NEET-JEE परीक्षा: छात्रों का कल से देशव्यापी धरना, विपक्षी दल भी परीक्षा रुकवाने को हुए लामबंद

Spread the love


हाइलाइट्स:

  • NEET-JEE परीक्षा के विरोध में विपक्ष भी हुआ लामबंद
  • सोनिया गांधी और ममता बनर्जी ने आज विपक्षी दलों के सीएम संग करेंगी बैठक
  • बता दें कि JEE की परीक्षा 1-6 सितंबर के बीच होनी हैं जबकि NEET परीक्षा 13 सितंबर को होगी

नई दिल्ली
राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (NEET) और संयुक्त प्रवेश परीक्षा (JEE) टलवाने के लिए अब कांग्रेस समेत कई राजनीतिक दल साथ आ गए हैं। इस बीच, नैशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) के इन परीक्षाओं के आयोजन की तैयारी शुरू करने की खबरों के बाद देशभर के छात्र इसका विरोध करने वाले हैं और कल से देशव्यापी धरने पर बैठेंगे। बढ़ते विरोध के बीच सरकार परीक्षा की तारीखों पर विचार कर सकती है। बता दें JEE की परीक्षा 1 से 6 सितंबर के बीच होगी और NEET की परीक्षा 13 सितंबर को कराई जाएगी।

विपक्षी दलों के सीएम की होनी है बैठक
NEET और JEE परीक्षा रुकवाने के लिए सरकार पर दबाव बनाने को कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी और पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने आज विपक्षी पार्टियों की सीएम की बैठक बुलाई है। हालांकि कहा जा रहा है कि महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे इस बैठक में शामिल नहीं होंगे।

मुझे लगता है कि केंद्र सरकार देश की जमीनी स्थिति के प्रति आंख बंद करके बैठी है। जिस व्यवस्था के दम पर आप 28 लाख बच्चों को मजबूर कर रहे हैं कि परीक्षा केंद्र में आएं, उस व्यवस्था (प्रोटोकॉल) को लागू करते हुए बहुत लोगों को कोरोना हो चुका है।

NEET और JEE परीक्षा पर मनीष सिसोदिया


ममता ने पीएम मोदी से किया था आग्रह

ममता ने मंगलवार को पीएम नरेंद्र मोदी से आग्रह किया था कि केंद्र को सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दाखिल करनी चाहिए। बता दें कि शीर्ष अदालत ने कोरोना महामारी के दौरान NEET और JEE परीक्षा करवाने का आदेश दिया है।

आपका वोट दर्ज हो गया है।धन्यवाद


एलजेपी भी परीक्षा के विरोध में

एनडीए की सहयोगी लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) भी कोरोना महामारी के बीच परीक्षा कराए जाने के खिलाफ है। पार्टी के नेता चिराग पासवान ने शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक को पत्र लिखकर परीक्षा टलवाने की मांग की थी। दिल्ली सरकार ने भी सरकार से इस परीक्षा को महामारी के दौरान नहीं करवाने का आग्रह किया है।

‘80% छात्रों ने डाउनलोड किए एडमिट कार्ड’

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि अबतक 80 प्रतिशत छात्र NTA JEE Mains 2020 परीक्षा के लिए एडमिट कार्ड डाउनलोड (
NEET 2020 Admit Card) कर लिए हैं। उन्होंने कहा कि इसका मतलब है कि छात्र परीक्षा देने को तैयार हैं। कुल पंजीकृत 8.58 लाख छात्रों में से 7.25 लाख छात्रों ने एडमिट कार्ड डाउनलोड कर लिया है।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने NEET और JEE की परीक्षा स्थगित करने वाली याचिका खारिज कर दी थी। कोर्ट ने कहा था कि कोरोना के कारण छात्रों का कीमती साल बर्बाद नहीं होने दे सकते हैं। बता दें कि ये दोनों परीक्षा 1-6 सितंबर के बीच होनी है।

केंद्र ने परीक्षा केंद्रों की लिस्ट भी जारी की

NTA ने साफ किया है कि परीक्षा को और नहीं टाला जा सकता है और NEET और JEE मेन परीक्षा निर्धारित तारीख को ही होगी। इस बीच, JEE और NEET परीक्षाओं के लिए कल देर रात केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने राज्यवार परीक्षा केंद्रो की लिस्ट भी जारी कर दी है। शिक्षा मंत्रालय की ओर से जारी लिस्ट में JEE परीक्षा केंद्र को 570 से बढ़ाकर 660 कर दिया गया है जबकि NEET परीक्षा केंद्र को 2846 से बढ़ाकर 3843 कर दिया गया है।

सुप्रीम कोर्ट ने दिया था परीक्षा कराने का आदेश

गौरतलब है कि 11 राज्यों के 11 छात्रों ने ये परीक्षाएं स्थगित करने के अनुरोध के साथ सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court on NEET Exam) में याचिका दायर की थी। शीर्ष अदालत ने सभी का पक्ष सुनने के बाद 17 अगस्त को परीक्षा न कराने को लेकर दायर सभी याचिकाएं खारिज कर दी थी। जस्टिस अरुण कुमार मिश्रा की बेंच ने कहा था कि कोरोना वायरस के कारण देश में सब-कुछ नहीं रोका जा सकता है। कोर्ट ने तीखी टिप्पणी करते हुए कहा कि क्या देश में सब-कुछ रोक दिया जाए? और बच्चों के एक कीमती साल को यूं ही बर्बाद हो जाने दिया जाए?

कर्नाटक के स्टूडेंट मनोज का कहना है, मेरा सेंटर मेरे घर से 170 किलो दूर है। जेईई एग्जाम के लिए हमें सुबह 7 बजे सेंटर पहुंचना होता है और अभी बस-ट्रेन नहीं मिल रही है। एनटीए ने कहा है कि अगर किसी को कोविड-19 होता है तो वो जिम्मेदार नहीं होगी। कोविड-19 हो गया तो हर किसी को इलाज तक नहीं मिलेगा।

NTA परीक्षा पर छात्र

असम से स्टूडेंट देबोश्री कहती हैं, मुझे नीट के सेंटर जाने के लिए करीब 4.5 घंटे ट्रैवल करना पड़ेगा और एक जिले से दूसरे जिले में जाने के लिए ट्रांसपोर्ट नहीं है। मेरा घर खुद पानी में है। हम मुश्किल से मैनेज कर रहे हैं।

NEET परीक्षार्थी

दिल्ली की निमिशा गर्ग कहती हैं, मुझे JEE देना है। सांस की बीमारी है, कोविड के बीच कैसे मास्क लगाकर सेंटर में तीन घंटे बिताऊंगी। शिक्षा मंत्रालय को स्टूडेंट्स की फिक्र क्यों नहीं?

JEE परीक्षार्थी

बिहार के भागलपुर जिले के रहने वाले दानिश खान कहते हैं, नीट देना है मगर एग्जामिनेशन सेंटर 250 किलोमीटर दूर पटना में है। बिहार में पटना और गया दो ही जगह सेंटर है। भागलपुर जंक्शन से सिर्फ एक ट्रेन जा रही है, टिकट कैसे लूंगा? अगर मिल भी गया तो रिस्क में सफर कैसे करूंगा? सिर्फ टैक्सी से जाने का ऑप्शन है। कोविड-19 के बीच रिश्तेदार के घर में भी नहीं रह सकते, तो होटल जाना होगा। खर्च बढ़ेगा और रिस्क भी।

NEET परीक्षा देने वाले छात्र



Source link

Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *