Corona Vaccine News : कोवैक्सीन के तीसरे चरण में पहला शॉट लेने वाली एम्स की डॉक्टर ने कहा- कोई साइड इफेक्ट नहीं

Spread the love


हाइलाइट्स:

  • देश में बन रही कोरोना वैक्सीन कोवैक्सीन का ट्रायल थर्ड फेज में पहुंच गया है
  • तीसरे चरण के परीक्षण के लिए कोवैक्सीन का पहला शॉट एम्स की डॉक्टर ने लिया है
  • डॉक्टर ने कहा कि एक हफ्ते पहले शॉट लेने के बाद कोई साइड इफेक्ट नहीं दिखा

नई दिल्ली
भारत दुनिया के उन चुनिंदा देशों में शामिल है जहां कोविड1-9 महामारी फैलाने वाले नोवल कोरोना वायरस को अलग करने में सफलता पाई है। दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) की चीफ न्यूरोसाइंसेज डॉ. एमवी पद्मा श्रीवास्तव ने कहा कि अब भारत सस्ती वैक्सीन बनाने की राह पर भी आगे बढ़ रहा है।

भारत बायोटेक और ICMR की कोरोना वैक्सीन

डॉ. श्रीवास्तव ने पिछले हफ्ते कोवैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल में शामिल हुई थीं। कोवैक्सीन भारत का देसी कोरोना वैक्सीन है जिसे भारतीय आर्युविज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) की मदद से दवा निर्माता कंपनी भारत बायोटेक बना रही है। डॉ. श्रीवास्तव ने हमारे सहयोगी अखबार द टाइम्स ऑफ इंडिया से कहा, ‘मैंने पिछले गुरुवार को दिल्ली एम्स में कोवैक्सीन का पहला शॉट लिया था। अगला शॉट 28 दिन के बाद दिया जाएगा।’

‘वैक्सीन का कोई साइड इफेक्ट नहीं’
55 वर्षीय डॉक्टर श्रीवास्तव ने कहा कि उन्हें वैक्सीन लेने के बाद से अब तक किसी का साइट इफेक्ट से गुजरना नहीं पड़ा है। दरअसल, हाल ही में ट्रायल में शामिल हुए एक अन्य वॉल्युंटियर ने साइड इफेक्ट्स की बात की थी। एम्स की योजना कोवैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल में 1,000 से ज्यादा लोगों का पंजीकरण करने की है। सूत्रों ने बताया कि 40-50 वॉल्युंटियर्स ने रजिस्ट्रेशन करवा लिया है जिन्हें पहला शॉट दिया जा चुका है।

चीन ने दोस्त किम जोंग उन को पहुंचाई अपनी कोरोना वायरस वैक्सीन

करीब आधा महीने बंद रहेंगे बैंक, यहां देखें कब-कब रहेगी छुट्टी

वोट दे रहे हैदराबाद की कहानी: …जब जिन्ना ने कश्मीर नहीं, ‘भारत का दिल’ छीनने का मंसूबा पाला था



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *