Jammu-Kashmir News: कश्मीर में BJP की नब्ज टटोलने आए हैं राम माधव, दौरे के क्या मायने, समझिए

Spread the love


हाइलाइट्स:

  • बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव दो दिन के जम्मू-कश्मीर दौरे पर
  • कश्मीर में संगठन को मजबूत करने के लिए कार्यकर्ताओं की होगी मीटिंग
  • कश्मीर में आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद की स्थिति की टोह लेंगे माधव

गोविंद चौहान, श्रीनगर
भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव गुरुवार को कश्मीर के दौरे पर पहुंचे। एक माह के दौरान उनका यह दूसरा दौरा है, जिसमें वह कश्मीर में बीजेपी के नेताओं के साथ मुलाकात करने वाले हैं। इन बैठकों में नेताओं की सुरक्षा को लेकर बातचीत के अलावा प्रदेश में राजनीति को लेकर चर्चा होगी। इसके अलावा संगठन को कश्मीर में मजबूत करने पर भी जोर दिया जाएगा। इस दौरे को लेकर कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं क्योंकि इन दिनों एडवाइजरी कौसिंल तथा उपराज्यपाल के सलाहकार बनाने की भी चर्चा है।

जानकारी के अनुसार राम माधव सुबह श्रीनगर पहुंचे। वह करीब साढ़े नौ बजे एयरपोर्ट पर पहुंचे। वहां से सीधा श्रीनगर के सर्किट हाउस में चले गए। दोपहर बाद उनकी बैठकों का दौर शुरु होगा। जम्मू से महासचिव संगठन अशोक कौल, कश्मीर प्रभारी विबोध गुप्ता को बुलाया गया है। बताया गया कि जम्मू से स्थानीय नेताओं को बैठक के लिए बुलाया गया है। दोपहर बाद वह कश्मीर में पहुंच जाएंगे। जिसके बाद बैठकों का दौर दो दिनों तक जारी रहेगा।

सूत्रों का कहना है कि बीजेपी के प्रदेश के नेताओं को उनके दौरे के बारे में पहले सूचित नहीं किया गया था। एक दिन पहले ही उन्हें सूचना दी गई। इसके बाद एकदम से उन्हें कश्मीर में बुलाया गया है। राम माधव इस दो दिनों के दौरे के दौरान कश्मीर की नब्ज टटोलने के लिए आए हैं। जिसमें वह कश्मीर में संगठन की गतिविधियों के बारे में पूरी जानकारी जुटाने वाले हैं। बीजेपी के नेताओं पर हुए हमलों के बाद सुरक्षा इंतजामों की जानकारी लेंगे।

इसके अलावा आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद एक साल के अंदर प्रदेश की एक स्थिति की एक रिपोर्ट भी तैयार करेंगे। इससे पहले 8 जुलाई को राम माधव कश्मीर आए थे। उस समय वह वसीम बारी की हत्या के बाद उनके परिजन के साथ मिले थे। इसके अलावा कश्मीर में नेताओं के साथ बैठक की गई थी। एक माह में दूसरे दौरे को लेकर प्रदेश के नेताओं में चर्चा शुरु हो गई है क्योंकि आने वाले दिनों में प्रदेश में बदलाव होने वाले हैं। अडवाइजरी कौसिंल का गठन होना है, जिसके लिए दिल्ली में बात हो चुकी है। नेताओं के साथ बैठक भी हो चुकी है।

बीजेपी की प्रदेश टीम की तरफ से इसका विरोध भी किया गया था। प्रदेश बीजेपी के नेताओं ने कहा कि अडवाइजरी कौंसिल में बीजेपी के नेताओं को ज्यादा जगह मिले। उसके बाद प्रदेश बीजेपी के नेताओं को दिल्ली में भी बुलाया गया था। इसके हिसाब से यह दौरा अहम माना जा रहा है।

बीजेपी के नेताओं का इस्तीफा
कश्मीर में बीजेपी के नेताओं को निशाने बनाने के बाद कई नेताओं ने इस्तीफा दिया था। करीब 50 से अधिक नेता इस्तीफा दे चुके हैं। इससे कश्मीर में बीजेपी की साख गिर रही है। ऐसे में इस साख को मजबूत करने के लिए बैठकें हुई थीं। ताकि नेताओं को इस्तीफा देने से रोका जा सके।

सुरक्षा में है बीजेपी नेता

कश्मीर में बीजेपी के नेताओं को इस समय पुलिस के सुरक्षा विंग ने सुरक्षित जगहों पर रखा हुआ है। केन्द्र की तरफ से पुलिस के आला अधिकारियों के साथ बात की गई थी। इसके बाद दर्जनों नेताओं को सुरक्षित जगहों पर शिफ्ट किया गया था। ताकि उन्हें हमलों से बचाया जा सके।

कश्मीर पर पैनी नजर रखने वाले वरिष्ठ पत्रकार दिनेश मनोत्रा ने कहा कि कश्मीर में बीजेपी के नेताओं की लगातार हत्या हो रही है। पंचायत के चुनावों में कश्मीर में आतंकियों की तरफ से धमकी दी गई थी। इसके बावजूद बीजेपी के नेताओं ने चुनाव लड़ा था। अब आतंकी उन्हें निशाना बना रहे हैं। इसके बाद कश्मीर में इस्तीफे का दौर शुरु हो गया है। इस मामले पर चर्चा अहम होगी क्योंकि दिल्ली में बैठे बीजेपी के बड़े नेता कश्मीर में बीजेपी को मजबूत करना चाहते हैं। इसके अलावा बाकी मामलों पर भी चर्चा होगी। एक तरह से राम माधव का दौरा बीजेपी के कश्मीर नेताओं का मनोबल बढ़ाने के लिए है।

पत्रकार विनोद कुमार का कहना है कि अडवाइजरी कौसिंल का गठन होना है। इस बात को लेकर कई दिनों से चर्चा चल रही है। इसी मामले पर चर्चा करने के लिए राम माधव दो दिनों के दौरे पर कश्मीर आए हैं। ताकि यहां के हालात पर बात करने के बाद राष्ट्रीय अध्यक्ष तथा केन्द्र सरकार को बताया जा सके। वरिष्ठ पत्रकार उदय भास्कर का कहना है कि कश्मीर में बीजेपी के नेताओं का मनोबल बढ़ाने के लिए वह आए हैं क्योंकि कश्मीर में आतंकियों की तरफ से लगातार बीजेपी नेताओं की हत्या की जा रही है।

बीजेपी के नेता इस्तीफा दे रहे हैं। इससे बीजेपी को कश्मीर में नुकसान हो रहा है। उन्हें मजबूत करने के लिए माधव बैठक करने वाले हैं। उनकी सुरक्षा को लेकर बात की जाएगी। जिससे कश्मीर में पार्टी की साख को मजबूत किया जा सके। इसके लिए राष्ट्रीय अध्यक्ष तथा पार्टी के बाकी नेताओं की तरफ से माधव को कश्मीर में भेजा गया है।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *