Kisan Andolan: एफआईआर दर्ज होने के बाद नीतीश पर भड़के तेजस्वी, कहा- हिम्मत है तो करो गिरफ्तार

Spread the love


हाइलाइट्स:

  • बगैर इजाजत धरना देने पर FIR
  • तेजस्वी, मदन मोहन झा समेत 18 नेताओं पर FIR
  • FIR दर्ज होने के बाद नीतीश पर भड़के तेजस्वी
  • कहा- दम है तो गिरफ्तार करो


पटना:

किसान आंदोलन के समर्थन में RJD के बगैर इजाजत धरने के बाद प्रशासन ने भी एक्शन ले लिया। इसी को लेकर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा समेत 18 बड़े नेताओं पर केस दर्ज किया गया है। इनमें विधायक आलोक मेहता, रामानंद यादव, पूर्व मंत्री श्याम रजक, रमई राम, पूर्व विधायक शक्ति सिंह यादव ऊर्फ अत्रिमुनि, मृत्युंजय तिवारी, अनिल कुमार, रामबली यादव, सुबोध कुमार यादव, उमिर्ला ठाकुर, अनिता देवी, कांग्रेस नेता मदन मोहन झा, अनिल शर्मा, केडी यादव, चंदेश्वर सिंह, रामनरेश पांडेय भी शामिल हैं। इन सभी पर IPC की धारा 188, 145, 269, 279 और 3 महामारी एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है।

केस दर्ज होने के बाद CM नीतीश पर भड़के तेजस्वी
प्रशासनिक कार्रवाई को भी तेजस्वी ने सियासी मुद्दा बना लिया है। केस होने के बाद भड़के तेजस्वी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को ट्वीट कर चुनौती दी है। उन्होंने ट्वीट किया है कि ‘डरपोक और बंधक मुख्यमंत्री की अगुवाई में चल रही बिहार की कायर और निक्कमी सरकार ने किसानों के पक्ष में आवाज उठाने के जुर्म में हम पर FIR दर्ज किया है। दम है तो गिरफ्तार करो, अगर नहीं करोगे तो इंतजार करने के बाद मैं स्वयं गिरफ्तारी दूंगा। किसानों के लिए FIR क्या अगर फांसी भी देनी है तो दे दीजिए।’ देखिए तेजस्वी का वो ट्वीट…

ये है पूरा मामला
दरअसल दिल्ली बॉर्डर पर डटे किसानों के समर्थन में RJD भी कूद पड़ी है। इसी कड़ी में 4 दिसंबर को RJD ने ऐलान किया कि महागठबंधन के नेता तेजस्वी यादव के साथ पटना के गांधी मैदान में गांधी मूर्ति के नीचे 5 दिसंबर को धरना देंगे। तय वक्त यानि 5 दिसंबर की सुबह 10 बजे तेजस्वी यादव और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा के साथ महागठबंधन के कई नेता गांधी मैदान पहुंच भी गए। लेकिन प्रशासन ने कोरोना महामारी समेत कई दिक्कतों का हवाला देते हुए गांधी मैदान में प्रदर्शन पर रोक लगा दी। इसके बाद तेजस्वी समेत ये सभी नेता गांधी मैदान के गेट पर ही धरने पर बैठ गए। इसी को लेकर प्रशासन ने तेजस्वी यादव और मदन मोहन झा समेत 18 नेताओं पर केस दर्ज किया है।

इससे पहले सदन में नीतीश ने तेजस्वी को दिखा दिया था अपना रौद्र रुप
कुछ दिन पहले ही विधानसभा से 5 दिनों के शीतकालीन सत्र के आखिरी दिन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने तेजस्वी को अपना रौद्र रुप दिखा दिया था। दरअसल विधानसभा में तेजस्वी ने शब्दों की मर्यादा लांघते हुए यहां तक कह दिया था कि नीतीश कुमार ने दूसरी संतान सिर्फ बेटी पैदा होने के डर से नहीं जन्माई। इस दौरान तेजस्वी ने नीतीश कुमार पर आपत्तिजनक टिप्पणी तक कर डाली थी।

तेजस्वी के मर्यादा लांघने पर CM नीतीश ने दिखाया रौद्र रुप
इसके बाद जब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बोलना शुरू किया तो वो बुरी तरह से बिफरे दिखे। तेजस्वी को नीतीश ने चार्जशीटेड और इशारों में अनुकंपा वाला उपमुख्यमंत्री तक बता दिया। नीतीश यहीं नहीं रुके, उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष विजय सिन्हा से तेजस्वी के आरोपों की जांच कराने और झूठा पाए जाने पर कार्रवाई की मांग भी कर दी। इसके बाद विधानसभा में जमकर हंगामा शुरू हो गया। हाल ये था कि सदन को आधे घंटे तक के लिए स्थगित करना पड़ गया।
देखिए नीतीश के गुस्से का वो वीडियो…

बिहार विधानसभा: सदन में नीतीश का रौद्र रुप, तेजस्वी ने मर्यादा लांघी तो CM ने भरी सभा में शब्दों से ही रगड़ दिया

tejashwi yadav



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *