Farmers Protest: कृषि मंत्री से मिले हरियाणा के कुछ किसान संगठन, कहा- आंदोलनकारियों की मांग के अनुसार संशोधन करें लेकिन वापस नहीं लें

Spread the love


नई दिल्ली
नए कृषि कानून पर आंदोलनरत किसान और सरकार के बीच अभी तक बीच का रास्ता नहीं निकला है। मंगलवार को किसानों ने भारत बंद बुलाया है। उसी बीच किसानों के कुछ समूहों ने इस लॉ का समर्थन किया है। 20 किसानों के एक समूह ने कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से मुलाकात कर तीनों नए कानून पर अपना समर्थन किया है। उन्होंने तोमर से कहा कि तीनों नए कृषि कानूनों को वापस नहीं लिया जाए।

नए कृषि कानून को समर्थन
एक तरफ तो नए किसान कानून के विरोध में पूरे देश में किसान सड़कों पर उतर आए हैं। इन किसानों दिल्ली आने वाली सभी सीमाओं पर डेरा जमा दिया है। सरकार की हालत भी खराब हो चुकी है। सरकार और आंदोलनरत किसानों के बीच कई दौर की बातचीत हो चुकी है लेकिन अभी तक कोई बीच का रास्ता नहीं निकल पाया है। अब हरियाणा के किसानों के एक समूह ने कृषि मंत्री से बात की है और नए कानून का समर्थन किया है।

2012 से 2020 : भारत बंद पर समय के साथ कैसे बदल गए कांग्रेस और बीजेपी के सुर

आंदोलनकारी किसानों पर तंज
कृषि मंत्री से मुलाकात के बाद प्रोग्रेसिव फार्मर क्लब सोनीपत के अध्यक्ष कंवल सिंह चौहान ने कहा कि जो किसान आंदोलन कर रहे हैं उनको गुमराह किया गया है। पीएम ने बार-बार भरोसा दिया है कि एमएसपी और मंडी सिस्टम जस का तस रहेगा। उन्होंने केंद्रीय कृषि मंत्री से आग्रह किया कि भले ही आंदोलनकारी किसानों की उचित मांगों के अनुसार कृषि कानूनों में संशोधन कर दिया जाए, लेकिन इन्हें वापस नहीं लिया जाए।

भारत बंद से पहले एयर इंडिया ने दी अहम सूचना, आपके टिकट पर नहीं आएगी कोई आंच!

सरकार के लिए राहत

गौरतलब है कि मंगलवार 8 दिसंबर को आंदोलनरत किसानों ने भारत बंद बुलाया है। इसका विभिन्न क्षेत्रों के कई संगठनों और विपक्ष की लगभग सभी राजनीतिक पार्टियों ने समर्थन भी किया है। इसके मद्देनजर हरियाणा के कुछ किसान संगठनों का कृषि कानूनों के समर्थन में खुलकर सामने आना सरकार के लिए वाकई एक बड़ी राहत की बात है।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *