Farmers Protest News: किसान आंदोलन से क्यों परेशान हो गई है पंजाब बीजेपी?

Spread the love


हाइलाइट्स:

  • किसानों के आंदोलन से पंजाब बीजेपी को लग रहा है डर
  • राज्य के बीजेपी चीफ ने जताई उम्मीद, जल्द निकलेगा हल
  • बता दें कि पंजाब में 2022 में होंगे विधानसभा के चुनाव, बीजेपी इसबार अकेले मैदान में उतरेगी

नई दिल्ली
पंजाब विधानसभा के चुनाव में एक साल से कुछ अधिक का ही वक्त बचा है। 2022 की शुरुआत में वहां चुनाव होंगे। अब तक अकाली दल के जूनियर पार्टनर की तरह चुनाव लड़ने वाली बीजेपी इस बार पंजाब में अकेले ही चुनाव लड़ेगी। ऐसे में किसान आंदोलन तेज होना बीजेपी को परेशान कर रहा है। हालांकि पंजाब बीजेपी के अध्यक्ष अश्विनी शर्मा ने कहा कि हम आंदोलन से परेशान नहीं है बल्कि उसमें माहौल खराब करने की कोशिश कर रहे लोगों की घुसपैठ से परेशान हैं। हम पंजाब में अमन शांति चाहते हैं।

पंजाब यूनिट को लग रहा है डर!
एनबीटी से बात करते हुए पंजाब बीजेपी के अध्यक्ष अश्विनी शर्मा ने कहा कि यह सुखद है कि किसान यूनियनों और सरकार के बीच बातचीत फिर से शुरू हुई है। हमें उम्मीद है कि इससे सुखद हल निकलेगा और जो भी फैसला होगा वह किसानों के हित में होगा। साथ ही पंजाब में जो राजनीतिक रोटियां सेंक रहे हैं वह बाज आएंगे।

किसान यूनियन समझेंगी षडयंत्र
अश्विनी शर्मा ने कहा कि पंजाब बीजेपी के लिए पंजाब का अमन, शांति, भाईचारा अहम है। उन्होंने कहा कि 50 से भी ज्यादा दिनों से हमारे घरों के बाहर धरने लगे हुए हैं। लोकतंत्र में सबको अपना पक्ष रखने का अधिकार है लेकिन किसी की प्राइवेसी को खत्म करने का अधिकार नहीं है। उन्होंने कहा कि यह सब होते हुए भी बीजेपी ने संयम से काम लिया ताकि इस आंदोलन की आड़ में जो लोग पंजाब का वातावरण खराब करना चाहते हैं उन्हें मौका ना मिले। उन्होंने कहा कि हमारा कार्यकर्ता सबकुछ सह रहा है। पंजाब का वातावरण खराब करने की जो लोग कोशिश कर रहे हैं वह ऐसी भाषा बोल रहे हैं जो उस वक्त बोली जाती थी जब पंजाब का वातावरण खराब था। उनके मंसूबे कामयाब न हों इसलिए हम चुप बैठे हैं। बीजेपी नेता ने उम्मीद जताई कि किसान यूनियन सारे षडयंत्रों को समझेंगी और बातचीत के जरिए सुखद हल निकलेगा। उन्होंने कहा कि यही पंजाब के, पंजाबियत के और अमन-शांति के हित में है।

अपने दम पर चुनाव लड़ने में सक्षम

चुनाव से पहले क्या यह माहौल बीजेपी को परेशान कर रहा है? इस सवाल पर शर्मा ने कहा कि परेशान कर रहा है क्योंकि पंजाब ने बहुत संताप सहा है। बहुत लोगों ने बलिदान दिया तब पंजाब में अमन आया। उन्होंने कहा कि हमें आंदोलन परेशान नहीं कर रहा क्योंकि यह लोकतांत्रित अधिकार है। आंदोलन के भीतर जो घुसपैठ हुई है, जो पंजाब की शांति भंग करना चाहते हैं, हमें वह परेशान कर रहा है। उन्होंने कहा कि चुनाव बीजेपी अपने दम पर लड़ने में पूरी तरह सक्षम है। शर्मा ने कहा कि भले ही बीजेपी 23 सीटों पर चुनाव लड़ती थी लेकिन सभी 117 सीटों पर चुनाव लड़ाती थी। जहां हमारे सहयोगी चुनाव लड़ते थे वहां भी बीजेपी का सांगठनिक ढांचा है। इसलिए चुनाव लड़ने या लड़ाने में कोई अंतर नहीं आएगा। पंजाब बीजेपी के अध्यक्ष अश्विनी शर्मा ने कहा कि पंजाब की कांग्रेस सरकार अपनी चार साल की नाकामी को छुपाने के लिए भड़काने का काम कर रही है।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *