतन में की 15% की बढ़ोतरी।
  • वेतन में यह वृद्धि अप्रैल 2021 से शुरू होने वाले सत्र में लागू होगी।

पटना
बिहार विधानसभा चुनाव 2020 (bihar vidhansabha Chunav 2020) से पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) एक के बाद एक बड़े फैसले ले रहे हैं। शनिवार को नीतीश सरकार (Nitish Kumar Government) ने शिक्षकों (Teachers) के वेतन में वृद्धि करने का बड़ा फैसला किया है। इसके तहत बिहार शिक्षा विभाग (Bihar Education Department) ने पंचायती राज और शहरी स्थानीय निकायों के शिक्षण संस्थानों में कार्यरत शिक्षकों और पुस्तकालयाध्यक्षों के वेतन में 15 प्रतिशत की बढ़ोतरी की घोषणा की है।

हालांकि यह वृद्धि अप्रैल 2021 से शुरू होने वाले सत्र में लागू होगी।

प्राइमरी स्कूलों में होने वाली शिक्षक भर्ती में आवेदन कर सकेंगे बिहार के स्थानीय निवासी
इस फैसले से कुछ दिन पहले ही नीतीश सरकार ने प्राइमरी स्कूलों में होने वाली शिक्षक भर्ती (Bihar Primary School Teachers Recruitment) में बड़ा फैसला लिया था। जिसके मुताबिक, स्थानीय लोग ही प्राइमरी स्कूलों में होने वाली शिक्षक भर्ती में आवेदन कर सकेंगे। नए नियमों के मुताबिक, बिहार के सरकारी प्राइमरी स्कूलों में शिक्षक के पद पर अब सिर्फ बिहार के निवासियों की ही नियुक्ति होगी। इन स्कूलों में अब दूसरे राज्यों के रहने वाले लोग शिक्षक के तौर पर आवेदन नहीं कर सकेंगे।

नियोजित शिक्षकों के लिए नई सेवा शर्त नियमावली लागू करने का नीतीश कर चुके हैं ऐलान
बिहार में इस साल के आखिर में विधानसभा के चुनाव होने हैं। ऐसे में नीतीश कुमार सरकार का ये फैसला बेहद अहम माना जा रहा है। इससे पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार स्वतंत्रता दिवस के मौके पर नियोजित शिक्षकों के लिए शीघ्र नई सेवा शर्त नियमावली लागू करने का भी ऐलान किया था। उन्होंने कहा था कि उन्हें ईपीएफ का फायदा भी दिया जाएगा।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *