Explained: किन देशों के लिए कर सकते हैं हवाई यात्रा, कहां-कहां अभी भी लगा है बैन!

Spread the love


कोरोना महामारी के बीच इस वक्त भारत के लोग 18 देशों के लिए हवाई यात्रा कर सकते हैं। नागरिक उड्डयन मंत्रालय फिलहाल एयर बबल एग्रीमेंट के तहत यूक्रेन और बांग्लादेश के साथ ही करार करने की प्रक्रिया में हैं, जो इसी हफ्ते पूरी हो सकती है। वहीं जर्मनी और हांगकांग ने कोरोना मामलों के मद्देनजर भारत के साथ हवाई सेवा पर रोक लगा दी है। बता दें कि मई से ही वंदे भारत मिशन के तहत कुछ अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट चल रही हैं, वहीं जुलाई से एयर बबल एग्रीमेंट के तहत हवाई सेवाएं जारी हैं।

क्या है एयर बबल या ट्रैवल बबल?

एयर बबल एग्रीमेंट के तहत हवाई यात्रा के लिए दो देशों के बीच करार किया जाता है। दो देशों द्वारा द्विपक्षीय समझौता कर के जब एक खास एयर कॉरिडोर बनाया जाता है तो उसे एयर बबल कहते हैं, ताकि हवाई यात्रा में कोई दिक्कत ना आए। इस समय कोरोना संकट से पूरी दुनिया परेशान है, इसलिए तमाम शर्तों के साथ दो देश आपस में एयर बबल्स शुरू कर सकते हैं, जिसमें सुरक्षा मानकों का पालन जरूरी होता है। भारत कई देशों के साथ एयर बबल एग्रीमेंट की प्रक्रिया में जुटा है। बता दें कि ये रीपैट्रिएशन फ्लाइट्स से अलग है, जो सिर्फ वन वे फ्लाइट होती हैं, ताकि विदेश में फंसे लोगों को वापस लाया जा सके। साथ ही उसमें यात्रा के लिए पहले दूतावास में रजिस्टर करना पड़ता है।

किन देशों के साथ है एयर बबल एग्रीमेंट?

अभी भारत का 18 देशों के साथ एयर बबल एग्रीमेंट है। ये देश हैं- अमेरिका, यूके, जर्मनी, फ्रांस , यूएई, मालदीव्स, कनाडा, जापान, बहरैन, अफगानिस्तान, नाइजीरिया, कतर, इराक, ओमान, भूटान, केन्या, बांग्लादेश और यूक्रेन। बांग्लादेश के साथ भारत की उड़ाने 28 अक्टूबर से शुरू होने वाली हैं। शुरुआत में बांग्लादेश के साथ हफ्ते में 28 फ्लाइट चलेंगी, जिसके तहत दोनों तरफ से करीब 5000 यात्री हर हफ्ते उड़ान भर सकेंगे।

13 और देशों के साथ होगा एयर बबल एग्रीमेंट!

13-

अगर बात अमेरिका के साथ एयर बबल की करें तो हर हफ्ते में नई दिल्ली और नेवार्क के बीच 3 उड़ानें ऑपरेट हो रही हैं। इसके अलावा दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु, कोलकाता, अहमदाबाद, कोची और गोवा से लंदन के लिए फ्लाइट्स उड़ानें भर रही हैं। नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप पुरी के अनुसार 13 और देशों के साथ एयर बबल एग्रीमेंट की प्रक्रिया जारी है, जिसमें न्यूजीलैंड, ऑस्ट्रेलिया, इज़राइल, केन्या, फिलीपीन्स, रूस, सिंगापुर, दक्षिण कोरिया और थाईलैंड जैसे देश शामिल हैं।

इसके अलावा भारत की तरफ से वंदे भारत मिशन के तहत भी विदेशों में फंसे लोगों के निकालने के लिए फ्लाइट्स ऑपरेट हो रही हैं। 16 अक्टूबर तक विदेशों में फंसे लोगों को घर लाने के लिए कुल 6,987 रीपैट्रिएशन फ्लाइट वंदे भारत मिशन के तहत ऑपरेट हो चुकी हैं। इनसे अब तक विदेशों में फंसे कुल 9.10 लाख से भी अधिक यात्रियों को निकाला जा चुका है।

किन देशों ने फ्लाइट्स कर रखी हैं बैन?

हांगकांग ने एयर इंडिया और विस्तारा की फ्लाइट्स को 17 अक्टूबर से 30 अक्टूबर तक के लिए बैन किया हुआ है। दरअसल एक फ्लाइट में कुछ लोग कोरोना संक्रमित पाए गए थे, जिसके बाद हांगकांग ने ये कदम उठाया। इससे पहले 20 सितंबर से 3 अक्टूबर तक और उससे पहले 18 अगस्त से 31 अगस्त तक भी हांगकांग ने भारत से फ्लाइट्स बैन की थीं

हाल ही में जर्मनी और भारत के इस बीच अधिक फ्लाइट ऑपरेट होने की वजह से दोनों देशों के बीच एयर बबल एग्रीमेंट टूट गया था, लेकिन अब 26 अक्टूबर से फिर से उड़ाने शुरू होने जा रही हैं। दुबई ने भी एयर इंडिया की फ्लाइट्स को बैन किया हुआ है, क्योंकि 2 अलग-अलग मौकों पर भारत की फ्लाइट्स में कोरोना संक्रमित पाए जा चुके हैं। इसके अलावा पिछले महीने सऊदी अरब ने भी भारत के साथ कोरोना मामलों की वजह से फ्लाइट्स बैन की थीं, लेकिन बाद में वंदे भारत मिशन के तहत फ्लाइट्स को मंजूरी दे दी।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *