Corona Vaccine News: 73 दिन नहीं, सीरम इंस्टिट्यूट ने बताया कब मिल पाएगी COVISHIELD

Spread the love


हाइलाइट्स:

  • ऑक्‍सफर्ड यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स ने अस्‍त्राजेनेका के साथ मिलकर बनाई है कोविशील्‍ड
  • भारत में सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया से हुई है डील, ट्रायल और उत्‍पादन भी करेगी
  • रिपोर्ट्स में थे दावे, 73 दिन के भीतर भारत में लॉन्‍च हो जाएगी कोविशील्‍ड वैक्‍सीन
  • कंपनी ने किया साफ, ट्रायल सफल होने और अप्रूवल मिलने पर ही लॉन्चिंग

नई दिल्‍ली
भारत में कोरोना वायरस वैक्‍सीन की रेस में सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (SII) सबसे आगे है। वह ऑक्‍सफर्ड यूनिवर्सिटी की डेवलप की गई वैक्‍सीन का ट्रायल और प्रॉडक्‍शन कर रही है। कंपनी को सरकार से वैक्‍सीन के उत्‍पादन की मंजूरी मिली है लेकिन केवल भविष्‍य में इस्‍तेमाल के लिए। कुछ रिपोर्ट्स में कहा गया था कि SII की वैक्‍सीन COVISHIELD 73 दिन के भीतर बाजार में उपलब्‍ध होगी। मगर कंपनी का कहना है कि यह केवल कयास हैं। वैक्‍सीन बाजार में तभी आएगी जब ट्रायल सफल हों और रेगुलेटरी अप्रूवल मिल जाए।

खुद बता देंगे, कब आ रही वैक्‍सीन : SII
सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया ने एक बयान में कहा, “सरकार ने अभी हमें केवल भविष्‍य में इस्‍तेमाल के लिए वैक्‍सीन के उत्‍पादन और भंडारण की अनुमति दी है।” कंपनी ने साफ कहा कि COVISHIELD को तभी कॉमर्शियलाइज्‍ड किया जाएगा जब ट्रायल्‍स में इसे सफलता मिले और फिर रेगुलेटरी अप्रूवल्‍स मिल जाएं। ऑक्‍सफर्ड-अस्‍त्राजेनेका की वैक्‍सीन का फेज-3 ट्रायल चल रहा है। कंपनी ने कहा कि एक बार वैक्‍सीन प्रतिरोधी और प्रभावी साबित हो जाए तो वह उसकी उपलब्‍धता की पुष्टि करेगी। कंपनी का टीका निम्न और मध्यम आय श्रेणी में आने वाले देशों (LMICs) में महज 3 डॉलर (करीब 225 रुपये) में उपलब्ध करवाया जाएगा।

खुद पर करवाना चाहते हैं कोरोना वैक्सीन का ट्रायल? जानें तरीका और शर्तें

भारत में 17 सेंटर्स पर ट्रायल
‘नेचर’ जर्नल में छपी स्‍टडी के मुताबिक, बंदरों पर यह वैक्‍सीन पूरी तरह असरदार साबित हुई। उनमें कोविड-19 के प्रति इम्‍यूनिटी डेवलप हुई। इंसानों पर फेज 1 और 2 ट्रायल पूरा हो चुका है। भारत, ब्राजील समेत दुनिया के कई देशों में फेज 3 ट्रायल जारी है। 17 सेंटरों पर 1600 लोगों के बीच यह ट्रायल 22 अगस्त से शुरू हुआ है। हर सेंटर पर करीब 100 वालंटिअर हैं। नवंबर तक ट्रायल पूरा होने की उम्‍मीद है। नतीजे अच्‍छे रहे तो रेगुलेटरी अप्रूवल के बाद वैक्‍सीन का लार्ज-स्‍केल प्रॉडक्‍शन शुरू होने में अगले साल की शुरुआत तक का वक्‍त लग सकता है।

आखिर कोरोना खत्म कब होगा? WHO ने पहली बार बताई समय सीमा

किसने बुक कर दी है ऑक्‍सफर्ड की वैक्‍सीन?
दुनियाभर के देशों ने ऑक्‍सफर्ड की वैक्‍सीन खरीदने में दिलचस्‍पी दिखाई है। यूनाइटेड किंगडम ने 100 मिलियन डोज की डील की है। ब्राजील सरकार ने भी 127 मिलियन डॉलर में 30 मिलियन डोज खरीदने का सौदा किया है। यूरोपियन यूनियन के कई देश अभी सौदेबाजी की प्रक्रिया में हैं। ऑक्‍सफर्ड ने कहा है कि यूके में यह वैक्‍सीन कम दाम में मिलेगी।

रूस ने बनाई दूसरी कोरोना वायरस वैक्‍सीन EpiVacCorona

वैक्‍सीन निर्माताओं के संपर्क में सरकार की नजर
केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने कहा कि हमारी एक वैक्सीन कैंडिडेट क्लिनिकल ट्रायल के तीसरे चरण में है। सरकार SII के अलावा कई फार्मा कंपनियों के संपर्क में है और ज्‍यादा से ज्‍यादा टीके हासिल करना चाहती है। अगर ICMR और भारत बायोटेक द्वारा विकसित की जा रही ‘कोवैक्सीन’ और जायडस कैडिला की ‘ZyCoV-D’ ट्रायल में सफल होती हैं, तो उनके ऑर्डर भी दिए जा सकते हैं।

covishield-sii

SII को मिली है COVISHIELD बनाने की परमिशन।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *