GHMC Election Result 2020 : हैदराबाद जीत से बीजेपी बना रही 2023 चुनाव का प्लान, ओवैसी बोले- दूर के ढोल सुहावने

Spread the love


हाइलाइट्स:

  • ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव परिणाम के दिलचस्प विश्लेषण हो रहे हैं
  • बीजेपी प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी और AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी के बीच भी डिबेट हुई
  • त्रिवेदी ने रिजल्ट को 2023 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी के बेहतर प्रॉस्पेक्ट्स के रूप में पेश किया
  • ओवैसी ने कहा कि विधानसभा चुनाव में तीन साल हैं, तब तक सारा माजरा बदल जाएगा

नई दिल्ली
ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम (GHMC) चुनाव में अपनी सीटें 4 से बढ़ाकर 48 करने पर बीजेपी की बांछें खिली हुई हैं और वो 2023 के तेलंगाना विधानसभा चुनाव को लेकर बहुत आशान्वित है। वहीं, ऑल इंडिया मजिलस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन (AIMIM) के मुखिया और हैदराबाद से ही सांसद असदुद्दीन ओवैसी इसे बीजेपी की फौरी जीत करार दे रहे हैं। उनका कहना है कि बीजेपी ने नगर निगम चुनाव में सीटें बढ़ाकर विधानसभा चुनाव जीतने का ऐसा ख्वाब पाल लिया है जो पूरा होना नामुमकिन है।

सुधांशु त्रिवेदी और असदुद्दीन ओवैसी के बीच जबर्दस्त डिबेट

ओवैसी ने ये बातें शनिवार को एक निजी न्यूज चैनल के कार्यक्रम में कहीं। उन्होंने बीजेपी प्रवक्ता सुधांशु त्रवेदी के साथ एक डिबेट प्रोग्राम में कहा कि तेलंगाना में विधानसभा चुनाव होने में अभी तीन साल बाकी हैं, तब तक पूरा माजरा बदल जाएगा। ओवैसी ने कहा कि दूर के ढोल सुहावने लगते हैं। अभी तीन साल बाकी हैं। हमें पूरा यकीन है कि हिंदू-मुस्लिम, हिंदू-मुस्लिम का नेगेटिव कैंपेन हमेशा काम नहीं करेगा। यह कॉस्मोपॉलिटन सिटी है। 10-12 महीने में पता चल जाएगा कि क्या हो रहा है यहां पर।

पढ़ें, GHMC Election में बीजेपी की 12 गुना लंबी छलांग, देखें हैदराबाद का नक्शा कितना हो गया ‘भगवा’

ओवैसी ने बताया- 2023 चुनाव में कैसे टांय-टांय फिस्स होगी बीजेपी
ओवैसी का कहना है कि हैदराबाद कॉस्मोपॉलिटन सिटी है, यहां की जीत से पूरे तेलंगाना का हाव-भाव मत आंकिए। उन्होंने कहा कि तेलंगाना के मेन लैंड में एक रीजनल फीलिंग है। यानी, प्रदेश की जनता में स्थानीयता के प्रति गहरा लगाव है। चूंकि बीजेपी एक नैशनल पार्टी है, इसलिए वो रीजनल फीलिंग का मुकाबला नहीं कर पाएगी।

सुधांशु त्रिवेदी का ओवैसी को करारा जवाब

ओवैसी की इन टिप्पणियों के जवाब में बीजेपी प्रवक्ता ने कहा कि उनकी पार्टी को प्रदेश में सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति (TRS) के सिवाय कांग्रेस पार्टी के वोटरों का भी समर्थन मिला, यह तो खुद ओवैसी भी मान रहे हैं। उनका कहना था कि टीआरएस, कांग्रेस और एआईएमआईएम, तीनों दल बीजेपी के खिलाफ एकजुट थे, फिर भी बीजेपी ने अपना प्रदर्शन 11 गुना बढ़ा लिया। इसी से पता चलता है कि 2023 के विधानसभा चुनाव में क्या होगा।

पढ़ें, ग्रेटर हैदराबाद निगम चुनाव में बीजेपी ने चौंकाया, TRS को बड़ा झटका

हैदराबाद नगर निगम में बीजेपी की 11 गुना बढ़ीं सीटें

ध्यान रहे कि शुक्रवार को जीएचएमसी इलेक्शन के रिजल्ट में बीजेपी के खाते में 48 सीटें गईं जिसके पास सिर्फ चार सीटें थीं। इस लिहाज से बीजेपी ने 150 सीटों वाली हैदराबाद नगर निगम चुनाव में बड़ी छलांग लगाई है। वहीं, ओवैसी की पार्टी के पास पिछली बार की तरह 44 सीटें ही आईं। वहीं 55 सीटें लेकर टीआरएस सबसे बड़े और कांग्रेस दो सीटों के साथ सबसे छोटे दल के रूप में उभरी।

बीजेपी की नजर 2023 के विधानसभा चुनाव पर

बीजेपी ने जीएचएमसी इलेक्शन के प्रचार अभियान में केंद्रीय मंत्री अमित शाह, यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत दिग्गज नेताओं की फौज खड़ी कर दी थी। पार्टी को लगता है कि इस चुनाव से पूरे तेलंगाना की जनता को एक संदेश जाएगा कि उनके लिए टीआरएस और एआईएमआईएम का मजबूत विकल्प बीजेपी और सिर्फ बीजेपी ही हो सकती है क्योंकि कांग्रेस प्रदेश में लगातार कमजोर हो रही है।

हैदराबाद में शानदार प्रदर्शन को बीजेपी ने कहा ‘नैतिक जीत’, जेपी नड्डा ने बताया आगे का टारगेट



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *