Kisan Andolan: दादी पर ट्वीट कर घिर गईं कंगना रनौत, बीजेपी प्रवक्ता ने भी साधा निशाना, कहा- आपको माफी मांगनी चाहिए

Spread the love


नई दिल्ली
कृषि कानून के विरोध में किसानों का आंदोलन (Kisan Andolan) लगातार जारी है। वहीं इस मुद्दे पर बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत (Kangana Ranaut)ने भी ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने किसानों आंदोलन का न केवल विरोध किया बल्कि इस आंदोलन में शामिल होने वाली एक बुजुर्ग दादी के बारे में कुछ बातें कहीं। हालांकि, बाद में इस पर विवाद बढ़ा तो उन्होंने अपना ये ट्वीट डिलीट कर दिया। बावजूद इसके उनके इस ट्वीट पर घमासान तेज होता जा रहा है। कई सेलिब्रिटिज ने उनके ट्वीट पर पलटवार किया। वहीं अब बीजेपी नेता और पार्टी के एक राष्ट्रीय प्रवक्ता ने भी कंगना पर निशाना साधा है।

बीजेपी प्रवक्ता आरपी सिंह ने ट्वीट कर कंगना को घेरा
बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता आरपी सिंह ने अपने ट्वीट में कंगना रनौत से सार्वजनिक तौर पर माफी मांगने के लिए कहा है। उन्होंने लिखा, ‘मैं आपके साहस और एक्टिंग के लिए आपका सम्मान करता हूं, लेकिन मैं अपनी मां का अपमान करने या उन्हें अपमानित करने के लिए किसी को स्वीकार नहीं करूंगा। ऐसा करने के लिए आपको सार्वजनिक रूप से माफी मांगनी चाहिए।’


आरपी सिंह ने कहा- आपको सार्वजनिक रूप से माफी मांगनी चाहिए
बीजेपी प्रवक्ता आरपी सिंह ने ये बातें कंगना के उस ट्वीट का स्क्रीनशॉट शेयर करते हुए लिखीं जिसमें उन्होंने बुजुर्ग दादी को लेकर टिप्पणी की थी। इसमें उन्होंने आरोप लगाया कि ‘शाहीन बाग की दादी’ भी नए कृषि कानूनों को लेकर किसानों के आंदोलन से जुड़ गई हैं। उन्होंने अपने ट्वीट में कहा कि ‘टाइम’ पत्रिका में जगह बना चुकी वही दादी ‘100 रुपये में उपलब्ध’ हैं। हालांकि, कई खबरों में दावा किया गया कि दोनों महिलाएं अलग-अलग हैं।

इसे भी पढ़ें:- किसान आंदोलन को लेकर किए गए ट्वीट पर बढ़ी कंगना की मुश्किल, भेजा गया कानूनी नोटिस

कंगना को भेजा गया कानूनी नोटिस
दूसरी ओर कंगना के किसान आंदोलन और दादी को लेकर किए गए ट्वीट पर उन्हें कानूनी नोटिस भी भेजा गया है। दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक समिति के सदस्य जस्मैन सिंह नोनी की ओर से वकील हरप्रीत सिंह होरा ने यह नोटिस भेजा है। नोटिस में कहा गया है कि जब मुंबई में कंगना रनौत के परिसर के एक हिस्से को ढहाया गया तो उन्होंने अपने प्रशंसकों को एकजुट करने के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल किया। उस समय उन्होंने कहा कि निगम की कार्रवाई उनके मौलिक अधिकारों पर हमला है। इसी तरह संविधान के तहत किसानों को भी शांतिपूर्ण प्रदर्शन का अधिकार है और वह किसानों का अपमान नहीं कर सकती हैं।

किसान आंदोलन: न्यूनतम समर्थन मूल्य पर लिखित आश्वासन काफी नहीं

दादी को लेकर कमेंट पर कंगना की बढ़ी मुश्किलें
कानूनी नोटिस में बुजुर्ग दादी को लेकर कहा गया कई खबरों में दावा किया गया कि दोनों महिलाएं अलग-अलग हैं और अगर नहीं भी हैं तो उन्हें अपनी राजनीति चमकाने के लिए किसी बुजुर्ग महिला को अपमानित करने का अधिकार नहीं है। यह साफ तौर पर नफरत फैलाने वाला ट्वीट है और जल्द से जल्द इस पर कदम उठाए जाने की जरूरत है।



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *