DeepFakes: विडियो किसी और का लेकिन चेहरा आपका, सच और झूठ के बीच कम होता फासला

Spread the love


प्राणेश तिवारी, नई दिल्ली
इंटरनेट की दुनिया में सच और झूठ का फासला तेजी से कम होता जा रहा है और टेक्नॉलजी भी इसके लिए काफी हद तक जिम्मेदार है। फोटोशॉप और एडिटिंग टूल्स की मदद से मॉर्फ़ की गईं तस्वीरें जाने कितने साल से सोशल मीडिया और साइबर स्पेस में वायरल हो रही हैं। अब झूठ को सच बनाने के लिए आ गए हैं Deepfake वीडियोज, जो किसी भी इंटरनेट यूजर को यकीन दिला सकते हैं कि वह झूठ नहीं सच देख रहा है। इसकी मदद से किसी और के वीडियो में आपका चेहरा फिट किया जा सकता है, यानी कि आप किसी को पीटते, जान से मारते या गाली देते नजर आ सकते हैं।

किसी भी बात या घटना के सच होने का सबसे बड़ा सबूत उसके किसी विडियो को माना जाता है लेकिन अब चीजें बदल गई हैं। आंखों देखी पर और किसी भी तरह के डिजिटल फ़ोटो या विडियो पर भरोसा नहीं किया जा सकता। Deepfake टेक्नॉलजी की मदद से ऐसे वीडियो बनाए जा सकते हैं कि बड़े-बड़े एक्सपर्ट्स भी गच्चा खा जाएं। सामान्य इंटरनेट यूजर शायद ही समझ पाए कि विडियो deepfake है और उसमें दिखने वाला शख्स कोई और है। यह टेक्नॉलजी वीडियोज के साथ बिल्कुल वैसे ही काम करती है, जैसा फ़ोटो के लिए फोटोशॉप करता है।

ऐसे काम करते हैं Deepfakes
आर्टिफिशल इंटेलिजेंस या फिर AI की मदद से यह टेक्नॉलजी वीडियो में दिख रहे चेहरों के पॉइंट्स कैप्चर कर लेती है। इसके बाद किसी शख्स की एक या एक से ज़्यादा फोटोज की मदद से उसका फेशियल डेटा जुटाती है। आखिरी स्टेप में वीडियो में दिख रहे चेहरे को फोटोज से जुटाए गए फेशियल डेटा की मदद से रिप्लेस कर दिया जाता है। इसके अलावा किसी वीडियो में शख्स के चेहरे की मैपिंग करने के बाद उससे लिप-मूवमेंट कर कुछ भी बुलवाया जा सकता है। यानी कि वीडियो में दिख रहा शख्स वो बातें कहता दिखेगा, जो उसने कभी बोली ही नहीं।

पढ़ें: साइबर क्रिमिनल्स के निशाने पर आप, एक गलती और अकाउंट साफ

क्या है Deepfake से जुड़ा खतरा
अगर आपको लगता है कि ऐसी AI टेक्नॉलजी वाले सिस्टम से वीडियो बनाने में या फिर उसकी एडिटिंग में काफी वक्त और मेहनत लगती होगी तो आप गलत हैं। एंड्रॉयड, iOS और PC पर ढेरों ऐसे ऐप्स मौजूद हैं जिनकी मदद से चंद मिनट में फेक वीडियो बनाए जा सकते हैं। यूजर्स Zao, Doublicat, FaceApp और Morphin जैसे ऐप्स फ्री में डाउनलोड कर सकते हैं। साफ है कि आने वाला वक्त इंटरनेट पर Deepfake वीडियोज की बाढ़ लाने वाला है, जहां सच और झूठ में फर्क कर पाना भी मुश्किल हो जाएगा।

Deepfake पॉर्न हो रहा पॉप्युलर

ढेरों सिलेब्स और स्टार्स के चेहरे Deepfake टेक की मदद से पॉर्न वीडियोज पर लगाकर उन्हें ऑनलाइन शेयर किया जा रहा है। पॉप्युलर अमेरिकन अडल्ट साइट की ट्रेंडिंग टैग्स रिपोर्ट दिखाती है कि ऐसे वीडियोज पिछले कुछ महीने में तेजी से पॉप्युलर हुए हैं और इन्हें सर्च किया जा रहा है। इस टेक से किसी का फेक न्यूड वीडियो बनाकर उसे ब्लैकमेल भी किया जा सकता है और ऐसे मामले सामने आए भी हैं। एक्सपर्ट्स का मानना है कि जैसे-जैसे यह टेक्नॉलजी पॉप्युलर होगी, इसका गलत इस्तेमाल और ऐसे क्राइम भी बढ़ते जाएंगे।



क्या कहते हैं एक्सपर्ट्स?

बेशक Deepfake का गलत इस्तेमाल किया जा रहा हो और झूठ फैलाने से लेकर ब्लैकमेल करने तक यह खतरा बन चुका हो, लेकिन इस टेक को तैयार किए जाने का मकसद अच्छा ही था। पॉलिसी थिंक टैंक The Dialogue के फाइंडर काज़िम रिजवी ने इस बारे में ज्यादा डीटेल्स शेयर करते हुए कहा, ‘Deepfake टेक्नॉलजी के कई फायदे भी हैं, 2019 के विश्व मलेरिया कार्यक्रम में डेविड बेकहम ने इस टेक की मदद से ढेरों भाषाओं में एक ही प्रोग्राम शेयर किया था। डिजिटल एक्सपेरिमेंट्स की मदद से Deepfake का इस्तेमाल पॉजिटिव कामों में भी किया जा सकता है।’

आपको अलर्ट रहने की जरूरत
सबसे जरूरी है अपना फेशियल डेटा सेफ रखना। अगर कोई ऐप आपके फेस स्कैन की मांग करता है तो उसके भरोसेमंद होने पर ही अपने फेशियल डेटा शेयर करें। इसके अलावा अपने पर्सनल फोटोज सिक्यॉर रखें। पब्लिक प्लैटफॉर्म्स पर मौजूद फोटोज की मदद से आसानी से Deepfake विडियो बनाया जा सकता है। ऐसे वक्त में जब कोई नौसिखिया भी आसानी से फर्जी विडियो बनाकर सच और झूठ का फर्क मिटा सकता है, किसी भी विडियो पर झट से भरोसा ना करें क्योंकि Deepfake विडियोज से घिरी वर्चुअल दुनिया में आंखों देखा सबकुछ हमेशा सच नहीं होता।

पढ़ें: ऑनलाइन शॉपिंग के दौरान हो रहा बड़ा स्कैम, सरकारी एजेंसी ने दी चेतावनी

विडियोज में देखें Deepfake टेक
हाल ही में पॉप्युलर पॉपस्टार Black Eyed Peas की ओर से एक गाना Action यूट्यूब पर शेयर किया गया है। इस गाने का विडियो पूरी तरह Deepfake की मदद से तैयार किया गया है और पॉप्युलर फिल्मों के सीन्स में पॉप स्टार का चेहरा नजर आ रहा है। भारत में Deepfake की मदद से तैयार किया गया नेता मनोज तिवारी का एक विडियो दिल्ली विधानसभा चुनाव के दौरान सामने आया था, जिसमें वह हरियाणवी बोलते नजर आ रहे थे। आप दोनों विडियो नीचे देख सकते हैं,



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *